जोधपुर में पुलिस पी गयी पेट्रोल

कुड़ी थाना पुलिस पी गई पेट्रोल!
-थाने में खड़े वाहनों का ईंधन हुआ खत्म, पुर्जे भी गायब
-पुलिस बन रही अनजान

By: Arvind Singh Rajpurohit

Published: 10 Nov 2017, 12:19 AM IST

बासनी(जोधपुर). आमजन की सुरक्षा का दावा करने वाली पुलिस के पहरेदार ही थाने में जब्त की गाडिय़ों की सुरक्षा करने में नाकाम हो रहे हैं। थाने में विभिन्न मामलों में जब्त किए गए वाहनों की सुरक्षा के प्रति पुलिस किस प्रकार से मुस्तैद है, यह कुड़ी थाने से बेहतर कोई नहीं बता सकता। इसे मिलीभगत कहें या लापरवाही, कुड़ी थाने में दुर्घटना के केस में जब्त कर खड़े किए जाने वाले वाहनों से र्इंधन गायब किया जा रहा है। इतना ही नहीं कई वाहनों के पुर्जे भी गायब हो चुके हैं। ऐसे में यहां बाड़ ही खेत को खाए जैसी कहावत चरितार्थ हो रही है।

जब्त बाइक से गायब हुआ आधी टंकी पेट्रोल
इसी तरह का एक मामला गुरुवार को सामने आया जब मंडोर क्षेत्र में रहने वाले मोबाइल व्यवसायी राहुल की बाइक के साथ भी यही घटनाक्रम दोहराया गया। उसने बताया कि गत माह दुर्घटना के एक मामले में उसने अपनी बाइक को थाने में लाकर जमा करवाया था। उस वक्त बाइक में किसी भी प्रकार की तोडफ़ोड़ नहीं की हुई थी। बाइक में आधी टंकी से अधिक पेट्रोल भी भरा हुआ था, लेकिन गुरुवार शाम को जब वह अपने जब्त वाहन को वापस लेने गया तो गाड़ी की पेट्रोल टंकी बाइक लेने के समय खाली थी। इतना ही नहीं बाइक के साथ कीमती सामान गायब करने के चक्कर में तोडफ़ोड़ भी की हुई थी। ऐसे में हैरान हुए राहुल ने इस बारे में जब थाने में बात की तो जिम्मेदार पुलिकर्मी ने गोलमोल जबाब देते हुए इस तरह की घटना के होने से ही इंकार कर दिया।

अन्य वाहनों के साथ भी यही हश्र
अपने वाहन से पेट्रोल गायब होने के शिकार अकेले राहुल नहीं है। राहुल जैसे कई लोगों के वाहनों के साथ भी यही हश्र हो रहा है। थाने में जब्त कई वाहनों से पेट्रोल गायब है, तो कई वाहनों से बैटरियां व अन्य कलपुर्जे भी गायब हो चुके हैं। तोडफ़ोड़ की सो अलग।

पुलिसकर्मी कर रहे इंकार
मौके पर घटना के संबंध में सभी पुलिसकर्मी अपनी भूमिका से इंकार कर रहे हैं। ऐसे में थाने में रखी गाडिय़ों से यूं ईंधन व पुर्जे गायब होना पुलिस प्रशासन की मिलीभगत के बिना संभव नहीं दिखाई देता।

कहां गया पेट्रोल.....?
जहां एक तरफ पुलिस प्रशासन सुरक्षा व्यवस्था की मजबूती के लाख दावे कर रहा हो, लेकिन हकीकत इससे कोसों दूर है। ताज्जुब की बात यह है कि थाने से गायब हो रहे वाहनों के पुर्जे व पेट्रोल के बारे में पुलिस प्रशासन अनजान ही बन रहा है। सवाल यह है कि थाने में पड़े वाहनों की जिम्मेवारी थाना स्टॉफ की है, तो वाहनों से ईंधन व पुर्जे गायब कैसे हो रहे हैं...?

इनका कहना है-
इस घटना के बारे में थाने के मालखाना प्रभारी प्रहलाद कुमार के अनुसार उनकी ड्यूटी शाम को खत्म हो जाती है। जिसके बाद रात की सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा संतरियों के भरोसे रहता है। यह पूछे जाने पर कि वाहनों से ईंधन कैसे गायब हो रहा है, इस सवाल का वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए।

Arvind Singh Rajpurohit
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned