सलमान खान को मिली बड़ी राहत, सरकार की दोनों अर्जी खारिज

jay kumar bhati

Publish: Jun, 17 2019 01:51:09 PM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर. हिरण शिकार मामले में फिल्म अभिनेता सलमान खान को आज जोधपुर की अदालत से राहत मिली। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जोधपुर जिला ने आज सरकार की दोनों अर्जी खारिज कर दी।

SEE MORE: VIDEO : सलमान खान के लिए फिर बढ़ी मुसीबत, कोर्ट में तीन अर्जियों पर आज हो सकता है फैसला

भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 340 के तहत दोनों अर्जियों पर आज कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। वहीं सलमान ने भी अभियोजन अधिकारी के खिलाफ पेश अर्जी वापस ले ली।

SEE MORE: सलमान खान के खिलाफ दर्ज हो सकता है नया मामला, देखें वीडियो

सरकार की ये अर्जी खारिज

1. सलमान खान द्वारा खुद की रिवाल्वर के लाइसेंस के गुम होने सम्बन्धी तथ्य में कथित रूप से झूठे बयान देने पर सरकार द्वारा पेश किए गए प्रार्थना पत्र का मामला।

2. पेशी के दौरान सलमान द्वारा कथित रूप से गलत तथ्यों के आधार पर हाजरी माफी देने पर सरकार द्वारा पेश अर्जी का मामला।
सलमान ने यह अर्जी ली वापस।

शिकार मामले के अभियोजन अधिकारी के खिलाफ कथित झूठी गवाही देने पर सलमान खान द्वारा पेश की गई थी अर्ज़ी। आज वापस ले ली।

SEE MORE: VIDEO : सलमान खान को नए मामले में दोषी साबित होने पर सात साल तक हो सकती सजा, ये है मामला...

सोमवार सलमान के लिए लकी साबित
पिछले 20 वर्षों से सलमान खान के खिलाफ काले हिरणों के शिकार मामला पीछा नहीं छोड़ रहा था लेकिन आज सलमान के लिए बड़ी राहत की खबर आई है। 2006 में सरकार ने सलमान खान के खिलाफ न्यायालय में सीआरपीसी की धारा 340 के तहत एक अर्जी दाखिल करते हुए आरोप लगाया कि सलमान खान ने अपने हथियार के लाइसेंस के संबंध में झूठा शपथ पत्र पेश किया है लिहाजा उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाए।इसी प्रकार कुछ वर्ष पहले सलमान खान द्वारा कोर्ट में अनुपस्थिति रहने के दौरान हाजिरी माफी प्रार्थना पत्र में खुद के कान में दर्द होने का हवाला देते हुए कोर्ट से हाजरी माफी का निवेदन किया, लेकिन उसी दौरान मीडिया में सलमान खान द्वारा फिल्म बजरंगी भाईजान की शूटिंग करने के फोटो छपे थे। इस आधार पर अभियोजन अधिकारी ने सलमान खान के खिलाफ फिर सीआरपीसी धारा 340 के अंतर्गत एक अर्जी दायर कर सलमान द्वारा झूठ के आधार पर जमानत प्रार्थना पत्र देने का आरोप लगाया।इस प्रकार सलमान के खिलाफ दो अर्जियां सरकार द्वारा पेश की गई थी।

SEE MORE: रेजीडेंट हड़ताल के चलते चिकित्सकों का इंतजार करते रहे मरीज, देखें वीडियो

यदि यह प्रार्थना पत्र स्वीकार हो जाते तो सलमान खान के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 193 के अंतर्गत मामला दर्ज होता तथा इसमें सात वर्ष की सजा का प्रावधान था । परंतु सोमवार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जोधपुर जिला के न्यायाधीश अंकित रमन ने दोनों अर्जी खारिज कर दी।अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत ने यह मजबूत दलील दी कि जब अवैध हथियार प्रकरण का मामला कोर्ट ने खारिज कर सलमान खान को बरी कर दिया है तब उसके खिलाफ लाइसेंस के संबंध में दिए गए शपथ पत्र का कोई औचित्य नहीं रह जाता। इसी प्रकार हाजिरी माफी के संबंध में न्यायालय में कहा कि सलमान उस दौरान जम्मू-कश्मीर में फिल्म शूटिंग कर रहे थे तथा उनके कान में दर्द था, इसलिए सलमान खान ने हाजरी माफी का प्रार्थना पत्र पेश किया था।

 

उधर सलमान खान द्वारा अभियोजन अधिकारी ललित बोडा़ के खिलाफ दी गई इसी धारा के अंतर्गत अर्जी को आज वापस ले लिया गया।सलमान खान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत में कहा कि हमने बड़ा दिल रखते हुए इस अर्जी को विड्रो कर लिया है । इस प्रकार आज तीन प्रार्थना पत्र खारिज हो गए और सलमान को बड़ी राहत मिली।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned