VIDEO : बालेसर में आमजन के लिए सिरदर्द बन रहे ओवरलोड वाहन, पुलिस बन रही बेफिक्र

कुछ माह पूर्व ट्रक चालक की लापरवाही ने कुंई गांव के पास स्कूल जा रहे दो नन्हें भाई-बहनों को मौत की नींद सुला दिया था।

By: Harshwardhan bhati

Published: 02 Feb 2018, 03:29 PM IST

Jodhpur, Rajasthan, India

बालेसर/जोधपुर. आम राहगीर भले ही ओवरलोड वाहन देखकर घबरा जाएं मगर पुलिस मानो इन्हें देखकर भी नहीं देखने में अपनी शान समझ रही है। बालेसर सत्ता की खानियों से हर रोज शाम को ओवरलोड ट्रेक्टर ट्रॉलियां निकलती हैं और बीच आबादी क्षेत्र से होकर गुजर रही हैं। ओवरलोड वाहनों से यहां कई हादसे हो चुके हैं। कुछ माह पूर्व ट्रक चालक की लापरवाही ने कुंई गांव के पास स्कूल जा रहे दो नन्हें भाई-बहनों को मौत की नींद सुला दिया था।

 

हादसों के खिलाफ जब आवाज उठती है, तो कुछ देर के लिए प्रशासन जागता है और कानून के पालक कार्रवाई दिखाने उतरते हैं। लेकिन कुछ दिन बाद वहीं ढाक के तीन पात वाली स्थिति हो जाती है। पिछले एक वर्ष में बालेसर क्षेत्र के समीप ओवरलोड वाहनों व उनके चालकों की लापरवाही से दर्जनों सड़क दुर्घटनाएं घटित हो चुकी हैं। जिनमें कई लोग घायल हुए, तो कईयों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। फिर भी इन ओवरलोड वाहनों पर नकेल कसने का पुख्ता इंतजाम नहीं हो सका है।

 

पुलिस की नाक के नीचे से गुजरते हैं वाहन


रोजाना शाम ढलते ही खनन क्षेत्र के विभिन्न मार्गों पर ऐसे दर्जनों ओवरलोड वाहन देखने को मिल जाएंगे, जो पुलिस की नाक के नीचे से होकर गुजर रहे हैं। परंतु आज दिन तक पुलिस सीधी आंख से इन्हें नहीं देख पाई। बीते दिनों ही एक ओवरलोड ट्रैक्टर बालेसर सत्ता की पुरानी खानों से निकला और आबादी क्षेत्र के गड्ढे वाले रास्ते से निकलते कई बार पलटने की स्थिति में आया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned