आसाराम की सह अभियुक्त शिल्पी के सजा स्थगन आवेदन पर आया ये नया मोड़!

सभी अभियुक्तों की ओर से सजा के खिलाफ अपील दायर की गई है।

By: Harshwardhan bhati

Published: 20 Jul 2018, 08:50 AM IST

Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर. छात्रा से यौन दुराचार के अपराध में उम्रकैद की सजा काट रहे आसाराम की सह अभियुक्त व आश्रम की हॉस्टल वार्डन संचिता उर्फ शिल्पी की ओर से 20 वर्ष की सजा के खिलाफ दायर अपील के तहत सजा स्थगन आवेदन एसओएसए व जमानत पर रिहाई याचिका की सुनवाई 30 जुलाई तक स्थगित कर दी गई। ये आदेश जस्टिस विजय विश्नोई ने दिए। याचिकाकर्ता शिल्पी की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता महेश बोड़ा व निशांत बोड़ा ने पक्ष रखा। अभियोजन पक्ष की ओर से उप राजकीय अधिवक्ता विक्रमसिंह राजपुरोहित ने आवेदन का जवाब देने के लिए समय देने की मांग की। इस पर जस्टिस विश्नोई ने मामले की सुनवाई 30 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दी। गौरतलब है कि अनुसूचित जाति व जनजाति न्यायालय ने 25 अप्रेल को आसाराम को पोक्सो एक्ट के तहत दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा तथा सह अभियुक्तों शिल्पी व शरत को 20-20 वर्ष की सजा सुनाई थी। सभी अभियुक्तों की ओर से सजा के खिलाफ अपील दायर की गई है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned