Watch- मां की प्रेरणा से जरूरतमंदों की सेवा के लिए खोल दिया अपना खजाना

-पर्यावरण प्रेमी डारा अब तक पौने चार करोड रुपए की सहायता करवा चुके मुहैया
-ट्विटर पर लिखा- छोटी सी मदद की

By: Jay Kumar

Published: 09 Jun 2021, 02:49 PM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जयकुमार भाटी/ जोधपुर. किसान परिवार में जन्मे एक शख्स ने बचपन से अपनी मां को लोगों की सेवा करते देखा और मां की प्रेरणा से बड़े होकर उनकी तरह जरूरतमंद लोगों की सेवा करने का जिम्मा उठाया। ये है जोधपुर के भोपालगढ़ पंचायत समिति के अरटिया गांव के एक साधारण किसान परिवार में जन्में पप्पूराम डारा, जिन्होंने सेवा के साथ काम में भी कोई कसर नहीं छोड़ी और आज ए क्लास ठेकेदार के रूप में कार्य करने के साथ दिल खोलकर लोगों की सेवा कर रहे हैं। पूर्व जिला परिषद सदस्य व पर्यावरण प्रेमी डारा ने कोरोना महामारी की पहली लहर से लेकर दूसरी लहर तक सेवा का बेहतरीन जज्बा पेश कर पीडितों व जरूरतमंदों की सहायता के लिए अपना खजाना खोल दिया। ऐसे में वे अब तक 3.75 करोड रुपए की सहायता मुहैया करवाने के बाद भी अपने ट्विटर पर इसे एक छोटी सी मदद लिख रहे हैं। वे अपनी मां की याद में एक जनाना अस्पताल भी बनवाना चाहते हैं।

यहां रहा इनका योगदान
समाजसेवी पप्पूराम डारा ने पिछले वर्ष 25 लाख रुपए मुख्यमंत्री सहायता कोष में दिए। वहीं काई भूखा ना सोए की तर्ज पर 50 दिन लंगर चलाकर भोजन की व्यवस्था की। जिसमें करीब 60 लाख रुपए खर्च होना बताया। इसी तरह फलोदी व जोधपुर के जरूरतमंद लोगों में पांच लाख की सूखी राशन सामग्री का वितरण भी किया। चिकित्सकों के लिए करीब साढ़े सात लाख रुपए के एन-95 मास्क व पीपीई मेडिकल किट की व्यवस्था की गई। वर्तमान में 80 लाख रुपए जिला कलेक्टर के माध्यम से दो ऑक्सीजन प्लांट जोधपुर में लगाने के लिए औरंगाबाद की कम्पनी से करार कर मंगवाया गया। बिरामी गांव में गौशाला बनाने के लिए 16 लाख का सहयोग किया। लोहावट में हिरणों के लिए पांच लाख व जाम्भा गौशाला में डेढ़ लाख का अनुदान दिया। अपने गांव अरटिया में गौशाला के निर्माण व संचालन के लिए सवा करोड रुपए का सहयोग किया। इसी तरह भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण के लिए 37 लाख रुपए का सहयोग किया गया। वहीं पिछले वर्ष बोरुंदा थानाधिकारी की गोली से जान गंवाने वाले स्पेशल टीम के पुलिस कमांडो अशोक विश्नोई के बच्चों की पढ़ाई के लिए एक लाख रुपए की सहायता की। डारा ने दिव्यांगजनों एवं वरिष्ठ नागरिकों की सहायता के लिए उपकरण वितरण शिविर का आयोजन भी किया। डारा ने बताया कि भगवान ने लोगों की सेवा का जो अवसर मुझे दिया है, उसे पूरी ईमानदारी से करने का प्रयास कर रहा हूं। मेरी माताजी कहती थी कि लोगों की सेवा करने से घर का भंडार हमेशा भरा रहता हैं। मां की इस सीख से बचपन से प्रेरित रहा और आज अवसर मिलने पर हमेशा लोगों की सेवा को तत्पर रहता हूं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned