नाबालिग ने सोशल मीडिया के दम पर खड़ा किया हथियार सप्लाई का नेटवर्क

Vikas Choudhary

Updated: 15 Feb 2020, 12:05:16 AM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
मध्यप्रदेश के देवास का मुकेश सोलंकी अंतरराज्यीय हथियार सप्लायर है। उसके साथ 18 पिस्तौल, 29 कारतूस और दो स्पेयर मैग्जीन के साथ पकड़ में आए सात जनों से आश्चर्यजनक खुलासे हुए। मुकेश के मार्फत जोधपुर में हथियारों का नेटवर्क एक नाबालिग चला रहा था। सीकर के एक बदमाश ने फेसबुक फ्रैण्ड बनने के बाद मुकेश सोलंकी का सम्पर्क इस नाबालिग से कराया था। उसके सम्पर्क में स्थानीय बदमाशों के अलावा हार्डकोर लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गे भी हैं। एेसे में दोनों ने जोधपुर में हथियार सप्लाई करने का निर्णय किया था। नाबालिग ने ‘इंसाफ’ नामक व्हॉट्सएेप ग्रुप बनाकर रखा है। जिसमें मुकेश को भी जोड़ दिया गया था। हथियार बेचने के लिए उसने ग्रुप में फोटो भी भेजे थे। मुख्य सप्लायर मुकेश के पकड़े जाने के बाद मोबाइल में यह खुलासे हुए। सत्रह वर्षीय नाबालिग पहली बार पुलिस के हत्थे चढ़ा है।
कार्रवाई में एसीपी (पूर्व) राजेश मीणा, एसीपी (मण्डोर) राजेन्द्र दिवाकर, थानाधिकारी सीताराम खोजा, अशोक आंजणा, सुमेरदान, गौतम डोटासरा व लीलाराम शामिल थे।

स्थानीय हथियार तस्करों से जुटाई जानकारी
जिले में हर छोटा-बड़ा बदमाश हथियार से लैस है। हर गिरोह के पास हथियार पहुंच चुके हैं। आइपीएस अधिकारी व एसीपी (पूर्व) राजेश मीणा ने बताया कि इनके खिलाफ कार्रवाई और प्रमुख सप्लायर तक पहुंचने के लिए पुलिस ने स्थानीय बदमाशों से जानकारी जुटाई। तब मुकेश का नाम सामने आया था।

कई और हथियार बरामद होने का दावा
कमिश्नरेट के पश्चिमी जिले की पुलिस ने गत रविवार को 11 हथियार, 17 जिन्दा कारतूस के साथ आठ जनों को गिरफ्तार किया था। छह दिन में 29 हथियार व 38 कारतूस जब्त हो चुके हैं। सोलह जनों को पकड़ा गया है। कई और संदिग्ध अभी तक पकड़ में नहीं आए हैं। इनके पकड़ में आने पर और हथियार बरामद हो सकते हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned