पुलिस को अंदेशा : आत्मदाह से पहले नींद की गोली या जहर खाया!

- मकान में आग से दम्पती व दो पुत्रियों के जिंदा जलने का मामला
- एम्स चिकित्सकों के बोर्ड से चारों कंकाल का पोस्टमार्टम, एफएसएल जांच के बाद होगा मृत्यु का खुलासा

By: Vikas Choudhary

Published: 21 Jul 2021, 01:34 AM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
शास्त्रीनगर थानान्तर्गत सुभाष नगर स्थित मकान में आग से जिंदा जले दम्पती व दो पुत्रियों के कंकालों का मंगलवार को तीसरे दिन एम्स की मोर्चरी में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम हो सका। चिकित्सकों ने फिलहाल मृत्यु का कोई कारण स्पष्ट नहीं किया। विसरा व अन्य रक्त नमूनों की एफएसएल जांच के बाद संयुक्त रिपोर्ट से मृत्यु का कारण पता लग सकेगा।

थानाधिकारी पंकजराज माथुर ने बताया कि सुभाष नगर निवासी सुभाष चौधरी (75), पत्नी नीलम (70), पुत्री पल्लवी (50) व लावण्या (45) 18 जुलाई की रात मकान में लगी आग से जिंदा जल गए थे। कंकाल में बदले चारों शव का एम्स के तीन चिकित्सकीय बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया गया। तीसरी पुत्री नलिनी की तरफ से मर्ग दर्ज किया गया। पोस्टमार्टम के बाद हिन्दु सेवा मण्डल के सहयोग से जोधपुर में ही चारों का अंतिम संस्कार किया गया।
मकान के फ्रीज में आटा व फास्ट फूड सामग्री भी मिली थी। कंकाल में तब्दील होने के बावजूद चीखने-चिल्लाने की कोई आवाज तक नहीं आई थी। पुलिस ने आग से पहले नींद की गोलियां या जहरीला पदार्थ खिलाने की आशंका के चलते खाद्य सामग्री के नमूने भी लिए हैं।

प्रत्येक पोस्टमार्टम में लगे दो घंटे
एम्स मोर्चरी में तीन चिकित्सकों के बोर्ड से बारीकी से पोस्टमार्टम किया। हर पोस्टमार्टम में करीब दो घंटे लगे। 7-8 घंटे में शाम को पोस्टमार्टम हो पाए। चिकित्सकों ने कंकाल के परीक्षण से न सिर्फ चारों की उम्र बल्कि स्त्री-पुरुष का भी पता लगा लिया। हड्डियों पर बाल भी मिले। महिलाओं के तीनों कंकाल में बच्चेदानी भी मिली। पूरी तरह जलने के बावजूद हार्ट में ब्लड रह जाता है। डॉक्टर ने उस ब्लड के नमूने भी लिए। एफएसएल जांच के लिए विसरा लिए गए हैं। जिसकी जांच रिपोर्ट मिलने के बाद मृत्यु की सही वजह पता लग पाएगी।

जीवित पुत्री व चारों कंकाल की होगी डीएनए जांच
चारों कंकाल सुभाष, उनकी पत्नी व दो पुत्रियों के ही माने जा रहे हैं। फिर भी नलिनी व चारों का डीएनए जांच से मिलान कराया जाएगा। चारों कंकाल के ब्लड व हड्डियों का नमूना व नलिनी के ब्लड सैम्पल लिए गए हैं। जो जयपुर भेजे जाएंगे।

कमरे का एसी पूरी तरह गला
जिस कमरे में चारों कंकाल मिले थे वहां एयर कंडीशनर भी लगा था, लेकिन आग की वजह से एसी का इनर पूरी तरह गल गया था। दीवार में एसी के लिए बनाए सिर्फ खड्डे ही बचे थे। कमरे की पीओपी व छत भी पूरी तरह जल गई थी।

बिजली लाइन व एमसीबी की होगी एफएसएल जांच
मृत्यु का कारण पता नहीं लग सका है, लेकिन पुलिस को अंदेशा है कि नींद की गोलियां या जहरीला पदार्थ खाने के बाद आत्मदाह किया गया होगा। कमरे में गैस सिलेण्डर मिलना भी संदेह उत्पन्न करता है। वहीं, शॉर्ट सर्किट से आग लगने की भी आशंका है। इसके लिए बिजली की मुख्य लाइन व एमसीबी जब्त की गईं है। इन्हें भी एफएसएल जांच के लिए जयपुर भेजे जाएंगे।

--------------------------------
'एम्स में बोर्ड से चारों कंकाल का पोस्टमार्टम कराया गया है। एफएसएल जांच के बाद संयुक्त जांच रिपोर्ट मिलने पर ही मृत्यु का कारण स्पष्ट हो पाएगा। जलने से पहले नींद की गोलियां या जहर खाने की आशंका के चलते नमूने भी लिए गए हैं।Ó

आलोक श्रीवास्तव, पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) जोधपुर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned