मां उष्ट्रवाहिनी मंदिर में विराजे हैं काशी विश्वानाथ, साथ होती है हिंगलाज माता की पूजा-अर्चना

मां उष्ट्रवाहिनी मंदिर में विराजे हैं काशी विश्वानाथ, साथ होती है हिंगलाज माता की पूजा-अर्चना

Harshwardhan Singh Bhati | Updated: 12 Aug 2019, 12:11:42 PM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

चांदपोल दरवाजे के बाहर सिद्धपीठ रामेश्वर धाम के सामने पुष्करणा ब्राह्मणों की कुलदेवी उष्ट्रवाहिनी और आद्य शक्ति हिंगलाज माता मंदिर में काशी विश्वनाथ नर्बदेश्वर नीलकंठ भी विराजित हैं। यह मंदिर करीब 200 वर्ष प्राचीन है।

जोधपुर. चांदपोल दरवाजे के बाहर सिद्धपीठ रामेश्वर धाम के सामने पुष्करणा ब्राह्मणों की कुलदेवी उष्ट्रवाहिनी और आद्य शक्ति हिंगलाज माता मंदिर में काशी विश्वनाथ नर्बदेश्वर नीलकंठ भी विराजित हैं। यह मंदिर करीब 200 वर्ष प्राचीन है। श्रावण मास में यहां नित्याभिषेक होता है। मंदिर प्रांगण में शिव परिवार सहित संकट हरण हनुमान मंदिर, नृसिंह, लक्ष्मीनारायण, भैरवनाथ मंदिर भी है। श्रावण शुक्ल त्रयोदशी को मंदिर का पाटोत्सव मनाया जाता है। मंदिर में देवी उष्ट्रवाहिनी ऊंट पर सवार और हिंगलाज माता की अश्वारूढ़ प्रतिमा है।

जोधपुर ब्याही उदयपुर की राजकुमारी के आराध्य रहे हैं इकलिंग महादेव, भूतेश्वर वन क्षेत्र में हैं स्थापित

बताया जाता है कि देवी मूर्तियां जोधपुर के भीतरी शहर नवचौकियां मोहल्ले की बगेची से लाकर प्रतिष्ठित की गई थी। प्रतिमाओं के बीच लेख से सिद्ध होता है कि मंदिर विक्रम संवत 1877 तदनुसार 1820 में महाराजा मानसिंह के राज्यकाल में बनवाया गया होगा। मंदिर से जुड़े गुरु गोविन्द कल्ला ने बताया कि प्राचीन मंदिर में पहले समाज की न्यात पंचायत हुआ करती थी। मंदिर के विकास के लिए न्यात में भी यह निश्चित किया गया था कि प्रत्येक पुष्करणा ब्राह्मणों के परिवार में मांगलिक आयोजन होने पर मंदिर में कुछ ना कुछ भेंट दी जाएगी ताकि मंदिर का विकास हो सके।

टेलीफोन ऑफिस के पास बनाया शिव मंदिर और नाम कहलाया दूरसंचारेश्वर महादेव मंदिर

मां उष्ट्रवाहिनी शोभायात्रा आज
पुष्करणा समाज की कुलदेवी मां उष्ट्रवाहिनी के प्राकट्य दिवस की पूर्व संध्या पर सोमवार शाम शोभायात्रा आयोजित की जाएगी। शोभायात्रा शाम 6 बजे फतेहपोल से नवचौकिया, जूनी मंडी, आडा बाजार, जालोरी गेट होते हुए गोल बिल्डिंग के पास जबरेश्वर महादेव मंदिर पर विसर्जित होगी। शोभायात्रा समिति के संयोजक गोविन्द राजपुरोहित ने बताया कि उष्ट्रवाहिनी की पूजा अर्चना कर शोभायात्रा को हरी झंडी दिखाई जाएगी। शोभायात्रा के मार्ग में वरिष्ठजनों का सम्मान किया जाएगा। मां उष्ट्रवाहिनी महोत्सव समिति के तत्वावधान में रविवार को सुमेर पुष्टिकर स्कूल में नंदा बोहरा के सान्निध्य में मेहंदी तथा रंगोली प्रतियोगिता में पुष्करणा समाज की बालिकाओं तथा महिलाओं ने भाग लिया था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned