scriptIntroducing man to the definition of humanity, the principles of Lord | Mahavir Jayanti 2022: महावीर जयंती आज , जानिए महावीर जयंती का महत्व , भगवान महावीर का सम्पूर्ण जीवन परिचय | Patrika News

Mahavir Jayanti 2022: महावीर जयंती आज , जानिए महावीर जयंती का महत्व , भगवान महावीर का सम्पूर्ण जीवन परिचय

मनुष्य को मनुष्यत्व की परिभाषा से परिचित करवाते हैं भगवान महावीर के सिद्धांत

जोधपुर

Published: April 14, 2022 12:05:59 pm

जोधपुर. महान दार्शनिक हेगल व महात्मा गांधी आदि दार्शनिकों ने कहा कि भारतीय संविधान में धर्मनिरपेक्षता की नीति निर्धारण में महावीर का अनेकांत व स्यादवाद दर्शन ही दृष्टिगत होता है । डॉ . अम्बेडकर ने तो यहां तक कहा कि भगवान महावीर की समन्वयात्मक दृष्टि भारतीय दर्शन के लिए बहुत बड़ी देन है । वर्तमान में जहां अशांति , अराजकता , अनीति , अत्याचार , आतंकवाद दिन - प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है , वहां महावीर के सिद्धांत जनहितकारी व सुखकारी हैं । भगवान महावीर ने संसार के प्रत्येक मानव को नीति के अनुसार कर्म करने पर जोर दिया । भगवान महावीर महज एक धर्म विशेष के तीर्थंकर ही नहीं वरन् एक जीवन दर्शन , एक जीवन पद्धति को जन्म देने वाले युग प्रवर्तक थे । अहिंसा , सत्य , आचार्य , ब्रह्मचर्य मात्र जैन धर्म के तत्व नहीं वरन् जीवन व्यवस्था के अंग हैं । महावीर के सिद्धांत मनुष्य को मनुष्यत्व की परिभाषा से परिचित करवाते हैं जो आज के मानव के लिए आवश्यक है । आज प्राणीमात्र ईर्ष्या , द्वेष , अहंकार , प्रतिशोध की अग्नि से जल रहा है , महावीर ने इन भावनाओं का शमन करने के लिए आन्तरिक भावनाओं में सरलता के साथ सकारात्मक सोच प्रदान की । भगवान महावीर ने कहा क्रोध को क्षमा , बैर को संयम , घृणा को प्रेम , तृष्णा को समता और परिग्रह को त्याग से जीतो , इसी पराक्रम को महावीर ने ' महावीर ' की संज्ञा दी है । अहिंसा के पर्याय भगवान महावीर ने वनस्पति के संरक्षण के संदेश के साथ जल , वृक्ष , अग्नि , वायु और मिट्टी में जीवत्व स्वीकार किया । जल संरक्षण व पर्यावरण संवर्धन को वर्तमान की आवश्यकता के साथ ***** जीयो और जीने दो ” का संदेश दिया । भगवान महावीर अहिंसा के संदेश वाहक थे । उनकी पवित्रता ने संसार को जीत लिया था । भगवान महावीर का अमर संदेश अर्थात् वाणी की अहिंसा गले उतर जाए तो अपनी मीठी वाणी से लोगों का मन जीता जा सकता है ।
Mahavir Jayanti 2022: महावीर जयंती आज , जानिए महावीर जयंती का महत्व ,  भगवान महावीर  का सम्पूर्ण  जीवन परिचय
Mahavir Jayanti 2022: महावीर जयंती आज , जानिए महावीर जयंती का महत्व , भगवान महावीर का सम्पूर्ण जीवन परिचय
विश्व का महत्वपूर्ण धर्म है जैन धर्म

जैनधर्म विश्व का महत्वपूर्ण धर्म है । यदि भगवान ऋषभदेव , भगवान महावीर आदि महापुरुष इस धरती पर अवतरित होकर मानव समाज में अहिंसा के युग का सूत्रपात किया । आज जनतंत्रीय शासन प्रणाली को सबसे सार्थक शासन व्यवस्था माना जाता है। भारतीय संस्कृति , सभ्यता और इतिहास को समृद्धशाली बनाने में जैन धर्म का उल्लेखनीय योगदान रहा है । वर्णवाद , जातिवाद और सम्प्रदायवाद के नाम पर मनुष्य को मनुष्य से अलग किया जा रहा है । ऐसी परिस्थिति में उपरोक्त सभी समस्याओं से छुटकारा पाने का एकमात्र उपाय यही है कि हम महावीर के सिद्धांतों को जानें और उन्हें अपने जीवन में अपनाएं ।अहिंसा और अपरिग्रह की भावना के साथ तप और त्याग की भावना अनिवार्य रूप से संबंधित है । जब तक राग द्वेष आदि मलिन वृत्तियों पर विजय प्राप्त नहीं की जाए तब तक सब व्यर्थ है । जिस अहिंसा , तप - त्याग से हम राग - द्वेष पर विजय प्राप्त नहीं कर सके वह अहिंसा तप या त्याग सब बेकार एवं आध्यात्मिक दृष्टि से अनुपयोगी है । यही कारण था कि भगवान महावीर ने वीतरागता का आग्रह किया । भगवान महावीर के सिद्धांतों को अपनाकर ही मनुष्य दानव से फिर मानव तथा भक्षक के स्थान पर रक्षक बन सकता है । अहिंसा जैन दर्शन का आधार है । अहिंसा ही जगत की माता है । अतः वर्तमान युग में जैन धर्म की प्रासंगिकता कुछ कम नहीं है । विश्वशांति की स्थापना के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण है ।
भगवान महावीर जीवन परिचय

1. च्यवन -आषाढ़ सुदी 6 ( प्राणत देवलोक से आए )

2. लंबाई -सात हाथ

3. वर्ण- पीला

4. माता एवं पिता -महारानी त्रिशला एवं वैशाली नृप सिद्धार्थ
5. चिह्न ( लांछन ) - केसरीसिंह

6. वंश / कुल / गौत्र इक्वाकुवंश / ज्ञातृ - कुल / काश्यम गोत्र

7. जन्म स्थान - बिहार प्रांत स्थित कुण्डलपुर

8. जन्म कल्याणक - चैत्र शुक्ला 13 , विक्रम पूर्व 542/30 मार्च ईपू 599 अर्द्ध रात्रि
9. देहवर्ण / देहमान / चिन्ह- सुवर्ण वर्ण / सात हाथ / केसरीसिंह

10. जन्म नाम राजकुमार वर्द्धमान

11. इन्द्र द्वारा प्रदत्त नाम महावीर के नाम से अलंकृत

12. अन्य नाम सन्मति ज्ञातपुत्र , नाणपुत्र , वीर , अतिवीर , श्रमण , मतिमान
13. भाई - -राजकुमार नंदीवर्धन , बड़ी बहन सुदर्शना

14. अन्य परिजन -चाचा सुपार्श्व , मामाः चेटक , पुत्री प्रियदर्शना , जमाता -जमाली

15. विवाह - नृप समरवीर की राजकुमारी यशोदा के साथ
16. गृहवास / कुमारावस्था : 28 वर्ष / 30 वर्ष

17. राज्यावस्था- राज्य काल नहीं

18. वर्षीदान प्रतिदिन एक करोड़ आठ लाख स्वर्ण मुद्रा / कुल 399 करोड़ एवं 80 लाख स्वर्ण मुद्रा
19. दीक्षा कल्याणक मृगसर वदी 10 ई . पूर्व . 599 विक्रम पूर्व 512 तीस वर्ष की तरुणाई में राज्य एवं समस्त वैभव का परित्याग करके अकिंचन भिक्षु बने ।

20. दीक्षा स्थल / दीक्षासमय ज्ञातृ खण्ड उद्यान में अशोक वृक्ष के नीचे मध्याह्न में ।
21. साथ में दीक्षित - कोई नहीं , अकेले

22 . तपाराधना- साढ़े बारह वर्षों में केवल 11 माह और 19 दिन आहार ग्रहण किया

23. दीक्षा तप- बेला , दो उपवास 24. दीक्षा प्रदाता ( गुरु ) - स्वयं ।
25. प्रमुख सिद्धांत सत्य , अहिंसा , अनेकांतवाद ।

26. विचरण क्षेत्र -पूर्व एवं उत्तर भारत विदेह जनपद , अंगदेश , काशीराष्ट्र , कुणालवेश , मगधंदेश आदि ।

27. दीक्षा पश्चात प्रथम परमान्न खीर ( बहुलद्विज के घर में ) पारणे का द्रव्य
28. साधना काल साढ़े बारह वर्ष

29. साधना काल में कष्ट : देव , दानव , मानव , पशुओं का उपसर्ग।

30. कैवल्योत्पत्ति- वैशाख सुदी 10 ई.पू. विक्रम पूर्व ऋजु बालिका सरिता के किनारे ( कल्याणक ) जृंंभिक नगरी के बाहर छट्ठम तप के अंतर्गत गोदुहासन में स्थित शॉल वृक्ष तले ।
31. प्रथम धर्मोपदेश - मध्यम पायापुरी ( अपापानगरी ) के पवित्र प्रांगण में

32. प्रथम देशना का विषय- यतिधर्म , गृहस्थ धर्म , गणधरवाद

33. धर्मोपदेश की भाषा -अर्द्धमागधी प्राकृत -( जनसाधारण की भाषा )34. द्वितीय देशना -आपापापुरी के महासेन उद्यान में
35. विशेषोपलब्धि- एक ही दिन में मध्यम पावापुरी नगर के प्रांगण में 4411 . मुमुक्षुओं का आर्हत् धर्म से दीक्षित करना

36. कुल चातुर्मास / प्रथम एवं अंतिम चातुर्मास / अस्थिग्राम आश्रम में प्रथम एवं हस्तिपाल राजा की राजधानी पावापुरी में अंतिम
37 प्रथम शिष्य -इन्द्रभूति- ( गौतम स्वामी )38. प्रथम शिष्या- राजकन्या, चंदन बाला

39 शिष्य परिवार -गौतम प्रमुख 14 हजार जिनमें चारों वर्ण के मुमुक्षु शिष्य रूप सम्मिलित थे ।

40. शिष्या परिवार -आर्या चंदनबाला आदि 36 हजार जिनमें सभी वर्ग की सन्नारियां एवं बालिकाएं थी ।
41. प्रमुख श्रावक- आनंद , कामदेव , सकडाल पुत्र आदि

42 श्राविका समाज -जयन्ती , सुलसा , रेवती आदि तीन लाख 18 हजार

43 .प्रमुख भक्तराजा - मगध नरेश बिंबसार ( श्रेनिक) वैशाली नरेश चेटक। अवंति नरेश चंड
44. संयम जीवन / आयुष्य -42 वर्ष / 72 वर्ष

45. निर्वाण कल्याणक- ई.पू. 527 विक्रम पूर्व 470 कार्तिक कृष्ण अमावस्या का पावापुरी में हस्तिपाल राजा की दानशाला में दो उपवास की स्थिति में पर्यकासन में उपदेश देते - देते मध्यरात्रि को निर्वाण

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

UP Budget 2022 Live : सीएम ने कहा 25 करोड़ जनता का बजट, बिजली, सिलेंडर मुफ्त, किसानों के लिए कोषमोदी सरकार के 8 साल पूरे; नोटबंदी, एयर स्ट्राइक, धारा 370 खत्म करने सहित सरकार के 8 बड़े फैसलेआयकर विभाग के कर्मचारी ने तीन- तीन लाख रुपए में बेचे कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के पेपर, शिक्षिका पत्नी के खाते में किए ट्रांसफरपाकिस्तान में गृहयुद्ध जैसे हालात, लाखों समर्थकों संग डी-चौक पहुंचे इमरान खान, लोगों ने फूंका मेट्रो स्टेशन, राजधानी में सड़कों पर सेनाउद्धव के एक और मंत्री पर ED का शिकंजा, महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब के घर प्रवर्तन निदेशालय का छापाKashmir On Alert: जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में लश्कर के 3 आतंकी ढेर, सभी सशस्त्र बलों की छुट्टियाँ रद्दBy election in Five States: पांच राज्यों की तीन लोकसभा और सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव का ऐलान, इस दिन होगी वोटिंगआज से लागू हुआ नया टैक्स रूल, 20 लाख से अधिक के लेन-देन के लिए पैन या आधार जरूरी, जानिए क्या है नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.