शहर में 20 मिनट तक तूफानी बरसात, सडक़ों पर बहे ‘बाळे’

Gajendra Singh Dahiya

Publish: May, 17 2019 11:59:00 PM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर. पश्चिमी विक्षोभ के असर से शुक्रवार को पश्चिमी राजस्थान के कई हिस्सों में मेघगर्जना के साथ बरसात हुई। 20 से 30 किलोमीटर प्रति घण्टे की रफ्तार से बरसे बादलों से मानो किसी तूफानी बरसात का अहसास हो रहा था। जोधपुर में बीस मिनट में 8.5 मिलीमीटर पानी बरसा। इस दौरान सडक़ों पर बाळे और घरों से पनाळे बह निकली। बाड़मेर के कई हिस्सों में मेघ मेहरबान रहे। पचपदरा में 40 मिमी और सिवाणा में 30 मिमी बरसात से निचले इलाकों में पानी भर गया। जैसलमेर के पोकरण, फतेहगढ़ में करीब एक इंच बरसात हुई। पाली में दोपहर बाद झमाझम बारिश हुई। जालोर के रानीवाड़ा सहित कई कस्बों व गांवों में बिजली की चकाचौंध के साथ वर्षा हुई।


दिन का तापमान 35 डिग्री के भीतर पहुंचा
जोधपुर में बीती रात हल्की बरसात के बाद शुक्रवार सुबह न्यूनतम तापमान 22.3 डिग्री रहा। सुबह मौसम सुहाना था। बाद में धूप भी निकल आई लेकिन दोपहर 12 बजे से फिर से बादलों की आवाजाही शुरू हो गई। दोपहर दो बजे बरसाती मौसम हो गया। 2.20 बजे तेज हवा के साथ बौछारों शुरू हो गई। करीब बीस मिनट झमाझट बरसात हुई। तेज हवा के साथ पानी बरसने से सडक़ों पर बाळे बहे। ऐसा लग रहा था जैसे मानसून आ गया। हवा की गति 30 से 35 किलोमीटर रहने से कुछ स्थानों पर पेड़ उखड़ गए। बिजल के पोल को भी नुकसान पहुंचा। अधिकतम तापमान 33 डिग्री रहा जो कल की तुलना में पांच डिग्री कम था। बरसात से गर्मी से काफी राहत मिली। जिले के ग्रामीण हिस्सों में भी जमकर बरसात हुई। फलोदी, शेरगढ़, बालेसर, लोहावट, तिंवरी, बापिणी, देचू, बोरुंदा सहित कई स्थानों पर दोपहर बाद तेज बारिश हुई। बालेसर में मूसलाधार बरसात से पंचायत समिति कार्यालय में घुटने तक पानी भर गया, जिससे कर्मचारी अंदर रह गए और फरियाद बाहर इंतजार करते रहे। जैसलमेर में न्यूनतम तापमान 21.5 व अधिकतम 33.9 डिग्री रहा। बाड़मेर में रात का तापमान 20.8 व दिन का 35.3 डिग्री मापा गया।

 

फरवरी से परेशान कर रहा पश्चिमी विक्षोभ
मौसम विभाग के अनुसार इस साल पश्चिमी विक्षोभ दक्षिण की ओर नीचे आ रहा है, जिसके कारण पश्चिमी राजस्थान और उत्तरी पाकिस्तान के ऊपर चक्रवाती परिसंचारी तंत्र बन रहा है जो थोड़ा और नीचे जाकर अरब सागर की नमी खींचकर ला रहा है। अरब सागर की नमी थार की गर्म जमीन पर आते ही संवहनीय जैसी बरसात कर रही है, जिसमें बादलों के आपस में टकराने के साथ मेघ बरस रहे हैं। अत्यधिक ऊंचाई पर बादल चले जाने ओलावृष्टि भी हो रही है। यह मौसम इस साल फरवरी से बना हुआ है। मौसम विभाग की नजर अब मानसून पर है कि यह सिस्टम मानसून को कैसे प्रभावित करेगा।

आज भी थार में आंधी-बरसात का मौसम
मौसम विभाग के अनुसार जोधपुर, बाड़मेर, जैसलमेर सहित पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्सों में शनिवार को भी 30 से 35 किलोमीटर तेज हवा चलने के साथ हल्की बरसात, आंधी, ओलावृष्टि का मौसम बना हुआ है। मौसम विभाग ने यह भी चेतावनी दी है कि थण्डरस्ट्रॉर्म होने से कुछ स्थानों पर बिजली भी गिर सकती है।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned