#SundayPoliticalClub : रेलखंड विस्तार के साथ कई मांगों को बिलाड़ावासियों ने बताई प्राथमिकता, चेंजमेकर में लिया भाग

Harshwardhan Singh Bhati

Publish: Mar, 17 2019 02:17:03 PM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

कल्याणसिंह/बिलाड़ा/जोधपुर. राजस्थान पत्रिका के चेंजमेकर अभियान के तहत बिलाड़ा कस्बे के सोजती गेट स्थित अंबेडकर सर्किल पर जुटे विभिन्न वर्गों के गणमान्य लोगों ने लोकसभा चुनाव को लेकर एवं सांसद के दायित्व पर खुलकर विचार व्यक्त किए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पुलवामा हमले के बाद आतंकवादियों के ठिकानों पर किए गए एयर स्ट्राइक कार्यवाही की सराहना की। वहीं इसे मुद्दा बनाकर चुनाव जीतने के प्रयास को ठीक नहीं बताया। पार्षद त्रिलोक नेनीवाल ने कहा कि जिस रेल को घाटे का बता कर पीपाड़-बिलाड़ा रेल को बंद कर दिया था। उसे पूर्व सांसद बद्रीराम जाखड़ ने फिर से चालू करवा दिया। जो आज दिन तक नियमित रूप से चल रही है। जबकि इसी रेलखंड को मोदी मंत्रिमंडल के मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद पीपी चौधरी 1 इंच आगे नहीं बढ़ा सके। जबकि वर्षों से वह यह वायदा करते रहे हैं कि इस रेलखंड का विस्तार बार या हरिपुर तक करवा देंगे। समाजसेवी मदन लाल धोबी ने कहा वर्षों से क्षेत्र के लोगों को फ्लोराइड युक्त पानी पीना पड़ रहा है। जबकि 14 सो करोड़ की सुरपुर पेयजल योजना वित्तीय स्वीकृति जारी नहीं होने के कारण पड़ी रह गई।

पार्षद कानाराम ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता को मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में शामिल कर क्षेत्र के विकास के द्वार खोल दिए। पाली संसदीय क्षेत्र में करीब 9000 करोड़ की लागत से कई मेगा हाईवे राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण हो चुके हैं। वहीं कई कार्य अब भी प्रगति पर है। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष गिरधारी कंसारा ने कहा देश के किसी लोकसभा क्षेत्र में किसी सांसद ने सी एस आर राशि का उपयोग नहीं किया। जबकि पीपी चौधरी ने 300 करोड़ की सोलर ऊर्जा लाइट अपने लोकसभा क्षेत्र के प्रत्येक गांव ढाणी के गली मोहल्लों तक लगवा दी।

बुजुर्ग ओम प्रकाश पटेल ने नदियों से नदिया जोडऩे को लेकर कहा कि राजस्थान में इस पर कहीं भी कार्य शुरू नहीं हुए। पूर्व पार्षद बंसीलाल ने कहा पश्चिमी राजस्थान की सभी नदियां एवं बांध वर्षों से सूखे पड़े हैं। गिरधारी राठौड़ ने कहा छोटी छोटी नगर पालिकाओं में बेतहाशा भर्ती करके इन इकाइयों को कंगाली की ओर धकेल दिया है। मेडिकल लाइन से जुड़े ओम प्रकाश ने कहा युवाओं को रोजगार के लिए भटकना पड़ रहा है। संदीप जांगिड़ ने किसानों की समस्याओं, फसली नुकसान, मौसम की मार से होने वाले नुकसान की कोई भरपाई करने वाला नहीं है। चर्चा के दौरान सार यह निकलता है कि रेलखंड का विस्तार हो। मीठे पानी की समस्या का स्थाई हल हो। तथा नदियों से नदिया जोडऩे की योजना को प्राथमिकता से व्यवहारिक रूप दिया जाना चाहिए। कई वक्ताओं ने तो यह भी कहा कि संसद में पढ़ा लिखा आदमी ही जाए यह जरूरी नहीं है जबकि उस आदमी का अनुभवी होना आवश्यक है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned