घर पर प्रिंटर से बनाता रहा जाली नोट, एक लाख के जाली नोटों के बदले लेता 20 से 40 हजार रुपए

Harshwardhan Singh Bhati | Updated: 23 Sep 2019, 02:45:18 PM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

लोहावट थाना क्षेत्र के कोलूपाबूजी में मेगाहाइवे पर गत दिनों 2 लाख 66 हजार के भारतीय मुद्रा के जाली नोटो के साथ गिरफ्तार हुए जैसलमेर जिले के निवासी तथा सदर थाना के हिस्ट्रीशीटर से पूछताछ के दौरान कई खुलासे सामने आए।

वीडियो : सीएल शर्मा/लोहावट/जोधपुर. लोहावट थाना क्षेत्र के कोलूपाबूजी में मेगाहाइवे पर गत दिनों 2 लाख 66 हजार के भारतीय मुद्रा के जाली नोटो के साथ गिरफ्तार हुए जैसलमेर जिले के निवासी तथा सदर थाना के हिस्ट्रीशीटर से पूछताछ के दौरान कई खुलासे सामने आए। जाली नोटों को बाजारों में खुले में बेचने के बजाय उसने तस्करों में ही सप्लाई करने का रास्ता इख्तियार किया।

जिससे उसके द्वारा तैयार की गई जाली नोटों की बड़ी खेप खप जाएं। लोहावट पुलिस द्वारा जाली नोटो के साथ गिरफ्तार किए गए हिस्ट्रीशीटर जैसलमेर जिले के बड़ोडा गांव निवासी विक्रमसिंह पुत्र गायड़सिंह के मामले की जांच कर रहे जाम्बा थानाधिकारी पूनमाराम ने बताया कि पूछताछ के दौरान सामने आया कि जाली नोट बनाने के कार्य से पहले वह फाइनेंस व सीजर का कार्य करता था। उसमें विशेष लाभ नहीं मिलते देख उसने जाली नोट को तैयार करने की ठानी तथा अपने घर पर रंगीन प्रिन्टर की मदद से जाली नोट तैयार कर था।

उसने अभी तक 7 माह के दौरान 10 से 12 लाख रुपए के जाली नोट प्रिन्ट कर सप्लाई कर दिए है। वह भी अधिकतर नोट मादक पदार्थो के तस्करों में सप्लाई किए है। जिससे उसके आमदनी भी हो जाएं तथा जाली नोट के बड़ी खेप भी खप जाएं। जांच अधिकारी ने बताया कि मामले में उसके द्वारा कहां-कहां पर जाली नोटों की सप्लाई की गई उनकी तलाश की जा रही है। मामले में ओर भी खुलासो की संभावना बनी हुई है।

20 से 40 हजार रुपए लेता, 1 लाख के जाली नोट देता
जांच अधिकारी के अनुसार विक्रमसिंह व्हाट्सअप के जरिए जाली नोटो के खरीदारों से सम्पर्क करता था। कई बार खरीदार के उसके पास नहीं पहुंचने पर वह खुद उनके बताए हुए स्थान पर जाकर सप्लाई करके आता था। पूछताछ के दौरान उसने बताया कि जाली नोटो के देने के बदले में कोई फिक्स रेट तय नहीं की हुई थी। ग्राहक के आने पर वह 20 से 40 हजार रुपए लेकर 1 लाख रुपए के जाली नोट तैयार कर उनको सप्लाई कर देता था। इसी साल के मार्च माह में उसने जाली नोट तैयार करने का कार्य प्रारम्भ किया।

इस प्रकार बनाता जाली नोट
विक्रमसिंह जाली नोट बनाने में 4 ऑरिजन नोट लेकर उसको प्रिन्टर में रख कर उनके अगल-अलग प्रिन्ट कर देता था। बाद में स्केल कटर चाकूनुमा से उसको इस प्रकार की कटिंग करता एकदम देखने में वह नोट हूबहू असली की तरह दिखता। नोट बनाने में एक नामी कम्पनी के उच्च क्वालिटि के पेपर का इस्तेमाल करता। वह पेपर भी बाजार में चल रहे ऑरिजनल नोट के जैसा ही पेपर नजर आता है। वही पुलिस ने असकी निशानदेही पर जाली नोट तैयार करने में उपयोग में लिए गए प्रिन्टर, नामी कम्पनी के पेपर, कटर व इंक आदि को जब्त कर कब्जे में लिया गया है।

सप्लाई देने जाते समय हुआ था गिरफतार
लोहावट थाना क्षेत्र के कोलूपाबूजी में मेगाहाइवे पर गत दिनों वह बालोतरा से फलोदी जाली नोटो की सप्लाई करने जा रहा था। मुखबिर की इतला पर लोहावट पुलिस ने मेगाहाइवे पर नाकाबंदी विक्रमसिंह को 2 लाख 66 हजार रुपए के जाली नोटो के साथ गिरफ्तार किया था। उसके पास से जाली नोट के परिवहन में प्रयुक्त एसयूवी वाहन को भी बरामद किया था। बाद में जोधपुर जिले के नोडल थाना बिलाड़ा में प्रकरण दर्ज हुआ था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned