scriptRare coincidence being made after 29 years on Makar Sankranti | मकर संक्रांति पर 29 साल बाद बन रहा दुर्लभ संयोग | Patrika News

मकर संक्रांति पर 29 साल बाद बन रहा दुर्लभ संयोग

 

कल खत्म हो जाएगा मळमास, बाजारों में तिल से बने व्यंजनों की खरीदारी बढ़ी

जोधपुर

Published: January 13, 2022 01:47:01 pm

जोधपुर. मकर संक्रांति 14 जनवरी को दोपहर 2.28 बजे सूर्यदेव अपने पुत्र शनि की स्वामित्व वाली मकर राशि में आने के साथ ही पुन: गृहप्रवेश, मुंडन संस्कार, यज्ञोपवीत, विवाह आदि मांगलिक कार्य आरंभ हो जाएंगे। धार्मिक मान्यतानुसार संक्रांति पुण्यकाल में दान-तीर्थ स्नान व नाम जप एवं तिल-तेल से निर्मित वस्तुओं के साथ शनि से संबंधित पदार्थों का दान अनंतगुणा फलदायक माना गया है। सूर्यनगरी में महिलाओं की ओर से एक ही तरह की तेरह वस्तुएं (तेरूंडा) भेंट करने की परम्परा का निर्वहन किया जाएगा। मकर संक्रांति के उपलक्ष्य में गजक, रेवड़ी, फीणी, घेवर एवं तिल से बने व्यंजनों की खरीदारी के चलते बाजार में अस्थाई स्टॉल्स पर रौनक रही।
मकर संक्रांति पर 29 साल बाद बन रहा दुर्लभ संयोग
मकर संक्रांति पर 29 साल बाद बन रहा दुर्लभ संयोग
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ेगा देश का पराक्रम
सूर्य के मकर राशि में आने के साथ ही मळमास (खरमास) खत्म हो जाएगा। ज्योतिषियों के अनुसार इस बार मकर संक्रांति का वाहन बाघ और उपवाहन अश्व होने से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश का पराक्रम बढ़ेगा। वस्त्र, आभूषण व सुख सुविधाओं का व्यवसाय करने वाले व्यापारियों-उद्यमियों के लिए शुभ रहेगा।
मकर संक्रांति पर इससे पूर्व ऐसा योग 1993 में

मकर संक्रांति को पौष महीने के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि रहेगी। इसलिए इस दिन सूर्य के साथ भगवान विष्णु की भी विशेष पूजा की जाएगी। सूर्य का राशि परिवर्तन दोपहर में होने से शाम तक पुण्यकाल रहेगा। इस दौरान तीर्थ स्नान, सूर्य पूजा और दान करने का कई गुणा शुभ फल मिलेगा। ज्योतिष डा.अनीष व्यास ने बताया कि मकर राशि में सूर्य और शनि ग्रह का होना बड़ा ही दुर्लभ संयोग है। और यह संयोग 29 साल के बाद हो रहा है। इससे पूर्व यह योग 1993 में पड़ा था। मकर संक्रांति के दिन रोहिणी नक्षत्र रात 8.18 बजे तक रहेगा। रोहिणी नक्षत्र के दौरान स्नान और दान-पुण्य करना शुभ होता है। इस दिन आनंदादि और ब्रह्म योग रहेगा। जब ग्रह राशि परिवर्तन करता है। तब इसका सभी 12 राशियों पर प्रभाव पड़ता है। इसका संबंध खगोल,ज्योतिष, मौसम और धर्म से भी है। मकर संक्रांति को उत्तरायण भी कहा जाता है।
मकर संक्रांति पुण्यकाल का शुभ समय
- दोपहर 2.43 से शाम 5.45 बजे तक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमी100-100 बोरी धान लेकर पहुंचे थे 2 किसान, देखते ही कलक्टर ने तहसीलदार से कहा- जब्त करोराजस्थान में यहां JCB से मिलाया 242 क्विंटल चूरमा, 6 क्विंटल काजू बादाम किशमिश डालेShani Parvat: हाथ में मौजूद शनि पर्वत बताता है कि पैसों को लेकर कितने भाग्यशाली हैं आपफरवरी में मकर राशि में ग्रहों का महासंयोग, मेष से लेकर मीन तक इन राशियों को मिलेगा लाभNew Maruti Wagon R : अनोखे अंदाज में आ रही है आपकी फेवरेट कार, फीचर्स होंगे ख़ास और मिलेगा 32Km का माइलेज़2 बच्चों के पिता और 47 साल के मर्द पर फ़िदा है ‘पुष्पा’ की 25 साल की एक्ट्रेस, जाने कौन है वो

बड़ी खबरें

Jammu Kashmir: अनंतनाग के हसनपोरा में आतंकी हमला, पुलिस हेड कांस्टेबल अली मोहम्मद शहीदभरोसा बनाए रखें, प्रिंट मीडिया को कोई खतरा नहींः प्रो. संजय द्विवेदीहम 'जनमन' की बात करते हैं और वे 'गन' की : स्वतंत्र देव सिंहUP Assembly Elections 2022: राजा भैया के खिलाफ कुंडा से समाजवादी के बाद बीजेपी ने घोषित की प्रत्याशी, जाने कौन है सिंधुजा मिश्रा जो राजा को देगी टक्करमहिला आयोग के नोटिस के बाद झुका SBI, विवादित सर्कुलर लिया वापसBeating the Retreat: गणतंत्र दिवस समारोह के समापन पर विजय चौक पर भव्य शो, 300 साल पुरानी है 'बीटिंग द रिट्रीट' परंपराभाजपा MLA की ‘जाति’ पर सवाल,हाईकोर्ट ने कहा- 90 दिन में सरकार करे समाधानराजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.