रेमडेसिवर का इंजेक्शन 28 हजार में बेचने की फिराक में नर्सिंगकर्मी गिरफ्तार

- तीन रेमडेसिवर इंजेक्शन बरामद
- निजी अस्पताल में कोरोना मरीज को लगाने की बजाय कालाबाजारी में बेचने लाया था आरोपी

By: Vikas Choudhary

Updated: 09 May 2021, 04:26 PM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
बासनी थाना पुलिस ने दाऊजी की होटल के पास सुलभ कॉम्प्लेक्स के बाहर रेमडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने की फिराक में निजी अस्पताल के एक नर्सिंग कर्मचारी को गिरफ्तार किया। उससे रेमडेसिवर के तीन इंजेक्शन जब्त किए गए हैं।
थानाधिकारी पाना चौधरी ने बताया कि दाऊजी की होटल के पास स्थित दवाइयों की दुकान पर शनिवार रात एक-डेढ़ बजे एक युवक आया और रेमडेसिवर इंजेक्शन बेचने के बारे में बात की। उसने 28 हजार रुपए के बदले एक इंजेक्शन देने की बात की। जबकि यह इंजेक्शन सरकारी अस्पताल के कोविड सेंटर में ही मिल सकते हैं। इनकी कीमत 34 सौ रुपए है।
इंजेक्शनों की कालाबाजारी की सूचना मिलने पर उप निरीक्षक जेठाराम, एएसआइ नारायणसिंह, कांस्टेबल कैलाश राजपुरोहित, रघुवीरसिंह, मानसिंह व रवि शंकर दाऊजी की होटल पहुंचे, जहां सुलभ कॉम्प्लेक्स के पास खड़े पीपाड़ शहर में इन्द्रा कॉलोनी निवासी भागीरथ जीनगर को पकड़ लिया। तलाशी लेने पर पेंट की जेब में प्लास्टिक थैली में छुपाए रेमडेसिवर के तीन इंजेक्शन मिले। इनके बारे वह कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया।
उसे थाने लाया गया और रेमडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने का मामला दर्ज कर इन्द्रा कॉलोनी निवासी भागीरथ (29) पुत्र आसाराम जीनगर को गिरफ्तार किया। उसे रविवार को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर दो दिन का रिमाण्ड लिया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned