डोडा पोस्त तस्करी में फंसे तो तस्करों ने रची हमले की साजिश!

Vikas Choudhary

Updated: 05 Dec 2019, 12:21:25 AM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
फलोदी थानान्तर्गत उग्रास (ढढू) गांव में निर्माणाधीन सोलर ऊर्जा प्लांट पर हमले के पीछे डोडा पोस्त की तस्करी को बड़ा कारण माना जा रहा है। तस्करी में लिप्त तस्करों के खिलाफ मामले दर्ज होने से उन्हें अंदेशा है कि निर्माण कार्य कराने वाली कंपनी के संचालक जो रिश्ते में भाई भी हैं, उन्होंने पुलिस से कार्रवाई कराई थी। जिससे उन्हें आर्थिक नुकसान पहुंचा और इसी का बदला लेने के लिए प्लांट में हमला किया गया था। वहीं, हमले की साजिश में अजमेर जिले की हाइ सिक्योरिटी घुघरा घाटी जेल में बंद एक हार्डकोर की भूमिका भी होने का अंदेशा है।

एसएल सौर ऊर्जा कम्पनी की ओर से गांव में सोलर प्लांट लगाने का कार्य चल रहा है। महिपाल भादू की कम्पनी ने प्लांट की चार दीवारी व जीएसएस निर्माण का ठेका ले रखा है। जो फलोदी प्रधान के पिता हैं। रिश्ते में भाई प्रभुराम, बचनाराम, बिरदाराम व मांगीलाल बिश्नोई की महिपाल से रंजिश चल रही है। प्रभुराम बिश्नोई कोटा पुलिस का निलम्बित कांस्टेबल है। वह मादक पदार्थों की तस्करी के आरोप में गिरफ्तार होने के बाद जमानत पर रिहा है।
कुछ समय पहले ग्रामीण पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के दो मामले दर्ज किए थे। इनमें लाखों रुपए का डोडा पोस्त से भरा एक ट्रक भी जब्त किया गया था। इसके अलावा पुलिस पर फायरिंग व हमले में भी बचनाराम वांछित हैं। इन्हें अंदेशा है कि महिपाल भादू ने यह कार्रवाई कराई थी। जिससे बड़ा आर्थिक नुकसान पहुंचा।

हमले के पीछे जोधपुर जिले के हार्डकोर बदमाश की भूमिका होने की भी आशंका है। जो अजमेर की हाइ सिक्योरिटी घुघरा घाटी जेल में बंद है। चार साल पूर्व पुलिस हिरासत से फरार होने के बाद वह कोटा में एक कांस्टेबल के क्वार्टर में छुपा मिला था।
प्रतिदिन ६८ हजार भुगतान पर रखे थे पन्द्रह जवान

उधर, महिपाल भादू ने प्लांट पर काम के ठेके लिए। शिलान्यास पर ही हमला कर दिया गया था। उसे भाइयों की तरफ से बड़े हमले की आशंका होने लगी। इसीलिए प्लांट पर सुरक्षा के लिए भुगतान पर पुलिस के हथियारबंद जवान तैनात किए गए थे। बदले में ६८ हजार रुपए प्रतिदिन भुगतान किया जा रहा था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned