बंदियों को रखा जाएगा दूसरी जेल में, नौ बंदी स्थानान्तरित, एक और प्रहरी निलम्बित

- राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित खबर के बाद हरकत में आया जेल प्रशासन

- फरार बंदियों का अभी तक सुराग नहीं

By: Vikas Choudhary

Updated: 09 Apr 2021, 12:43 AM IST

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर/फलोदी.
उप कारागृह फलोदी से 16 विचाराधीन बंदियों के फरार होने के बाद अब क्षमता से अधिक बंदियों को अन्यत्र कारागृहों में स्थानान्तरण करना शुरु कर दिया है। फलोदी उप कारागृह में बंद 44 में से नौ बंदियों को गुरुवार को अन्य जेलों में स्थानान्तरित कर दिया गया। जबकि अन्य बंदियों को भी जल्द ही अन्य जेलों में भेजा जाएगा।जेल प्रशासन के अनुसार नौ बंदियों को सूरतगढ़, चूरू, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, रायसिंह नगर की जेलों में शिफ्ट किया गया है। वहीं 13 अन्य बंदियों को भी एक-दो दिन में अन्य जेलों में शिफ्ट किया जाएगा।

क्षमता से अधिक थे बंदी, सम्भालना हो रहा मुश्किल
गौरतलब है कि फलोदी उपकारागृह में वर्तमान में 17 की क्षमता की तुलना में 60 बंदी बंद थे। इनकी सुरक्षा के लिए सिर्फ 13 सुरक्षाकर्मी ही जेल में नियुक्त थे। ऐसे में उपकारागृह की सुरक्षा काफी लचर हो गई थी, जिसका फायदा उठाकर गत 5 अप्रैल की रात 16 बंदी जेल से फरार हो गए थे।

पत्रिका ने उठाया मुदा, हरकत में आए जिम्मेदार
गौरतलब है कि उपकारागृह फलोदी में क्षमता से अधिक विचाराधीन कैदी होने से सुरक्षा व्यवस्था में आई कमजोरी का हवाला देते हुए राजस्थान पत्रिका ने गुरुवार को 'सुरक्षा में लगी सेंध, फिर भी जिम्मेदारों को नहीं परवाहÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर ध्यान आकर्षित किया था। इसके बाद जिम्मेदार हरकत में आए और बंदियों को अन्यत्र उपकारागृहों में शिफ्ट करने की कार्रवाई शुरू की।

अब सुरक्षित रहेगी जेल
क्षमता से अधिक कैदी होने से दबाव था, लेकिन अब बंदियों को अन्यत्र स्थलों जेलों में शिफ्ट करने की कार्यवाही शुरु की जा चुकी है, पहले चरण में नौ विचाराधीन बंदियों को गंगानगर, सूरतगढ, चूरू, रायसिंह नगर, अनूपगढ़ की जेलों में शिफ्ट किया गया है। शेष बंदियों को भी चरणबद्ध तरीके से शिफ्ट किया जाएगा।

- हनुवंतसिंह, उपकारापाल, फलोदी।
--------------------------------------

चौथे दिन भी पुलिस खाली हाथ
उधर, जेल से फरार होने वाले बंदियों को लेकर गुरुवार को चौथे दिन भी पुलिस के हाथ खाली हैं। पुलिस को अंदेशा है कि कुछ बंदी जोधपुर जिले से बाहर निकल गए हैं। इनकी तलाश में पुलिस ने कई जगह दबिशें दी, लेकिन फिलहाल कोई पकड़ में नहीं आया है। पुलिस को अंदेशा है कि बंदी बीकानेर, जैसलमेर व आस-पास के जिलों में छुपे हो सकते हैं। वहीं, जाति विशेष के बंदियों के अभी तक साथ होने की आशंका जताई जा रही है।
तीन दिन बाद एक और प्रहरी निलम्बित
उधर, जेल मुख्यालय ने फलोदी उप कारागृह के एक और प्रहरी को गुरुवार को निलम्बित कर दिया। उप महानिरीक्षक (जेल) सुरेन्द्रसिंह शेखावत बंदियों के फरार होने की जांच कर रहे हैं। इनकी जांच रिपोर्ट के आधार पर जेल प्रहरी राजेन्द्र गोदारा को निलम्बित करने के आदेश जारी किए गए। मुख्य प्रहरी नवीबक्श, प्रहरी सुनील कुमार, मदनपालसिंह व महिला प्रहरी मधुदेवी को गत छह अप्रेल को ही निलम्बित किया जा चुका है।
बंदियों की फरारी के बाद से थी संदिग्ध भूमिका
बंदियों के फरार होने के बाद एक वीडियो सामने आया था। जिसमें प्रहरी राजेन्द्र गोदारा हरा बनियान पहने हुए था। महिला प्रहरी पास ही बोतल से पानी पी रही थी। इसमें राजेन्द्र का बनियान सही सलामत था, लेकिन कुछ ही देर बाद उसका बनियान फटा नजर आ गया था। इससे उसकी भूमिका संदिग्ध नजर आई थी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned