Kargil Vijay Diwas : शादी के बाद सिर्फ 15 दिनों की यादों के सहारे बालेसर की इस विरांगना ने गुजार लिए 20 साल

Harshwardhan Singh Bhati | Updated: 26 Jul 2019, 04:39:19 PM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

महज पन्द्रह दिन का साथ रहा कि पति देश के लिए शहीद हो गए। उनकी शहादत को 20 साल बीत गए हैं लेकिन जेहन में अभी यादों की पूरी पोटली है। सात फेरों की रस्म के एक पखवाड़े बाद ही बालेसर क्षेत्र के बालेसर दुर्गावता गांव निवासी भंवर सिंह इंदा को अवकाश निरस्त कर देश की रक्षा के लिए सीमा पर जाना पड़ा।

पेपाराम राही/बालेसर/जोधपुर. महज पन्द्रह दिन का साथ रहा कि पति देश के लिए शहीद हो गए। उनकी शहादत को 20 साल बीत गए हैं लेकिन जेहन में अभी यादों की पूरी पोटली है। सात फेरों की रस्म के एक पखवाड़े बाद ही बालेसर क्षेत्र के बालेसर दुर्गावता गांव निवासी भंवर सिंह इंदा को अवकाश निरस्त कर देश की रक्षा के लिए सीमा पर जाना पड़ा। वहां पन्द्रह दिन तक करगिल युद्ध में मुस्तैद रहे और 28 जून 1999 को दुश्मनों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए। उम्र थी महज 22-23 साल। उस समय पूरा प्रशासनिक लवाजमा उमड़ा। जनप्रतिनिधि भी धोक देने पहुंचेए लेकिन समय की बढ़ती रफ्तार के साथ ही यह सब कुछ पीछे छूटता गया। लेकिन वीरांगना और शहीद के माता.पिता आज भी भारत माता के उस सपूत को याद कर गौरवान्वित महसूस करते हैं।

पत्नी के हाथों की मेहंदी सुर्ख थी, लेकिन पुकार रहा था देश, शादी के 15 दिन बाद ही ये वीर मोर्चे पर हो गया तैनात और...

बकौल इन्द्र कंवर उस समय 15 दिनों के साथ के बाद बिछुडऩे का गम तो है लेकिन जब लोग कहते हैं कि देखो यह शहीद की पत्नी है, वीरांगना है... तो एक अलग ही सम्मान महसूस होता है। पन्द्रह दिनों के साथ के दौरान भी शहीद ने देशभक्ति को लेकर काफी बताया। तब गर्व हुआ कि पति फौज में है। अब तो फक्र होता है जब कोई शहीद की शहादत को नमन करता है।

कोणार्क युद्ध स्मारक पर शहीदों को अर्पित की श्रद्धांजलि, विमानों से बनाया मिसिंग मैन फॉरमेशन

छुट्टी छोड़ बीच में जाना पड़ा
शेरगढ़ इलाके के कई लोग सेना में है। हालांकि भंवर सिंह के परिवार से कोई सेना में नहीं था लेकिन मन में देशभक्ति की भावना हिलोरें लेती रहती थी। जब भी कहीं सेना भर्ती रैली की सूचना मिलती, भंवर सिंह वहां पहुंच जाते। आखिरकर एक सेना भर्ती में उनका चयन हो गया। उन्हें 27 राजपूत राइफल्स में भर्ती किया गया। बेटा सेना में नौकरी लग गया तो परिजनों ने शादी की बात चलाई। रिश्ता पक्का कर भंवर सिंह को गांव बुलाया। वे एक माह के अवकाश पर आए। शादी को पन्द्रह दिन ही बीते थे कि करगिल युद्ध की सूचना मिली और अवकाश निरस्त कर लौटना पड़ा। बाद में भंवर सिंह तिरंगे में लिपटकर गांव पहुंचे।

कारगिल युद्ध में शहीद कालूराम की विरांगना ने बालिका शिक्षा को बनाया मिशन, गांव के बच्चों पर खर्च की पैकेज की राशि

तब पैकेज मिला, अब भूल गए
शहीद के भाई करण सिंह इंदा ने बताया कि राज्य व केन्द्र सरकार की ओर से शहीद पैकेज मिला था। बाद में राजस्थान पत्रिका की तरफ से 50 हजार रुपए की सहायता राशि मिली। शहीद के नाम बीकानेर में एक मुरब्बा आवंटित हुआ था। शहीद की शहादत को नमन करने के कुछ दिन तक तो जनप्रतिनिधि व प्रशासनिक अधिकारी आते थे लेकिन धीरे-धीरे भूल गए। अब तो शहीद परिवार के छोटे-बड़े कार्यों पर भी ध्यान नहीं देते हैं।

एयरफोर्स स्टेशन पर सुखोई का एरोबेटिक डिस्पले देख हैरान हुए दर्शक, कारगिल दिवस पर हो रहे विशेष कार्यक्रम

शहीद स्मारक नहीं, क्षतिग्रस्त सडक़
शेरगढ़ विधानसभा क्षेत्र में बालेसर दुर्गावता निवासी शहीद भंवर सिंह इंदा करगिल युद्ध के प्रथम शहीद हैं। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय का शहीद भंवर सिंह इंदा के नाम से नामकरण हुआ है। शहीद के घर तक जाने के लिए वर्षों पूर्व ग्रेवल सडक़ बनी थी, जो अब क्षतिग्रस्त है। पेयजल के लिए एक हैंडपंप लगाया गया था जो अब खराब है। वर्तमान में शहीद की वीरांगना जहां रहती हैं। वहां विद्युत कनेक्शन तक नहीं है। अंधेरे में वीरांगना व उनका परिवार रह रहा है। शहीद के नाम से पेट्रोल पंप एवं गैस एजेंसी आवंटन के लिए प्रयास किए थे लेकिन आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला। शहीद स्मारक के लिए भी खूब भागदौड़ की लेकिन कुछ नहीं हुआ। थक हारकर शहीद के परिजनों ने ही घर के पास निजी खर्चे से स्मारक बनवाया।

जोधपुर का लाल तिरंगा लहराकर बनाएगा रिकॉर्ड

माता-पिता के जेहन में आज भी शहादत का वो दिन
शहीद के बुजुर्ग माता-पिता आज भी अपने शहीद बेटे को याद करते हैं। लाडले सपूत भंवर सिंह को याद करते ही उनकी आंखों में आंसू छलक पड़ते हैं। साथ ही गर्व महसूस करते हैं कि उनका लाडला सपूत देश की सीमा पर शहीद हुआ है। शहीद भंवर सिंह के 6 भाई एवं एक बहन है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned