पावटा मंडी के होलसेल सब्जी विक्रेताओं को नहीं मिली राहत

पावटा मंडी के होलसेल सब्जी विक्रेताओं को नहीं मिली राहत

Yamuna Shankar Soni | Updated: 26 Jul 2019, 09:47:12 PM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

-अगली सुनवाई 29 को

-पावटा मंडी खाली करने का मामला

जोधपुर.

पावटा सब्जी मंडी (paota subzimandi) शिफ्टिंग को लेकर एकलपीठ के निर्णय को चुनौती देते हुए दायर विशेष अपील पर शुक्रवार को राजस्थान हाईकोर्ट (rajasthan highcourt) की खंडपीठ ने कोई अंतरिम राहत नहीं दी और सुनवाई समयाभाव के चलते सोमवार के लिए टाल दी।

वरिष्ठ न्यायाधीश संगीत लोढ़ा तथा न्यायाधीश विनितकुमार माथुर की खंडपीठ में जोधपुर फल सब्जी दलाल संघ (jodhpur fruit and vegitable dalal sangh) की ओर से विशेष अपील दायर की गई है। अपीलार्थी की ओर से पैरवी करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता एमआर सिंघवी ने कोर्ट को बताया कि एकलपीठ ने 20 जुलाई को रिटेल सब्जी विक्रेताओं की याचिकाओं को स्वीकार करते हुए विस्तृत दिशा-निर्देश दिए हैं, जिनमें होलसेल व्यवसायी पक्षकार नहीं थे। उनका पक्ष सुने बिना ही सात दिन में पावटा मंडी में दुकानें खाली करने और बाद में उन्हें ध्वस्त करने के निर्देश दे दिए गए। उन्होंने कहा कि सात दिन का समय कम है और भदवासिया मंडी में कई होलसेल व्यवसायियों की दुकानों का निर्माण चल रहा है। इसका प्रतिवाद करते हुए अतिरिक्त महाधिवक्ता करणसिंह राजपुरोहित ने कोर्ट को बताया कि होलसेल व्यवसायियों को अब इस स्तर पर शिफ्टिंग का विरोध करने का कोई अधिकार नहीं है। इस संबंध में एक याचिका पिछले वर्ष ही निर्णित की जा चुकी है। कई बार नोटिस देने के बावजूद व्यवसायी शिफ्टिंग से बच रहे हैं। जबकि 80 प्रतिशत लोग भदवासिया मंडी में अपनी दुकानों का निर्माण करवा चुके हैं।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned