जोधपुर. सूर्यनगरी के परकोटे के अंदर की बसावट और यहां स्थित दर्शनीय स्थलों का अलग ही आकर्षण है। यही वजह है कि सूर्यनगरी भ्रमण के लिए आने वाले कई पर्यटक शहर की संकडी गलियों में स्थित गेस्ट हाउस में ठहरना पसंद करते हैं।

लेकिन इन दिनों भीतरी शहर के दर्शनीय स्थलों का अवलोकन करने वाले पर्यटक गलियों में घूमने वाले कुत्ते और यहां-वहां खड़ी रहने वाली गायों और सांड से परेशान हैं। पिछले कुछ महीनों में कुत्ते कई सैलानियों को काट चुके हैं।

नगर निगम न लोगों की शिकायतों पर ध्यान दे रहा है और न हाईकोर्ट की ओर से लगाई गई फटकार का। यही वजह है कि जोधपुर आने वाले कई पर्यटक अपने ‘कमेंट्स’ में जोधपुर की गलियों में घूमने वाले कुत्ते, गायों और सांड को बड़ा खतरा बता चुके हैं।

फतेहपोल से जालोरी गेट तक मुख्य मार्ग और गलियों में आवारा मवेशी घूमते देखे जा सकते हैं। गूंदी मोहल्ला, मदनमोहन मंदिर, जूनी मंडी गंगश्याम मंदिर में आसपास के कई इलाकों के बुजुर्ग और महिलाएं भी दर्शन के लिए मंदिर जाते समय आवारा मवेशियों के डर से बचते-बचाते निकलते हैं।

गूंदी मोहल्ला कुछ दिन पहले ही दो सैलानियों को कुत्ते ने काट लिया। गेस्टहाउस संचालक निशा भंडारी ने बताया कि कई पर्यटक आवारा मवेशी और कुत्ते के बारे में शिकायत कर चुके हैं। भंडारी के अनुसार बुधवार को ही अमरीका व इंग्लैंड से आए पर्यटकों के लिए भंडारियों की पोल से पहले खड़ी गायों से बचकर निकलना मुश्किल हो गया। वे गायों से बचकर पर्यटक निकले तो कुत्ते ने भौंकना शुरू कर दिया।

मैंने कई बार निर्देशित किया

‘मैंने संबंधित अधिकारी को लिखित व मौखिक में कह दिया। 50 कर्मचारी व 4 ट्रोले दे रखे हंैं। इसके काम नहीं हो रहा तो कार्रवाई करने पड़ेगी। कुत्तों के बाड़े में अभी कंस्ट्रक्शन चल रहा है। काम पूरा होने के बाद कुत्ते पकडऩे के काम मेंतेजी आएगी।
- दुर्गेश बिस्सा, आयुक्त, नगर निगम

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned