Singer Priyanka basu ने कहा कि जो कान दिल और दिमाग से अच्छा लगे, वही संगीत

MI Zahir

Updated: 05 Dec 2019, 04:00:00 AM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

एम आई जाहिर/ जोधपुर ( jodhpur news.current news ) .जोधपुर. अपने खूबसूरत और दिलकश गायन से लाइमलाइट में रहने वाली यूथ सिंगर ( Singer ) प्रियंका बासु ( Priyanka basu ) का मानना है कि संगीत के रूप और उसके श्रोता अलग अलग हो सकते हैं, लेकिन संगीत हर जगह सुना जाता है। उन्होंने पत्रिका से एक मुलाकात ( interview ) में कहा कि अच्छा संगीत हमेशा जिंदा रहेगा। वासु का मानना है कि जो संगीत कान दिल और दिमाग से अच्छा लगे उसे संगीत कहते हैं। वे गजल गायन के सिलसिले में जोधपुर आई हैं। वे झारखंड मूल की हैं और मुुंबई व अहमदाबाद से ताल्लुक रखती हैं। उनकी झारखंड में पली बड़ी हुई और प्राथमिक शिक्षा गुजरात व मुंबई में हुई है।

आशा भोसले, गीता दत्त और श्रेया घोषाल को फॉलो
पंडित जसराज के साथी शास्त्रीय गायक पंडित कृष्णकांत पारीक की शिष्या प्रियंका ने एक सवाल के जवाब मेें कहा कि मुझे सुगम संगीत, सूफी संगीत, गजल गायन व शास्त्रीय गायन बहुत पसंद है। मैं बॉलीवुड की पाश्र्व गायिका स्वर साम्राज्ञी भारत रत्न लता मंगेशकर की दीवानी हूं और आशा भोसले, गीता दत्त और श्रेया घोषाल को फॉलो करती हूं। इन दिनों संगीत निर्देशक अनिकेत खांडेकर से संगीत की बारीकियां सीख रही हूं।

गुजराती फिल्म 'जोकर' के लिए गायन
उन्होंने कहा कि मैंने हिन्दी व गुजराती टीवी सीरियल्स के लिए गायन किया है। गुजराती फिल्म 'जोकर' के लिए रोमांटिक गीत गाया है। मेरा अहमदाबाद से मुंबई रोज आना जाना लगा रहता है।

साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में जोधपुर बहुत समृद्ध

मेवाती घराने की गायिका वासु ने कहा कि मैं पहले भी जोधपुर आ चुकी हूं। जोधपुर साहित्य, कला व संस्कृति के क्षेत्र में बहुत समृद्ध है। यहां संगीत, गायन, वादन और नृत्य की भी उच्च परंपरा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned