scriptRelief given to players by increasing the age of playing | सरकार ने खिलाड़ियों को खेलने की उम्र बढ़ाकर दी राहत, लेकिन कोरोना से टूर्नामेंट के आयोजन पर संशय | Patrika News

सरकार ने खिलाड़ियों को खेलने की उम्र बढ़ाकर दी राहत, लेकिन कोरोना से टूर्नामेंट के आयोजन पर संशय

- भारतीय विश्वविद्यालय संघ की ओर से खिलाडिय़ों के प्रतियोगिता में खेलने की उम्र 25 वर्ष थी
- केन्द्र सरकार ने कोरोना महामारी के कारण आयु सीमा 1 वर्ष बढ़ाकर 26 वर्ष किया

जोधपुर

Published: January 13, 2022 03:24:39 pm

जोधपुर। गत दो वर्षो से कोरोना के कहर से खेल-खिलाडिय़ों की गतिविधियां प्रभावित हुई है। केन्द्र सरकार ने खिलाडिय़ों को राहत देते हुए खेलने की आयु सीमा बढ़ाकर खिलाडिय़ों को राहत दी है। पहले भारतीय विश्वविद्यालय संघ की ओर से खिलाडिय़ों के विश्वविद्यायली टूर्नामेंट में खेलने की उम्र 25 वर्ष थी, कोरोना वैश्विक महामारी के कारण भारत सरकार ने आयु सीमा को 1 वर्ष बढ़ाकर 26 वर्ष कर दिया है। जिससे देशभर के लाखों खिलाड़ी, जो ओवरएज हो गए थे व प्रतियोगिता में खेलना चाहते थे, वे अब भारतीय विश्वविद्यालय संघ की प्रतियोगिताओं में खेल सकेंगे, इससे उनके सुनहरे भविष्य को नए आयाम मिलेंगे। लेकिन वर्तमान में कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों से प्रतियोगिताओं के आयोजन व खिलाडिय़ों को आयु सीमा में मिली छूट का फायदा लेने पर संशय बन गया है।
सरकार ने खिलाड़ियों को खेलने की उम्र बढ़ाकर दी राहत, लेकिन कोरोना से टूर्नामेंट के आयोजन पर संशय
सरकार ने खिलाड़ियों को खेलने की उम्र बढ़ाकर दी राहत, लेकिन कोरोना से टूर्नामेंट के आयोजन पर संशय
चयनित नहीं होने वाले खिलडिय़ों को मौका
विश्वविद्यालय में ऐसे सैंकड़ों खिलाड़ी है जो काफ ी मेहनत करके मैडल जीतने से कुछ अंतर से रह जाते थे व विश्वविद्यालय टीम में चयनित नहीं हो पात थे। एक वर्ष आयु सीमा बढ़ाने से उन्हें मैडल जीतने का एक और मौका मिलेगा।
खेल प्रतियोगिताओं में उम्र में छूट देने से जो खिलाड़ी पढ़ाई के साथ खेल में भी बेहतर है। आर्थिक परिस्थिति सही नहीं होने के कारण खेल छूट जाता है । उनके पास खेल कोटे से राजकीय सेवा में जाकर खेल को निरंतर जारी रखने का एक और अवसर मिल सकेगा।
भगवतसिंह राठौड़, टेनिस खिलाड़ी
कोरोना के कहर के बाद खिलाडिय़ों को उम्र में छूट देने से विशेषकर महिला खिलाडिय़ों में खुशी की लहर है। इससे महिला खिलाडिय़ों को अवसर मिल सकेगा और वे और अच्छे तरीके से अभ्यास कर पाएगी।
निहारिका शक्तावत, निशानेबाज
कोरोना के कारण लगातार खेल प्रतियोगिताओं को निरस्त किया जा रहा है। जिससे अनेक खिलाडिय़ों की आयु पूर्ण हो गई है । खिलाडिय़ों को आयु संबंधी पात्रता में छूट देने से खिलाडिय़ों को खेलने का अवसर मिलेगा।
विकेन्द्रसिंह शेखावत, पूर्व वालीबॉल कप्तान
जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशPunjab Assembly Election 2022: पंजाब में भगवंत मान होंगे 'आप' का सीएम चेहरा, 93.3 फीसदी लोगों ने बताया अपनी पसंदUttarakhand Election 2022: हरक सिंह रावत को लेकर कांग्रेस में विवाद, हरीश रावत ने आलाकमान के सामने जताया विरोधUP Election 2022 : अखिलेश के अन्न संकल्प के बाद भाकियू अध्‍यक्ष का यू टर्न, फिर किया सपा-रालोद गठबंधन के समर्थन का ऐलानभारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटकौन हैं भगवंत मान, जाने सबकुछशुक्र जल्द होंगे मार्गी, इन 5 राशि वालों को धन की प्राप्ति के बन रहे योगयहां पुलिस ने उठाया नक्सल प्रभावित गांवों के बच्चों को पढ़ाने का जिम्मा, नि:शुल्क कोचिंग में सपने गढ़ रहे छात्र
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.