video : जोधपुर में कश्मीरी पंडितों ने यूं बयां की अपने दर्द की दास्तां

Jitendra Singh Rathore

Updated: 28 Mar 2018, 12:05:07 PM (IST)

Jodhpur, Rajasthan, India

विश्व रंगमंच दिवस पर टाउन हॉल व सूचना केन्द्र के मिनी ऑडिटोरियम में नाट्य प्रस्तुति

जोधपुर . हमारे लिए तो कश्मीर ही नहीं सब जगह दरवाजे बंद हो चुके है। लेकिन पिछले 28 सालों में बंद दरवाजों को खोलने की जेहमत ना इस हुकूमत ने उठाई ना ही देश के लोगों ने। कैसे निकले उस आग के दरिया से। कैसे रहे, किसी को कुछ पता नहीं। लोग बस सचिन की डबल सेंचुरी, आईपीएल और बाहुबली के 1500 करोड़ की चर्चा में मशगूल है। खुश रहिए.. आपको क्या फर्क पड़ता है। लेकिन आप सब लोगों की खुशी के बीच एक पूरी जनरेशन बड़ी हो रही थी साहब। टेन्ट में सोते हुए, ,खानों की ट्रकों के पीछे भागते हुए.. खुले आसमां के नीचे अपनी सभी दिनचर्या पूरी करते हुए।

वक्त से पहले मरते हुए। यह दृश्य था मंगलवार को विश्व रंगमंच दिवस के उपलक्ष्य में टाउन हॉल में मंचित नाटक 'लोस्ट पेरेडाइज' का। अभिनय गुरुकुल की ओर से प्रस्तुत नाटक में 27 साल पहले कश्मीर की वादियों से पलायन करने वाले पंडितों के दर्द को बखूबी उजागर किया गया। अपने ही वतन में विस्थापितों की तरह जीने को मजबूर कश्मीरी पंडितों की पीड़ा को और शरणार्थी शिविरों की दुर्दशा का जीवंत चित्रण किया गया। मंचित नाटक में संदेश दिया कि 1990 में कश्मीरी पंडितों पर ऐसा कहर बरपा कि उसके जख्म अभी तक हरे है। अपने ही देश के शरणार्थियों के दर्द की दास्तां को अरु-स्वाति व्यास के निर्देशन में नेमीचंद माकड़, प्रेरणा, हिमांशु सिंघवी,हिमांशु व्यास, मोमिन, उमंग पटेल, ईशान पुरोहित, सुधांशु मोहन, नीखिल सोनी, प्रफुल्ल बोराणा, अशोक बोहरा, हर्षित व्यास, अदिति उड़ावत, रजत अरोरा, संदीप, कृष्ण कांत, मुकुंद जांगिड़, धर्मेश व अद्वेत बोहरा ने अपने पात्रों से पूरी तरह न्याय किया और शानदार अभिनय और संवाद अदायगी से दर्शकों की खूब तालियां बटोरी। पक्षी और दीमक नाटक का मंचन

विश्व रंगमंच दिवस के उपलक्ष्य में आकांक्षा संस्थान जोधपुर की ओर से 'पक्षी और दीमक' नाटक का मंचन किया गया। सूचना केन्द्र के मिनी ऑडिटोरियम में डॉ. विकास कपूर के निर्देशन में मंचित नाटक एक ऐसे पक्षी की कहानी है जिसमें एक गाड़ीवाला बोरों में भर कर दीमक बेचता है और बदले में पक्षी के पंख की मांग करता है। नाटक के माध्यम से समाज में कई रूप में मौजूद दीमक और उससे बचने का संदेश दिया गया। मंच पर अंतिमा व्यास, सलिल कपूर, गजल कोठारी, अदित सक्सेना, अपूर्व सोलंकी, पार्थसारथी तिवारी आदि कलाकारों ने शानदार अभिनय से खूब तालियां बटोरी।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned