पीपाड़सिटी पालिका : आंतरिक खींचतान से नेता प्रतिपक्ष का मनोनयन लटका!

पीपाड़सिटी पालिका चुनाव के छह माह बीत जाने के बावजूद भी प्रतिपक्ष भाजपा अपने पार्षद दल के नेता का चयन नहीं कर सकी हैं, इस कारण पालिका में नेता प्रतिपक्ष मनोनीत नहीं किया जा सका।

By: pawan pareek

Published: 12 Jun 2021, 08:57 PM IST

पीपाड़सिटी (जोधपुर) . पालिका चुनाव के छह माह बीत जाने के बावजूद भी प्रतिपक्ष भाजपा अपने पार्षद दल के नेता का चयन नहीं कर सकी हैं, इस कारण पालिका में नेता प्रतिपक्ष मनोनीत नहीं किया जा सका।


सूत्रों के अनुसार पालिका में कांग्रेस शासित बोर्ड की दो बैठक हो चुकी हैं। नियमानुसार तीसरी बैठक से पहले विपक्ष को अपने पार्षद दल के नेता चयन करना अनिवार्य हैं, लेकिन इस पद को लेकर आंतरिक खींचतान के चलते नगर मंडल संगठन और भाजपा पार्षद दल में किसी एक नाम पर सहमति नहीं होने से मनोनयन प्रक्रिया द्रोपदी का चीर बनती दिख रही हैं। पालिका में कुल पैंतीस पार्षदों में प्रतिपक्ष भाजपा के दस पार्षद हैं। इनमें भी छह महिला पार्षद हैं। युवा पार्षद पीयूष शर्मा, रुक्मादेवी कच्छवाह, मीनाक्षी कल्याणसिंह टाक के रेस में होने की जानकारी मिली हैं।

विकास में पिछड़े भाजपा पार्षद

पालिका में नेता प्रतिपक्ष नहीं होने का फायदा सत्तारूढ़ पालिका बोर्ड उठा रहा हैं। ऐसे में भाजपा पार्षदों के वार्ड विकास में पिछड़ रहे हैं। जिले के स्थानीय निकाय चुनाव के बाद फलोदी, बिलाड़ा, जोधपुर उत्तर व दक्षिण में नेता प्रतिपक्ष चुने जा चुके हैं। पीपाड़सिटी में गत बोर्ड में पांच वर्ष तक काबिज रह कर सत्ता से बेदखल भाजपा विपक्ष में आने के बाद अपने पार्षद दल का नेता नहीं चुन पाने के कारण लोकसभा की तरह पीपाड़सिटी पालिका बोर्ड भी बिना विपक्ष के नजर आ रहा हैं।

पार्षद दल में नेता प्रतिपक्ष नहीं होने से पालिका में लोकतांत्रिक व्यवस्था भी चरमरा गई हैं। वही सत्तारूढ़ दल को विकास में अपनी मनमानी करने की छूट देने से भाजपा संगठन की सत्तारूढ़ दल से पर्दे के पीछे की मित्रता होने की चर्चाओं ने भी जोर पकड़ लिया है।

व्हिप का प्रावधान नहीं

पालिका में नेता प्रतिपक्ष के साथ उप नेता, सचेतक व कोषाध्यक्ष के साथ अन्य पार्षद सदस्य होते हैं। बोर्ड बैठक से पहले पार्षद दल रणनीति बनाकर बैठक में सत्तारूढ़ दल को घेर सकता हैं, लेकिन नेता के अभाव में बोर्ड बैठक में कोई विपक्षी पार्षद सत्तारूढ़ दल के पाले में चला जाए तो भाजपा अनुशासनहीनता की कार्रवाई भी कर सकती। नेता प्रतिपक्ष के अभाव में भाजपा पार्षद सत्तारूढ़ दल पर दबाब डालने की बजाय पालिकाध्यक्ष की मेहरबानी पर आश्रित होकर रह जाते हैं।निसं

इन्होंने कहा

पालिका में भाजपा पार्षद दल के नेता की चयन प्रक्रिया शुरू करने के लिए संगठन से आग्रह किया जा चुका हैं।

पीयूष शर्मा, भाजपा पार्षद।

पालिका में भाजपा पार्षद दल के नेता का चयन नगर मंडल व जिलाध्यक्ष की सहमति के बाद शीघ्र किया जाएगा।

रामकिशोर भूतड़ा, अध्यक्ष, भाजपा, नगर मंडल।

पालिका में नए बोर्ड के गठन के बाद अभी तक विपक्ष की ओर से अपने पार्षद दल के नेता के चयन की सूचना नहीं दी गई। सूचना के बाद निकाय निदेशालय नेता प्रतिपक्ष के नाम को घोषणा कर सकेगा।

सुरेशचंद्र शर्मा, पालिका अधिशासी अधिकारी, पीपाड़सिटी।

pawan pareek Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned