मजाक बना सम्पर्क पोर्टल, नहीं हो रहा समस्याओं का समाधान

मजाक बना सम्पर्क पोर्टल, नहीं हो रहा समस्याओं का समाधान

Amit Dave | Publish: Jul, 20 2019 09:10:08 PM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

- जीपीएफ विभाग शिकायत देखे बिना ही सम्पर्क पोर्टल पर दे रहा है गलत जवाब

- अप्रेल से जून के बीच इस विभाग में 500 से ज्यादा शिकायतें दर्ज

जोधपुर।

राज्य सरकार की ओर से आमजन व वरिष्ठ नागरिकों की समस्याओं के समाधान के लिए राजस्थान सम्पर्क पोर्टल शुरू किया गया। राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग जोधपुर शहर के कार्यालय की ओर से सम्पर्क पोर्टल पर गलत जवाब देकर इस योजना का मजाक तो उडाया ही जा रहा है, साथ ही इससे राज्य सरकार की भी बदनामी हो रही है।दरअसल सेवानिवृत कर्मचारियों को बकाया जीपीएफ व राज्य बीमा की राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है व राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर गलत व झूठे जवाब देकर कर्मचारियों को परेशान किया जा रहा है। 3 माह में 500 से ज्यादा शिकायतेंअप्रेल 2019 से जून 2019 के बीच इस विभाग में 500 से ज्यादा शिकायतें सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज हुई। दर्ज सभी शिकायतों का विभाग की ओर से एक ही जवाब दिया गया 'शिकायत से सम्बन्धित मूल आवेदन पत्र वांछित प्रमाणित दस्तावेंजों सहित भिजवावें।Ó जबकि सभी दर्ज शिकायतों में कर्मचारियों की अलग-अलग समस्याएं थी। किसी कर्मचारी का राज्य बीमा का ब्याज बकाया था, किसी की जीपीएफ राशि बकाया थी, कुछ कर्मचारी के खाता स्थानान्तरण होकर आए, कुछ के खाता स्थानान्तरण करने थे, कुछ कर्मचारियों की एम्पलोई आइडी जारी करनी थी, सभी समस्याओं का एक ही जवाब देकर शिकायत का निवारण किया जा रहा है। कई मामलों में इस विभाग द्वारा शिकायत दर्ज होने के दूसरे दिन ही गलत जवाब देकर शिकायत का समाधान कर लिया जाता है। विशेष सूत्रों से जानकारी मिली है कि इस विभाग द्वारा सम्पर्क पोर्टल पर जवाब देने के लिए अतिरिक्त स्टाफ बैठा रखा है जो केवल सम्पर्क पर गलत जवाब देता है।

--

प्रकरण 1

प्रथम बटालियन आरएसी जोधपुर से सेवानिवृत नरसिंगाराम को जीपीएफ खाता सं. 401394 में 2.75 लाख रुपए व राज्य पॉलिसी सं. 407133 में 15 हजार रुपए कम मिले। नियमानुसार दस्तावेज सहित दावा संयुक्त निदेशक राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग जोधपुर शहर में प्रस्तुत किया । भुगतान की जानकारी के लिए सम्पर्क पोर्टल पर शिकायत संख्या 06190875772581 दर्ज की। जीपीएफ विभाग जोधपुर शहर ने सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज शिकायत पर मूल वांछित दस्तावेज मांग कर लाखों रुपए का भुगतान रोक लिया। नरसिंगाराम ने सेवानिवृति से पूर्व ही जीपीएफ विभाग में सभी दस्तावेज प्रस्तुत कर दिए थे।

 

प्रकरण 2

पेपाराम पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र जोधपुर से सेवानिवृत हुए। राज्य बीमा पॉलिसी सं.319217 पर अधिक जमा प्रीमियम पर बकाया ब्याज के भुगतान के लिए १५ अप्रेल को राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग जोधपुर शहर में दावा प्रस्तुत किया। बकाया राशि के भुगतान की जानकारी के लिए राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर शिकायत सं. 06190875718391 दर्ज की। सम्पर्क पोर्टल पर मूल वांछित प्रमाणित दस्तावेज उपलब्ध कराने का जवाब मिला। पेपराम के सभी मूल दस्तावेज बीमा विभाग में ही जमा है व ब्याज के भुगतान के लिए किसी प्रकार के मूल दस्तावेज की आवश्यकता नहीं रहती।

---------

कर्मचारी की ओर से जीए-55 उपलब्ध नहीं कराया जाता है। जीए-55 उपलब्ध होते ही भुगतान कर दिया जाता है।

रविन्द्र पंवार, सहायक निदेशक (शहर)

राज्य बीमा एव प्रावधायी निधि विभाग जोधपुर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned