आसाराम मामला : पुलिस ने की जोधपुर में किलाबंदी, चप्पे-चप्पे पर रख रहे नजर

इसके लिए जेल में विशेष कोर्ट बनाया गया है।

By: Harshwardhan bhati

Published: 25 Apr 2018, 07:58 AM IST

जोधपुर . गुरुकुल की नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म के आरोप में चार साल सात माह से जोधपुर जेल में बंद आसाराम व उसके चार अन्य सेवादारों को बुधवार को फैसला सुनाया जाने वाला है। इसके लिए जेल में विशेष कोर्ट बनाया गया है। बैरक नम्बर दो में बने कोर्ट में सुबह आठ बजे बाद न्यायाधीश मधुसूदन शर्मा फैसला सुनाने वाले हैं। आसाराम एवं प्रकाश को छोड़कर तीन अन्य आरोपी अभी जमानत पर हैं। वे सभी फैसले के समय उपस्थित रहेंगे। प्रकाश अभी जोधपुर जेल में ही बंद है। पुलिस कमिश्नर अशोक राठौड़ व डीसीपी अमनदीप सिंह ने मंगलवार को जेल का दो बार दौरा कर सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की। आज सुबह से ही विशेष जाप्ता देखने को मिल रहा है। पिछले दिनों से शहर में निषेधाज्ञा लागू है। जोधपुर पुलिस हाई-अलर्ट पर है। शहर को पूरी तरह सुरक्षा घेरे में ले लिया गया है। प्रवेश मार्गों पर चौबीस घंटे नाकाबंदी चल रही है।

सुबह ८ बजे जज-वकीलों की एंट्री, मीडिया पर रोक
जेल डीआईजी विक्रम सिंह ने बताया कि सुनवाई को लेकर जेल में कोर्ट लगाने की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। सुबह ८ बजे जज, वकील व अन्य अधिकारी जेल में प्रवेश करेंगे। इधर, जेल में कवरेज के लिए मीडियाकर्मियों की ओर से लगाए गए प्रार्थना पत्र को हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया। आसाराम के समर्थकों के शहर में आने की खबर को लेकर पुलिस ने रेलवे स्टेशन, रोडवेज बस स्टैण्ड पर सुरक्षा बढ़ा दी है।

ये हैं आरोपी
आसाराम - मुख्य आरोपी- शिवा उर्फ सवाराम- प्रमुख सेवादार - प्रकाश द्विवेदी-रसोईया - शिल्पी उर्फ संचिता गुप्ता - शरदचंद्र उर्फ शरतचंद्र

पुलिस हाई अलर्ट पर
पुलिस ने शहर को पूरी तरह सुरक्षा घेरे में ले लिया गया है। प्रवेश मार्गों पर नाकाबंदी कर दी गई है। बाहर से आने वाले वाहन व लोगों में आसाराम समर्थकों पर नजर रखी जा रही है। समर्थकों को शहर से बाहर रखने व कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए १४०० पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। आपातकालीन परिस्थिति के लिए ७०० पुलिसकर्मी रिजर्व रखे गए हैं। पुलिस उपायुक्त (पूर्व) डॉ अमनदीपसिंह कपूर ने बताया कि पुलिस अधिकारी व जवान दो चरणों में सड़क पर तैनात हैं। पुलिस थानों में दो सौ और लाइन व पुलिस कन्ट्रोल रूम में पांच सौ पुलिसकर्मी रिजर्व रखे गए हैं। आरएसी की छह कम्पनियां बुलाई गई हैं। प्रत्येक में करीब नब्बै अधिकारी व जवान शामिल हैं। इनमें स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की तीन कम्पनियां शामिल हैं।

Show More
Harshwardhan bhati
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned