scriptPakistan was shaken by the sudden roar of guns in the dark | अंधेरे में अचानक गरजी तोपों से दहल गया था पाकिस्तान | Patrika News

अंधेरे में अचानक गरजी तोपों से दहल गया था पाकिस्तान

-हमले के महज दो घंटे में आर्टिलरी ने संभाल लिया था मोर्चा

जोधपुर

Published: December 07, 2021 10:49:44 pm

सुरेश व्यास/लोगेवाला (जैसलमेर)। दुश्मन से घिरी चौकी पर तैनात 23-पंजाब की अल्फा कंपनी के लिए शायद आक्रमणकारियों को पौ फटने तक रोके रखना इतना आसान नहीं होता, यदि उसे 168 फील्ड रेजिमेंट की बैटरी और 185 लाइट रेजिमेंट की भारी मोर्टार फायरिंग का सपोर्ट नहीं मिलता।
अंधेरे में अचानक गरजी तोपों से दहल गया था पाकिस्तान
लोंगेवाला लड़ाई में आर्टिलरी फायरिंग को इंगित करती कर्नल अरुल राज की पेंटिंग
हमले के महज दो घंटे बाद ही ये तोपें रात के अंधेरे में गरजती हुई दुश्मन को दहलाती रही, वरना पाकिस्तान तो इस भरोसे था कि महज 120 लोगों की एक सैन्य कम्पनी को काबू कर वह लोंगेवाला चौकी पर कब्जे के बाद जैसलमेर पहुंचने तक का रास्ता साफ कर देगा, लेकिन ये तोपें ही थी, जिससे दुश्मन की फौज चौकी पर महज एक कंपनी नहीं पूरी ब्रिगेड होने के भ्रम में फंसकर हमारी वायुसेना का हवाई हमला होने तक भी आगे बढ़ने की ज्यादा हिम्मत नहीं जुटा पाई।
185 लाइट रेजिमेंट की रोम बैटरी (1853) के कमांडर मेजर कुलविंदर सिंह बताते हैं कि 12-इंफेंट्री डिविजन 4-5 दिसम्बर की रात पाकिस्तान के इस्लामगढ़-रहिमयारखान पर कब्जे की तैयारी में थी। उन्हें 5 दिसम्बर की सुबह तनोट से आगे बढ़ना था। मगर, पाकिस्तान ने लोंगेवाला पर हमला कर दिया। वे नींद में थे। आधी रात बाद अचानक सीओ लेफ्टिनेंट कर्नल एसएल धवन ने फोन कर तनोट से तुरंत लोंगेवाला की ओर मूव करने का आदेश दिया। दुविधा ये थी कि न नक्शे थे और न ही लोंगेवाला का रास्ता जानते थे। फिर भी तोपगाड़ियां लेकर रवाना हो गए। रात 3 बजे लोंगेवाला पहुंच कर लेफ्टिनेंट बाला सुब्रह्मणियम ने तोपें तैनात की और ऑब्जर्वेशन पोस्ट ऑफिसर कैप्टन संतोष दत्ता ने मेजर चांदपुरी के पड़ोस वाले बंकर में ही ऑब्जर्वेशन पोस्ट स्थापित कर दी। कैप्टन दत्ता ने आगे बढ़ रही पाक टैंक ब्रिगेड के आर्मर्ड कॉलम की जानकारी दी और कुछ ही देर में हमारी तोपें गरजनी शुरू हो गई।
खुल गए तोपों के मुहानें
दुश्मन के लोंगेवाला चौकी के नजदीक आने से पहले ही रोम बैटरी ने भारी मोर्टार के मुहाने खोल दिए तो 23 पंजाब की एमएमजी व आरसीएल के फायर ने आर्टिलरी फायरिंग को धार दे दी। हमारे भारी आर्टी फायर से धोरों के पीछे दुबका दुश्मन चौंक गया और उसे अपनी योजना पर पुनविर्चार करने के लिए रुकना पड़ा। पौ फटते ही वायुसेना के हवाई हमलों के बाद तो दुश्मन फौज में जैसे भगड़ मच गई।
...और गोला-बारुद खत्म हो गया
मेजर कुलविंदर के अनुसार 5 दिसम्बर की दोपहर करीब 2 बजे उन्हें संदेश मिला की गोला बारुद खत्म हो गया है और सप्लाई पहुंचा रहे वाहन रोड ब्लॉक के कारण आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। ऐसे में उन्होंने दुश्मन पर स्मॉक राउंड फायर करने को कहा। आमतौर पर स्मॉक फायर हमलावर टुकड़ियों को कवर देने के लिए किया जाता है। स्मॉक फायर देखकर पाकिस्तानी फौज फिर घबरा गई और उन्हें लगा कि भारतीय फौज हमला करते हुए आगे बढ़ रही है। आधे घंटे बाद सप्लाई पहुंचने तक दुश्मन तो भ्रम में रहा ही, खुद मेजर कुलविंदर की सांसे अटकी रही कि कहीं हमारी फौज स्मॉक फायर से भ्रम में न पड़ जाए।
गनर्स पर गर्व है...
'लोंगेवाला में एक निर्णायक लड़ाई लड़ी गई। यदि दुश्मन लोंगेवाला चौकी पर कब्जे में कामयाब हो जाता तो हमें न सिर्फ एक बड़ा भू-भाग खोना पड़ता और 12-इंफेंट्री डिविजन की सप्लाई लाइन तक कट जाती। हमारी 1853 लाइट बैटरी के भारी मोर्टार फायर वायुसेना के लड़ाकू जहाजों के पहुंचने तक जारी रहे। लोंगेवाला की लड़ाई में गनर्स की भूमिका महत्वपूर्ण रही। हालांकि लोंगेवाला से हमारी बैटरी को बाड़मेर सेक्टर में लड़ाई के लिए भेज दिया गया और लोंगेवाला में अहम भूमिका के बावजूद बैटरी के किसी भी व्यक्ति को वीरता के लिए नवाजा नहीं जा सका। हमें आज भी लोंगेवाला में हमारी भूमिका पर गर्व है।'
-लेफ्टिनेंट कर्नल कुलविंदर सिंह,
लोंगेवाला लड़ाई के योद्धा और 'गन्स ऑफ लोंगेवाला' के लेखक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

बेटी का जुल्म-बुजुर्ग ने जेब से निकालकर बताई दाढ़ी और नाखून, छलक उठे गम के आंसूयहां PWD का बड़ा कारनामा, पेयजल पाइप लाइन के ऊपर ही बना रहे ड्रेनेज सिस्टम, गुस्साए विधायक ने की सीएम से शिकायतमोदी की लीडरशिप से वैक्सीन का रिकार्ड बनाया भारत ने: पूनियाUttar Pradesh Assembly Elections 2022: जानें बीजेपी में भगदड़ का पूर्वांचल की सियासत पर क्या होगा असरसीएम और यूडीएच मंत्री के जिलों में पार्षदों का मनोनयन, जयपुर को अब भी इंतजारमंगल ग्रह 42 दिन तक धनु राशि में करेगा गोचर, 7 राशि वालों का चमकाएगा करियरUP Elections : अखिलेश का मुकाबला करने के लिए बीजेपी ने 'हिंदू पहले' की नीति अपनाईभाजपा की सूची जारी होने के बाद प्रत्याशी के विरोध में पूर्वांचलियों का हंगामा, झड़प के बाद आधा दर्जन हिरासत में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.