महिला पटवारी ने एक लाख रुपए रिश्वत ली, एसीबी को देख रुपए फेंके

- खान ट्रांसफर करने के लिए आवश्यक मौका रिपोर्ट बनाने की एवज में मांगे थे दो लाख रुपए
- मकान की पहली मंजिल से रुपए फेंके तो पड़ोसी मकान में लगी जाली में फंसे नोट

By: Vikas Choudhary

Published: 05 Aug 2021, 10:43 AM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने पत्थर की खान ट्रांसफर करने की एवज में एक लाख रुपए रिश्वत लेने पर एक महिला पटवारी को गुरुवार सुबह चौपासनी हाउसिंग बोर्ड में सेक्टर 9 स्थित मकान से रंगे हाथों गिरफ्तार किया। एसीबी को देख पटवारी ने रिश्वत राशि मकान की प्रथम मंजिल से फेंक दिए थे। जो पड़ोसी के लगी प्लास्टिक जाली में अटक गए थे।
ब्यूरो के उप महानिरीक्षक डॉ विष्णुकांत के अनुसार केरू निवासी सुरेश कुमार पुत्र मगाराम जाट की शिकायत पर केरू के पटवार मण्डल की पटवारी सीमा पत्नी राजीव रामावत को चौहाबो में सेक्टर 9 स्थित मकान में एक लाख रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया। रिश्वत लेने के बाद जैसे ही एसीबी टीम मकान में पहुंची तो पटवारी सीमा प्रथम मंजिल पर भागी, जहां से रिश्वत राशि फेंक दी। जो पड़ोसी मकान में लगी नेट की जाली में जाकर अटक गए, जहां से एसीबी ने रुपए बरामद किए।
मौका रिपोर्ट बनाने के लिए मांगे थे दो लाख रुपए
एसीबी का कहना है कि परिवादी सुरेश जाट ने ईदु खां से केरू में एक आखली (पत्थर की खान) एग्रीमेंट के जरिए खरीदी है। खान अपने नाम ट्रांसफर कराने के लिए आवश्यक मौका रिपोर्ट बनावाने को सुरेश ने गत अप्रेल में पटवारी सीमा से सम्पर्क किया। पटवारी ने कार्य के बदले दो लाख रुपए मांगे। एसीबी से 4 अप्रेल को शिकायत की गई। 23 जून को सत्यापन कराया गया तो रिश्वत मांगने की पुष्टि हुई।
छत पर भागी पटवारी, पहली मंजिल से रुपए फेंके
परिवादी को रिश्वत देने के लिए गुरुवार को पटवारी के घर बुलाया गया, जहां उसने पटवारी को एक लाख रुपए दिए। तभी एसीबी जालोर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महावीर सिंह राणावत के नेतृत्व में निरीक्षक राजेन्द्रसिंह व टीम ने दबिश दी। जिसे देख पटवारी घबरा गई। वह रुपए लेकर छत की तरफ भागी और पहली मंजिल से रुपए फेंक दिए। जो पड़ोसी मकान में लगी नेट की जाली पर गिरे, जहां से एसीबी ने बरामद किए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned