राजनीति रसूकात ग्रामीणों को कटा रहे चक्कर

राजनीति रसूकात ग्रामीणों को कटा रहे चक्कर

Manish Panwar | Publish: Jun, 10 2018 12:28:07 AM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

भोजासर-बीकानेर सड़क मार्ग पर स्थित श्री गौतम मुनि चिकित्सा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नाममात्र का सामुदायिक अस्पताल है।

आऊ. कस्बे से गुजरने वाले भोजासर-बीकानेर सड़क मार्ग पर स्थित श्री गौतम मुनि चिकित्सा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नाममात्र का सामुदायिक अस्पताल है। यहां सुविधाएं पीएचसी स्तर की भी उपलब्ध नहीं होने से क्षेत्र के मरीजों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उल्लेखनीय है कि कस्बे की पीएचसी को 2016 सीएचसी में क्रमोन्नत किया गया था। यहां स्वीकृत कुल 28 चिकित्साकर्मियों के पद में से 21 काफी समय से रिक्त हैं। जो आठ चिकित्साकर्मी कार्यरत हैं, उनमें से भी कई प्रतिनियुक्ति पर हैं।

नियुक्ति यहां, नौकरी अजमेर में

ग्रामीणों ने बताया कि कस्बे की सीएचसी में द्वितीय श्रेणी के पद पर कार्यरत चिकित्साकर्मी राजनैतिक रसूखात के चलते पिछले एक साल से निरन्तर राजकीय जेएल चिकित्सालय अजमेर में प्रतिनियुक्ति पर कार्यरत हैं और खामियाजा क्षेत्र के लोगों को भुगतना पड़ रहा है। उक्त चिकित्साकर्मी की प्रतिनियुक्ति निरस्त करवाने के लिए कई बार विभागीय उच्चाधिकारियों एवं मंत्री से शिकायतें की, लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ।

एएनएम का पद ही नहींकस्बे की सीएचसी में एएनएम व पियोन का पद सृजित नहीं होने से ग्रामीणोंं को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैं। एएनएम का पद नहीं होने से सबसे बड़ी समस्या प्रसव के दौरान रहती है। यहीं नहीं चिकित्सालय में स्टाफ का टोटा होने से लोगों को अपने नवजात शिशु का जन्म प्रमाण पत्र बनवाने के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को विवश होना पड़ रहा है।
50 किमी में एकमात्र सीएचसी

फलोदी से निकलने के बाद चाडी पहुंचने तक बीच में आऊ में ही सामुदायक स्वास्थ्य केन्द्र होने के कारण यहां आस-पास के देणोक, ईशरू, भोजासर, बरजासर, रणीसर, चिमाणा, चाखू, दासुड़ी, लक्ष्मणनगर, चाडी, सियोलनगर, छीतर बेरा, पडियाल, घंटियाली, गोरछियों का बेरा के अतिरिक्त दो दर्जन से अधिक गांवों के मरीज आपातकालीन स्थिति में मरीज को लेकर यहां आते हैं। लेकिन यहां चिकित्सकों के पद रिक्त होने से ग्रामीणों को निराश होकर लौटना पड़ रहा है।

इनका कहना है

मेरी मूल पोस्टिंग पीलवा पीएचसी में है, लेकिन पिछले आठ महिने से यहां प्रतिनियुक्ति पर कार्यरत हूं। मैंने रिक्त पदों की सूचना विभाग के उच्चाधिकारियों को दे दी है। बजट के अभाव में सीएचसी के कुछ कामकाज अटके हुए हैं। डॉ. हरिप्रसाद, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र आऊ।

वैकल्पिक व्यवस्था की है
फलोदी क्षेत्र के सभी चिकित्सालयों में चिकित्सकों के पद रिक्त हैं, इसलिए सभी जगहों पर वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर प्रतिनियुक्ति से चिकित्सा व्यवस्था सुचारू की गई है। क्षेत्र के कुछ डॉक्टरों का प्रमोशन हो जाने के कारण भी पद रिक्त हो गए हैं।

डॉ. महावीर सिंह भाटी, ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी, फलोदी।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned