जोधपुर रिफ : कलाकारों ने मधुर संगीत से मोह लिया मन

MI Zahir

Updated: 12 Oct 2019, 09:01:15 AM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर. मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट ( mehrangarh museum trust ) और जयपुर विरासत फाउंडेशन ( Jaipur Heritage Foundation ) की साझा मेजबानी में सजे पांच दिवसीय रिफ ( jodhpur riff ) के दौरान देसी विदेशी कलाकारों ने मधुर संगीत से सैलानियों का मन मोह लिया। जहां शुक्रवार सुबह जसवन्तथड़ा पर रिफ डान के साथ भक्ति गीतों से शुरू हुई तो शाम को सुरमई- सुरमयी सफर में ढोलक, मंजीरा व तंदूरे आदि पारम्परिक वाद्ययंत्रों की धुनों पर भक्ति गायन ने मंत्रमुग्ध किया। कलाकारों ने प्रस्तुति से श्रोताओं को अभिभूत कर दिया। गायक भालूराम, तेजाराम व प्रभुराम मेघवाल की मधुर संगीत प्रस्तुति तथा अन्य क्षेत्रीय लोक कलाकारों की ओर से राजस्थान के संत कवियों की कविताओं पर आधारित पारम्परिक मारवाड़ी भजनों की स्वर लहरियों ने देशी विदेशी पर्यटकों को भावविभोर कर दिया।

फोर्ट फेस्टिव कार्यक्रम को सराहा

मेहरानगढ़ में शुक्रवार सुबह 10 से शाम 5 बजे तक फोर्ट फेस्टिव कार्यक्रम में पारम्परिक गेर नृत्य, चंग नृत्य और डेरू नृत्य की शानदार प्रस्तुति ने दर्शकों को लुभाए रखा। भील समुदाय की नृत्य शैली आंगी-बंगी गेर की आकर्षक प्रस्तुति ने दर्शकों को अभिभूत कर दिया।

अग्नि नृत्य ने किया रोमांचित

मेहरानगढ़ के धन्ना भीयां छतरी के पास आयोजित लिविंग लेजेंड्स में जसनाथजी के भोपों की ओर से अग्नि नृत्य की प्रस्तुति ने दर्शकों को रोमांचित कर दिया। अंगारों पर नृत्य की यह अद्वितीय परम्परा सदियों पुरानी है जिसके तहत कलाकारों की ओर से नियमित अभ्यास और इन्द्रियों पर नियंत्रण के बल पर ही इस रोमांचक नृत्य को बखूबी अंजाम दिया जाता है।

नानी के संगीत के साथ आइरिश कलाकारों की जुगलबंदी

चोखेलाव बाग में आयोजित मूडी रिफ के तहत समारोह का आगाज जोगी कालबेलिया परम्परा पर आधारित मोहिनीदेवी व सुमित्रादेवी की बुलन्द गायकी से हुआ। मुख्य मंच पर नानी नोआम वजाना के साथ पियानो वादक, गायन व संगीत की मनमोहक प्रस्तुति दी गई। मुख्य मंच पर ही दी सिटैडल्स ऑफ दी सन के तहत आइरिश लोक कलाकार सारा ई कुलेन, मार्टिन कॉयल व पॉल कटलिफ के साथ राजस्थानी लोक कलाकार असिन खान लंगा, सवाई खान व मांगणियारों की ओर से बुजुकी, यूलेनियन पाईप, सीटी, सिंधी सारंगी, ढोलक, मोरचंग, भपंग व खड़ताल पर जुगलबंदी की प्रस्तुति से दर्शकों को देर रात तक बांधे रखा। इसके बाद मलोया व रियूनियन आइसलैण्ड की क्रियोल संस्कृति का जीवंत प्रतीक मलोया की प्रस्तुति भी प्रस्तुति भी आकर्षण का केंद्र रही।

रिफ डेजर्ट लांज में गूंजा सूफियाना कलाम

दूसरे दिन रात्रि की अन्तिम प्रस्तुति रिफ डेजर्ट लांज के तहत मेहरानगढ़ की पहाडिय़ों में स्थित राव जोधा डेजर्ट रॉक पार्क में चांदनी रात में बाबूलाल जोगी व साथियों ने प्रस्तुति दी। रामपुर शेषवान घराना के दानिश हुसैन बदायूंनी ने सूफी कव्वाली की प्रस्तुति देकर धवल चांदनी रात को सुरमयी बना दिया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned