राशन की दुकान पर गेहूं की बजाए मिल रही निराशा

पिछले दो दिनों से ऑनलाइन भामाशाह व आधार सर्वर ठप होने के कारण रसद विभाग की ओर से दो रुपए प्रतिकिलो गेहूं नहीं मिल पा रहे।

By: Manish Panwar

Published: 30 May 2018, 01:04 AM IST

देणोक. पिछले दो दिनों से ऑनलाइन भामाशाह व आधार सर्वर ठप होने के कारण गरीब ग्रामीण परिवारों को रसद विभाग की ओर से दो रुपए प्रतिकिलो गेहूं नहीं मिल पा रहे। एेसे में राशन की दुकानों पर उम्मीद लेकर पहुंचने वाले ग्रामीणों को निराशा हाथ लग रह है। मंगलवार को कस्बे की सेवा सहकारी समिति में अपने कोटे के गेहूं लेने के लिए पहुंचे ग्रामीणों ने बताया कि सर्वर ठप होने से दुकान में लगी माइक्रो एटीएम मशीन काम नहीं कर रही और उनका फिंगर पिं्रट नहीं होने के कारण उन्हें गेहूं नहीं मिल पा रहे हैं। भामाशाह व आधार ऑनलाइन सर्वर दो दिनों से ठप पड़ा हुआ है।

ग्रामीण दुर्गाराम सुथार, फूलाराम सुथार, लक्ष्मीनारायण दाधिच, इकबाल खां, जेठाराम, नरसिंगलाल सोलंकी, अकबर खां, बदरूदीन, सफी मोहम्मद व हरिशंकर सोलंकी ने बताया कि कस्बे के पंचायत मुख्यालय से सात-आठ किलोमीटर दूर विश्वकर्मा नगर, सुढों की ढाणी, जाखड़ों, नाडिया मगरा व उदयनगर राजस्व गांवों से गेहूं लेने के लिए वे लोग सुबह सात बजे आकर दुकान के आगे बैठते हैं। लेकिन नेटवर्क व आधार-भामाशाह का सर्वर ठप होने के चलते दिन ढलने के बाद मुंह लटकाये वापस अपने घरों को जाते हैं। ग्रामीणों ने बताया कि जबसे माइक्रो एटीएम मशीनें लगी हैं तब से गेहूं लेने में जितने रुपए खर्च नहीं होते उससे कई गुणा अधिक समय खराब करना पड़ रहा है। इसका कोई समाधान नहीं होने से ग्रामीणों में रोष है। निस.

इनका कहना है
पिछले दो दिनों से ग्रामीण गेहूं लेने के लिए दुकान पहुंच रहे हैं। नेट तो चल रहा है लेकिन आधार व भामाशाह की साइट पर सर्वर नहीं मिल रहा, इसलिए गरीबों को गेहूं वितरित नहीं कर पा रहे हैं।

रामलाल, दुकान संचालक, सेवा सहकारी समिति, देणोक।
समस्या लगातार बनी हुई है

बापिणी व ओसियां दोनों पंचायत समितियों में सर्वर की समस्या लगातार बनी हुई है। इसके लिए हमने कई प्रयास किए। उक्त समस्या का जल्द समाधान करवा दिया जाएगा।
सुगनराम मेघवाल, ब्लॉक समन्वयक, बापिणी।

Manish Panwar Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned