बालेसर में अवैध खनन से विभाग को लग रही चपत

बालेसर (जोधपुर). बालेसर खान एवं भूविज्ञान विभाग एवं प्रशासनिक अनदेखी से बालेसर खनन क्षेत्र में खान माफिया द्वारा धड़ल्ले से अवैध खनन कार्य करने से विभाग को करोड़ों रुपए का राजस्व नुकसान उठाना पड़ रहा है।

 

 

 

By: pawan pareek

Published: 21 Nov 2020, 12:21 AM IST

बालेसर (जोधपुर). बालेसर खान एवं भूविज्ञान विभाग एवं प्रशासनिक अनदेखी से बालेसर खनन क्षेत्र में खान माफिया द्वारा धड़ल्ले से अवैध खनन कार्य करने से विभाग को करोड़ों रुपए का राजस्व नुकसान उठाना पड़ रहा है।


गौरतलब है कि जोधपुर जिले में बालेसर खनन क्षेत्र प्रदेश में बलुआ पत्थर निर्यात में प्रथम हैं। बालेसर में खान एवं भूविज्ञान विभाग के तहत करीब 6 हजार जारी लाइसेंस खनन पट्टे संचालित हैं तथा करीब एक लाख से ज्यादा मजदूर इन पत्थर खदानों में मजदूरी कर रहे हैं। पत्थर की अधिकृत खदानों से विभाग एवं राज्य सरकार को करोड़ों रुपए रॉयल्टी के रूप में राजस्व आय हो रही है ।

अवैध खनन जारी

बालेसर खनन क्षेत्र में विभाग द्वारा जारी लाइसेंस एवं खनन पट्टे के अलावा विभागीय अधिकारियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों की अनदेखी के चलते बालेसर क्षेत्र में धड़ल्ले से अवैध खनन कार्य चल रहा है। बालेसर, सिहादा, खिरजा फतेहसिंह क्षेत्र में करीब 2000 ज्यादा अवैध खनन कार्य चल रहा है। पिछले कई वर्षों से खान माफिया अधिकारियों की मिलीभगत एवं राजनीतिक प्रभाव के चलते खनन विभाग को प्रतिदिन करोड़ों रुपए का राजस्व नुकसान पहुंचा रहे हैं।


खान माफिया अवैध खनन क्षेत्र में दिन-रात मशीनों के जरिए ट्रकों में भरकर पत्थर निर्यात कर रहे हैं तथा अवैध खनन अन्यत्र ले जाकर पत्थर स्टॉक कर रहे हैं। अवैध खनन कार्य से खान माफिया चांदी कूट रहे है। खनन क्षेत्र में सैकड़ों फीट गहरे गड्ढे बने हैं। लगातार अवैध खनन में खान माफिया रात्रि को बारूद से विस्फोट कर पत्थर तोड़ रहे है।

वास्तविक खान मालिक परेशान

बालेसर में अवैध खनन जारी करने से जो खान मालिक खान एवं भूविज्ञान विभाग में नियमानुसार किराया जमा करते हैं तथा पर्यावरण प्रदूषण की शुल्क जमा करते है। असली खान मालिक अवैध खनन से परेशान हैं। उनको आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है।


शिकायत का असर नहीं बालेसर के राजस्व ग्राम खिरजा फतेहसिंह एवं सिहादा क्षेत्र में ग्रामीणों ने अवैध खनन का विरोध करते हुए विभागीय अधिकारियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन सौंपकर अवैध खनन कार्य रोकने की मांग की। अधिकारियों की टीम खनन क्षेत्र में औपचारिकता करके वापस लौट जाती हैं। खिरजा फतेहसिंह गांव के पूर्व सरपंच सौभागसिंह राठौड़ के नेतृत्व में ग्रामीणों ने अवैध खनन कार्य रोकने की मांग की है।


इन्होंने कहा

बालेसर पत्थर खनन क्षेत्र में खान विभाग अधिकारियों की अनदेखी से माफिया धड़ल्ले से अवैध खनन कार्य कर रहे है। खान विभाग की सतर्कता टीम मात्र औपचारिकता पूरी कर रही हैं। इससे खान मालिकों में रोष है।

- रेवतराम सांखला , सरपंच एवं खान यूनियन प्रतिनिधि बालेसर

- ग्रामीणों की शिकायत मिली थी। हमने टीम भेजकर अवैध खनन कार्य रोकने का प्रयास किया है। टीम ने औजार एवं अन्य सामग्री भी पकड़ी थी। लेकिन जो अवैध खनन रोकने के लिए आरएसी लगाने की जरूरत है। हमने आरएसी फोर्स लगाने के लिए उच्च अधिकारियों को लिखा है। अनुमति मिलने पर अवैध खनन क्षेत्र में आरएसी फोर्स लगाएंगे।
- राकेश कुमार शेषमा, सहायक खनिज अभियंता बालेसर

pawan pareek Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned