scriptThe government will have to take these steps to attract tourists from | Tourism: देश-विदेश के पर्यटकों को आकर्षित करने सरकार को उठाने होंगे यह कदम | Patrika News

Tourism: देश-विदेश के पर्यटकों को आकर्षित करने सरकार को उठाने होंगे यह कदम

पर्यटन की नई उम्मीदें

सरकार इन पर्यटन स्थलों पर ध्यान दें तो बढ़ सकता है रोज़गार

जोधपुर

Updated: April 01, 2022 01:03:59 pm

नंदकिशोर सारस्वत

जोधपुर. ब्लूसिटी जोधपुर जो अपने स्थापत्य और गौरवशाली इतिहास के कारण लोगों के आकर्षण का केन्द्र रहा है। यहां देश-विदेश के पर्यटक आते रहे हैं। लेकिन आज भी स्थानीय रहवास दो दिन से ज्यादा नहीं होता है। ऐसे में जरूरत है शहर व आस-पास के क्षेत्रों में नए पर्यटन स्पॉट चिह्नित कर उन्हें विकसित करने की। स्थानीय निकाय व राज्य सरकार ने इस दिशा में कार्य तो किए हैं, लेकिन कोई स्थाई समाधान नहीं हाे रहा है। प्रतिवर्ष देश व विदेश के करीब 12 लाख से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने वाले जोधपुर में पर्यटन स्थलों की भरमार होने के बावजूद सैलानी केवल उम्मेद पैलेस , मेहरानगढ़ व जसवंतथड़ा को देखकर चले जाते हैं। लेकिन किले, उम्मेद भवन के अलावा ऐसी बहुत सी सैकड़ों जगह हैं, जहां यदि राज्य सरकार, जिला प्रशासन और पर्यटन विभाग सुविधाएं विकसित कर दे तो सैलानियों के सर्वाधिक आकर्षण का केंद्र बन सकती हैं।
Tourism: देश-विदेश के पर्यटकों को आकर्षित करने सरकार को उठाने होंगे यह कदम
Tourism: देश-विदेश के पर्यटकों को आकर्षित करने सरकार को उठाने होंगे यह कदम
विदेशी पर्यटक जोधपुर आगमन

वर्ष ------------ संख्या

2017-18------1,54,417

2018-19------1,66,219

2019-20-----1,34,712

2020-21------289

2021-22-----1024 जनवरी 2022 तक

देशी पर्यटक जोधपुर आगमन

2017-18---------9,87,706

2018-19-------11,16,687

2019-20--------10,47,268

2020-21---------2,95,058
2021-22---------5,85,514 जनवरी 2022 तक

हम खुद ही तलाश सकते हैं विकल्प

पचेटिया हिल्स

पचेटिया हिल के आस - पास के क्षेत्र को हेरिटेज के रूप में विकसित करने का काम शुरू जरूर हुआ है , लेकिन फ्यूचर प्लान के लिए बजट नहीं मिला है। घंटाघर से पचेटिया हिल तक के क्षेत्र को विकसित होने से पर्यटकों के लिए नया स्पॉट खुलने से रोजगार के अवसर मिलेंगे ।
भोगिशैल धार्मिक सर्किट

जोधपुर के चारों तरफ प्रकृति की गोद में भोगीशैल पहाड़ियों के मध्य स्थित प्राचीन धार्मिक स्थलों का अपना एक इतिहास है। जोधपुर के प्राचीन प्रमुख आस्था स्थलों को विकसित किया जाए तो पर्यटन के क्षेत्र में नए द्वार खुल सकते हैं।
कायलाना- माचिया किला-सिद्धनाथ सर्किट :

कायलाना के आस - पास ही बायो डायवर्सिटी पार्क का प्रस्ताव अभी तक कागजों में है। जेडीए सिद्धनाथ मंदिर के समीप पहले से रोप वे की तैयारी हो रही है लेकिन धरातल पर अभी तक कुछ भी नहीं है। सिद्धनाथ से कायलाना मार्ग पर रिंग रोड विकसित करते हुए यदि माचिया पार्क व किले से जोड़ा जाए तो यह शहर का तीसरा सबसे बड़ा प्रमुख पर्यटन स्थल बन सकता है।
हेरिटेज पाथ टूरिज्म और झालरे बावडि़यां

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए परकोटे के भीतरी शहर में हेरिटेज पाथ के लिए अच्छा बजट मिले तो पर्यटन का नया आयाम स्थापित हो सकता है। जोधपर आने वाले देशी विदेशी पर्यटकों को प्राचीन कुएं, बावडि़या, कुण्ड, तालाब, झालरे के माध्यम से जल संरक्षण की यात्राएं करवाई जा सकती है।
पुरा संपदा को सहेजे तो बने बात

पश्चिमी राजस्थान की विरासत धरोहरों के लिए विशेष बजट की आवश्यकता है। देवस्थान विभाग प्रबंधित प्राचीन मंदिरों की भी स्थिति दयनीय है। बड़ी विरासत को बचाने के लिए बड़े बजट की महत्ती आवश्यकता है। राज्य सरकार को प्राचीन जलस्रोत कुए, बावडि़या, कलात्मक झालरे, गढ़, किले, देवल और मंदिरों आदि विरासतों को बचाने और उनके प्रचार प्रसार के लिए ध्यान दे तो पर्यटन को बढ़ावा मिल सकता है। - डॉ. एमएस तंवर, कन्वीनर, इंटेक जोधपुर चेप्टर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

अब तक 11 देशों में मंकीपॉक्स : शुक्रवार को WHO की इमरजेंसी मीटिंग, भारत में अलर्ट, अफ्रीकी वैज्ञानिक हैरानMP में ओबीसी आरक्षण: जिला पंचायत 30, जनपद 20 और सरपंचों को 26 फीसदी आरक्षणInflation Around the World: महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचारसावधान! अब हेलमेट पहनने के बावजूद कट सकता है 2 हजार रुपये का चालान, बाइक चलाने से पहले जान लें नया नियमIPL 2022 RR vs CSK: चेन्नई को हरा टॉप 2 में पहुंची राजस्थानIPL 2022 Point Table: गुजरात और राजस्थान ने प्लेऑफ में टॉप 2 में जगह की पक्की, आरसीबी-मुंबई दिल्ली भरोसेबैंक में डाका डालने से पहले चोरों ने की विधिवत पूजा, फिर लॉकर से उड़ा ले गए गहने और कैशOla-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार पर भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.