जेएनवीयू छात्रसंघ चुनाव के नियमों को चुनौती, हाईकोर्ट ने इस बात से किया इनकार

जस्टिस निर्मलजीत कौर की अदालत में अब सोमवार 21 अगस्त को होगी याचिका की सुनवाई

By: Amit Dave

Published: 18 Aug 2017, 04:55 PM IST

जोधपुर . शहर में छात्रसंघ चुनावों की तारीख तय होते ही सरगर्मियां भी तेज होने लगी हैं। इसके चलते छात्रनेता रणभेरी का राग भी छोड़ चुके हैं। छात्रसंघ चुनावों में एक ओर नियमों की दुहाई दी जाती है। वहीं दूसरी तरफ इसके नियमों की धज्जियां भी सरेआम ही तोड़ी जा रही हैं। हालांकि इस बार विवि प्रशासन और स्थानीय प्रशासन थोड़ी सख्ती बनाकर कार्य कर रहा है। शहर को गंदा करने पर छात्रनेताओं के खिलाफ प्रशासन की ओर से कार्रवाइयां भी की जा रही हैं। फिर भी चुनावों की खुमारी में भीगे छात्रनेता और संगठन विद्यार्थियों के वोटबैंक पर गिद्ध दृष्टि डाले हुए हैं। नवप्रवेशित विद्यार्थी छात्र राजनीति में अक्सर अधिक रुचि लेते हैं। एेसे में छात्रनेता भी अपने इस विशेष वोट बैंक को भुनाने में जुटा हुआ है।

 

राजस्थान हाईकोर्ट में जेएनवीयू सहित अन्य कॉलोजों में 28 अगस्त को प्रस्तावित छात्र संघ चुनावों में बदलाव को चुनौती देते हुए जेएनवीयू छात्र संघ में अध्यक्ष पद की उम्मीदवार कांता ग्वाला की ओर से जस्टिस निर्मलजीत कौर की अदालत में रिट याचिका पेश की गई। जस्टिस निर्मलजीत कौर ने याचिका में तुरंत सुनवाई से इनकार कर दिया। उन्होंने शुक्रवार को भी याचिका को सुनवाई के लिए स्वीकार नहीं किया। अलबत्ता अब याचिका की सुनवाई सोमवार 21 अगस्त को रखी गई है।


याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता महेन्द्र सिंह सिंघवी व अधिवक्ता विनीत दवे अदालत में पेश हुए। उन्होंने बाद में बताया कि जेएनवीयू छात्र संघ चुनवों में नियमों में भारी फेरबदल किए गए हैं, जिससे चुनाव लडऩे के में मुश्किलें पेश आ रही हंै। किसी अन्य सस्थान से माइग्रेट होकर आए छात्र को मताधिकार तो दिया गया है, लेकिन उसे चुनाव में खड़े होने की योग्य नहीं माना गया है। इसके अलावा अन्य कई नियम ऐसे हैं जिससे छात्र नेता प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि जस्टिस निर्मलजीत कौर ने याचिका की सुनवाई सोमवार को करने की स्वीकृति प्रदान की है।

Amit Dave Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned