पांच हजार रुपए रिश्वत लेते पटवारी गिरफ्तार

- 7 बीघा जमीन का रकबा राज म्युटेशन भरने के बाद रकबा राज में दर्ज करने की एवज में ली रिश्वत

By: Vikas Choudhary

Published: 22 Sep 2021, 01:43 PM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने जैसलमेर जिले की मोहनगढ़ तहसील में पीथेवाला ए उप निवेशन के पटवारी को 5 हजार रुपए रिश्वत लेते बुधवार को रंगे हाथों गिरफ्तार किया। आरोपी ने सात बीघा जमीन का रकबा राज म्युअेशन भरने के बाद रकबा राज में दर्ज करने की एवज में रिश्वत ली थी।
ब्यूरो के उप महानिरीक्षक डॉ विष्णुकांत ने बताया कि एक परिवादी की शिकायत पर जैसलमेर की मोहनगढ़ तहसील में पीथेवाला ए उपनिवेशन पटवार मण्डल के पटवारी चिमनाराम पुत्र नरसिंगाराम माली को पांच हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया। आरोपी पटवारी भोपालगढ़ निवासी है।
आवंटन निरस्त कराया, म्युटेशन भर रकबा राज करानी थी
ब्यूरो की जैसलमेर चौकी प्रभारी व उपाधीक्षक अन्नराजसिंह ने बताया कि परिवादी ने मस्तानसिंह से 22 बीघा मुरब्बा खरीदा था। इसके पास ही 7.06 बीघा भूमि उप निवेशन विभाग मोहनगढ़ ने विशनााम को आवंटित की थी। परिवादी ने भी इस जमीन के लिए आवंटन कर रखा था, लेकिन जमीन विशनाराम को आवंटित हो गई थी। इसके विरोध में परिवादी ने जैसलमेर के अतिरिक्त आयुक्त उप निवेशन व अपील अधिकारी के समक्ष अपील की थी। 25 अगस्त को 7.06 बीघा जमीन आवंटन निरस्त करने का निर्णय किया गया। साथ ही दोनों पक्षों को पुन: सुनवाई और सबूत पेश करने का एक अवसर भी दिया। 7.06 बीघा जमीन मीडियम पेच का रकबा राज के नाम म्युटेशन भरने के लिए उसने पटवारी चिमनाराम से सम्पर्क किया। पटवारी ने 14 सितम्बर को 10 हजार रुपए रिश्वत ली। फिर भी जमीन को रकबा राज में दर्ज नहीं की। साथ ही और रिश्वत की मांग की। तब पीडि़त ने 17 सितम्बर को एसीबी की जैसलमेर चौकी में शिकायत की थी। इस बारे में मंगलवार को गोपनीय सत्यापन कराया गया तो पांच हजार रुपए रिश्वत मांगने की पुष्टि हुई। इस पर परिवादी को बुधवार को उपनिवेशन कार्यालय भेजा, जहां पटवारी को पांच हजार रुपए रिश्वत दी। तभी उपाधीक्षक अन्नराजसिंह के नेतृतव में एसीबी ने दबिश देकर पटवारी चिमनाराम को रंगे हाथों गिरफ्तार किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned