प्रदेश का 'नटवरलाल' गिरफ्तार! कभी थानेदार बनकर तो कभी एसपी बन बड़े लोगों से ठगी में है माहिर

कभी थानेदार बनकर तो कभी एसपी बनकर बड़े लोगों से ठगी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के सरगना ( Interstate thug gang leader ) को गिरफ्तार करने में बिलाड़ा पुलिस ने सफलता हासिल की है...

By: dinesh

Published: 14 Jun 2020, 07:51 AM IST

जोधपुर/बिलाड़ा। कभी थानेदार बनकर तो कभी एसपी बनकर बड़े लोगों से ठगी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के सरगना ( Interstate thug gang leader ) को गिरफ्तार करने में बिलाड़ा पुलिस ने सफलता हासिल की है। इस आरोपी ने हाल ही बिलाड़ा थानाप्रभारी के नाम से पालिकाध्यक्ष मनोहर सिंह हाम्बड से सात लाख रुपए की ठगी की थी। आरोपी के खिलाफ प्रदेश के विभिन्न थानों में 50 से अधिक ठगी के मामले दर्ज हैं।

थानाप्रभारी मनीषदेव ने पत्रकारों बताया कि 27 मई को एक व्यक्ति ने पालिकाध्यक्ष मनोहर सिंह हाम्बड को फोन कर कहा कि वह बिलाड़ा थानाप्रभारी मनीषदेव बोल रहा है। इस समय जोधपुर आया है और उसे चार लाख रुपए की तुरंत आवश्यकता है। वे किसी के साथ रुपए जोधपुर भिजवाएं।

इस पर पालिकाध्यक्ष ने बाजार से उधार रुपए मंगवाकर सुरेश पटेल एवं पवन सीरवी के साथ जोधपुर के लिए रवाना कर दिए। इस बीच उक्त व्यक्ति ने पुन: पालिकाध्यक्ष के पास फोन किया कि उन्होंने एक व्यक्ति को बिलाड़ा की तरफ सामने भेजा है जो कापरड़ा पंपिंग स्टेशन के पास खड़ा मिलेगा। जिसका नाम रामप्रकाश मीणा है। इस पर पालिकाध्यक्ष की ओर से भेजे गए दोनों युवकों ने चार लाख रुपए रामप्रकाश मीणा को दे दिए। मीणा ने उसी समय चार लाख रुपए का इंडियन बैंक पाली के नाम का चेक दोनों युवकों को सौंप दिया।


एक ही दिन ठगे गए दो बार
इसी दिन शाम को उसी व्यक्ति ने पालिकाध्यक्ष को फिर फोन कहा कि उसे तीन लाख रुपए की और आवश्यकता है जिस पर पालिकाध्यक्ष ने एक बार मना कर दिया, लेकिन उस व्यक्ति ने अपनी रौबदार आवाज में कहा कि वह बिलाड़ा थानाप्रभारी हैं आप भरोसा करें। इस पर पालिकाध्यक्ष ने फिर बाजार से रुपए उधार लेकर दोनों युवकों को दुबारा जोधपुर रवाना किया। इस बार उक्त व्यक्ति का आदमी पिचियाक थाने से चार किलोमीटर की दूर झुरली चौराहे पर मिल गया। उसे रुपए सौंपे तो उसने तीन लाख रुपए का चेक दे दिया, जिस पर 30 मई की तारीख डाली।

आरोपी ने दूसरे दिन 28 मई को पालिकाध्यक्ष को फोन करके कहा कि आपके रुपए उसे लौटाने हैं इसलिए कोई एक व्हाट्स नम्बर दें और एक दस रुपए के नोट के नंबर भेज दें। यह नोट जिसके पास होगा उसे वह रुपए दे देगा। पालिकाध्यक्ष ने संबंधित व्हाट्सएप नंबर पर कई बार सम्पर्क किया। सम्पर्क नहीं होने पर बिलाड़ा थाने गए तब जाकर ठगी का पता चला। पुलिस ने अनुसंधान के बाद चित्तौडगढ़़ जेल में बंद सुरेश उर्फ भेराराम उर्फ भीरिया पुत्र भंवरलाल घाची निवासी रजत नगर रामदेव रोड पाली को प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के खिलाफ प्रदेश के विभिन्न थानों में 50 से अधिक मामले दर्ज हैं। वह नटवरलाल के नाम से कुख्यात बताया जाता है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned