पुलिस को धता बता चोरों ने पुलिस लाइन के सामने ही दिया वारदात को अंजाम, एफआईआर भी दर्ज करने से इंकार

पुलिस को धता बता चोरों ने पुलिस लाइन के सामने ही दिया वारदात को अंजाम, एफआईआर भी दर्ज करने से इंकार

Jitendra Singh Rathore | Publish: Jun, 14 2018 12:10:40 PM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

- रातानाडा थाने के थानेदार बोले, सीसीटीवी फुटेज मिलने पर दर्ज होगी एफआईआर


- केबिन की चद्दर काटकर 22 हजार रुपए व हजारों का सामान चुराया

जोधपुर. पुलिस की रात्रिकालीन गश्त व चोरों को पकडऩे के लिए पुलिस की कार्यशैली कितनी प्रभावी है इसका उदाहरण बुधवार को पुलिस लाइन के सामने स्थित सरस बूथ के केबिन में चोरी से पता लगता है। मुख्य रोड व पुलिस लाइन के सामने लोहे की चद्दर काटकर चोरों ने केबिन से 22 हजार रुपए व पांच-छह हजार रुपए का सामान चुरा लिया। इतना ही नहीं बूथ के होमगार्ड मालिक ने रातानाडा थाने में लिखित शिकायत दी, लेकिन उसे दर्ज करने की बजाय जांच में रख दिया गया।
होमगार्ड जितेन्द्र सिंह पुत्र गोकुल सिंह शेखावत ने बताया कि पुलिस लाइन के सामने आर्य समाज भवन के बाहर उसका सरस बूथ का केबिन है। वह बुधवार सुबह 6.30 बजे केबिन पहुंचा तो साइड में लोहे की चद्दर कटी हुई थी। उसने केबिन का लॉक खोला तो अंदर सामान अस्त-व्यस्त थे। गुल्लक में रखे 21500 रुपए व पांच-छह हजार रुपए का सामान भी गायब था।

अंदेशा है कि पुलिस से बेखौफ चोर मंगलवार मध्यरात्रि केबिन के साइड में लोहे की चद्दर काटकर अंदर घुसे व हजारों रुपए व सामान पर हाथ साफ कर लिया। सरस बूथ केबिन के साथ-साथ होमगार्ड की ड्यूटी करने वाले जितेन्द्र सिंह की सूचना पर रातानाडा थाने से उप निरीक्षक श्रवण कुमार मौके पर आए और जांच की। बाद में बूथ संचालक ने थाने में चोरी की लिखित शिकायत भी दी। उसने क्षेत्र में ही रहने वाले एक-दो युवकों पर चोरी करने का अंदेशा भी जताया।

 

धोखा : आश्वस्त हो गई एफआईआर

बूथ संचालक जितेन्द्र का कहना है कि उसने थाने में सीआई को लिखित शिकायत देकर चोरी की एफआईआर दर्ज कराई है। जबकि हकीकत में पुलिस ने अपनी नाकामी छुपाने के लिए मामला दर्ज करने की बजाय जांच में रख लिया।

 

थानेदार का जवाब : जांच के बाद होगी एफआईआर

उप निरीक्षक बुद्धाराम का कहना है कि पुलिस लाइन के सामने बूथ में चोरी हुई है। एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। लिखित शिकायत को जांच में रखा गया है। वारदात के संबंध में पहले जांच करेंगे और फिर एफआईआर दर्ज होगी। चोरी के संबंध में सीसीटीवी फुटेज मिलने के बाद ही एफआईआर दर्ज की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned