सरपंचों के समर्थन से पंचायतीराज व्यवस्था गड़बड़ाई, कामकाज ठप

फलोदी. आंदोलनरत पंचायतीराज कर्मचारियों के समर्थन में सरपंचों के भी आने से जिले की पंचायतीराज व्यवस्था गड़बड़ा गई है। पंचायतों में कामकाज बिल्कुल ठप हो गया है।

By: Manish Panwar

Published: 19 Sep 2018, 01:38 AM IST

फलोदी. आंदोलनरत पंचायतीराज कर्मचारियों के समर्थन में सरपंचों के भी आने से जिले की पंचायतीराज व्यवस्था गड़बड़ा गई है। पंचायतों में कामकाज बिल्कुल ठप हो गया है। राज्य सरकार द्वारा पंचायतीराज कर्मचारियों के साथ पूर्व में किए गए समझौतों पर अमल करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर राजस्थान पंचायतीराज सेवा परिषद के प्रदेशव्यापी आह्वान पर पंचायतकर्मी आंदोलन कर रहे है। मंगलवार को सातवें दिन अनिश्चितकालीन सामूहिक अवकाश पर रहकर धरना जारी रखा। इन कर्मचारियों ने समर्थन देने वाले सरपंचों का धरना स्थल पर अभिनन्दन किया। फलोदी ब्लॉक के संघ के ब्लॉक अध्यक्ष माणकलाल पालीवाल, अनिल हर्ष, अजयकुमार सहित कई कर्मचारी आज धरने पर बैठे। उन्होंने बताया कि पंचायतीराज सेवा परिषद के तीनों संगठनों की मांगों पर गत तीन वर्षों में सरकार एवं प्रशासन द्वारा द्वारा बार-बार लिखित समझौते कर सहमति व्यक्त की गई, लेकिन इन समझौतों पर अब तक अमल नहीं हो पाया है। जिससे कर्मचारियों में भारी रोष व्याप्त है। उन्होंने मांग पत्र पर कार्रवाई होने तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी है। धरना स्थल पर आज जो भी सरपंच आए उन्हें मालाएं पहनाकर अभिनन्दन किया गया।
देणोक. सरपंच संघ के अध्यक्ष उमाराम चौधरी ने बताया कि हमने आज बापिणी पंचायत समिति के सभी सरपंच संघ की ओर से पंचायतीराज सेवा परिषद के समर्थन में आज मंगलवार से पंचायत कार्य का बहिष्कार करते हुए उसके समर्थन में हड़ताल पर उतर गए और मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन विकास अधिकारी को सौंपा।

बिलाड़ा. ग्राम सेवक अध्यक्ष महेन्द्र मालवीय ने बताया कि मांगे नही मानी गई तो धरना प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होना पडा। सातवे दिन पंचायत के सभी सरपंचो ने पंचायती राज कर्मचारियों के समर्थन में उतर गए और इसके चलते अटल सेवा केन्द्र पर ताले लगने की नौबत आ गई।

भोपालगढ़. राजस्थान पंचायतीराज सेवा परिषद की पिछले तीन बरसों से की जा रही विविध मांगे पूरी नहीं होने के विरोध में किया जा रहा आंदोलन एवं धरना मंगलवार को लगातार सातवें दिन भी जारी रहा और पंचायत समिति क्षेत्र के सभी कार्मिकों ने सामूहिक अवकाश पर रहते हुए स्थानीय पंचायत समिति प्रांगण में धरने पर बैठे रहे। साथ ही कार्मिकों ने सरकार की ओर से जारी आदेशों की भी होली जलाकर विरोध दर्ज करवाया। दूसरी ओर पंचायतराज विभाग के कार्मिकों की हड़ताल व आंदोलन को पंचायत समिति प्रधान चिमनसिंह चौधरी समेत कई सरपंचों ने भी नैतिक समर्थन दिया है। वहीं पंचायतराज कर्मचारियों के आंदोलन के चलते समिति कार्यालय के साथ ही क्षेत्र की सभी ग्राम पंचायतों पर भी ताले लटक गए हैं और सरपंचों व ग्रामीणों को पंचायतों के ताले खुलने के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। यहां आने वाले ग्रामीण फरियादियों को भी खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

 

Manish Panwar Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned