scriptThe knock of hunters in the natural habitat of the panther | पैंथर के प्राकृतवास में शिकारियों की दस्तक | Patrika News

पैंथर के प्राकृतवास में शिकारियों की दस्तक

पाली जिले में पैंथर को फंदे में फांसने की घटनाओ में बढ़ोतरी

जोधपुर

Published: January 05, 2022 02:56:51 pm

जोधपुर. प्रदेश के पैंथर बहुल क्षेत्रों में प्राकृतवास छोड़कर रिहायशी क्षेत्रों में घुसपैठ की घटनाओं में निरंतर बढ़ोतरी के बीच जोधपुर जिले से सटे पाली जिले का पैंथर प्राकृतवास शिकारियों के निशाने पर आ गया है। शिकारियों के बिछाए जाल में फंसने के बावजूद पिछले दो माह में दो पैंथर रेस्क्यू कर जोधपुर लाए जा चुके है।
पैंथर के प्राकृतवास में शिकारियों की दस्तक
पैंथर के प्राकृतवास में शिकारियों की दस्तक
केस-1-पाली जिले की रेंज सेंदडा के बिराठियां मोड़ू वन क्षेत्र से 23 अक्टूबर 2022 को घायल अवस्था में पैंथर शावक पड़ा मिला था। पैंथर शावक की प्रारम्भिक जांच में डायरिया के लक्षण, पंजे तथा कमर पर चोट के निशान भी मिले थे।
केस-2-बाली रेंज के जवाई रेलवे स्टेशन के नजदीक बोया गांव की सरहद में 27 दिसम्बर की देर रात को लोहे के फंदे में फंसा पैंथर मिला था जिसे रेस्क्यू के बाद जोधपुर लाया गया। माइक्रोचिप भी हो सकता है कारण जोधपुर संभाग के बाली उपखंड क्षेत्र के पैंथर कंजर्वेशन क्षेत्र में जवाई बांध के आसपास ईको टूरिज्म पिछले चार पांच साल में लगातारबढ़ा है। पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोग पर्यटकों को लुभाने के लिए अवैध रूप से पैंथर को ट्रेन्क्यूलाइज कर माइक्रोचिप लगा सकते है ताकि माइक्रोचिप लगाने के बाद पैंथर की लोकेशन का पता लगाया जा सके। हालांकि ऐसी हरकत रोकने के लिए वन अधिकारी सतर्क है। दोनों ही पैंथर शावक होना संदिग्ध पिछले दो माह में दो पैंथर संदिग्ध अवस्था में घायल मिले जिसमें दोनों ही वन्यजीव पैंथर शावक रहे। ऐसे में पैंथर के शरीर में माइक्रोचिप लगाने की आशंका से भी इन्कार नहीं किया जा सकता है।
नियमित गश्त व चैकिंग

हमने पाली जिले के जंवाई नहर के पास पैंथर संरक्षण क्षेत्र में किसी भी तरह के वन्यजीव शिकार की रोकथाम के लिए टीम को सर्तक कर रखा है। रविवार रात फंदे में फंसा पैंथर शावक मिलने के बाद उसकी जांच के लिए क्षेत्रीय वन अधिकारी व टीम से पूरी रिपोर्ट मांगी है। आसपास के लोगों से भी पूछताछ की जाएगी। डॉ. एस सरथ बाबू , उपवन संरक्षक पाली
शिकार के लिए पहुंचते है रिहायशी क्षेत्र

पैंथर के परम्परागत आवास कुंभलगढ़ सेंचुरी, राजसमंद, पाली की पहाडिय़ों में प्राकृतिक भोजन खत्म होने के बाद पालतू पशुओं का शिकार करने रिहायशी इलाकों में पहुंच जाते है। ऐसे में शिकारी इसका फायदा उठाते है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Uttarakhand Election 2022: हरक सिंह रावत को लेकर कांग्रेस में विवाद, हरीश रावत ने आलाकमान के सामने जताया विरोधUP Election 2022 : अखिलेश के अन्न संकल्प के बाद भाकियू अध्‍यक्ष का यू टर्न, फिर किया सपा-रालोद गठबंधन के समर्थन का ऐलानभारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटअरुणाचल प्रदेश में भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर 4.9 मापी गई तीव्रताभगवंत मान हो सकते हैं पंजाब में AAP के सीएम उम्मीदवार! केजरीवाल आज करेंगे घोषणाटैक्स बचाने के लिए यहां करें निवेश, खूब मिलेगा रिटर्नप्री-बोर्ड एग्जाम का शेड्यूल जारी, स्टूडेंट्स को इस काम के लिए जाना होगा स्कूलUP Police Recruitment 2022: 10 वीं पास युवाओं को सरकारी नौकरी का मौका, यूपी पुलिस ने निकाली भर्ती, 69,100 रुपये मिलेगी सैलरी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.