ड्राइक्लीनर के दस्तावेजों से बना दी दो फर्में

Vikas Choudhary

Updated: 08 Dec 2019, 01:13:36 AM (IST)

Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

जोधपुर.
ड्राइक्लीनर से आयकर व जीएसटी रिटर्न भरने के लिए दस्तावेज से चार्टर्ड एकाउन्टेंट (सीए) ने दो फर्में बना करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी कर ली। जीएसटी कार्यालय से धोखाधड़ी का पता लगने पर पीडि़त ड्राइक्लीनर ने सीए के खिलाफ सदर कोतवाली थाने में एफआइआर दर्ज कराई है।

पुलिस के अनुसार गोल चौकी के समीप निवासी जयप्रकाश पुत्र हरिलाल की ओर से कोर्ट में पेश इस्तगासे के आधार पर शंकर नगर निवासी सीए गौरव माहेश्वरी के खिलाफ धोखाधड़ी की एफआइआर दर्ज की है। न्यायिक अभिरक्षा में चल रहे सीए पर यह आठवां मामला दर्ज है। आरोप है कि जयप्रकाश ने कृष्णा सुपरफास्ट लॉन्ड्री फर्म का आयकर व जीएसटी रिटर्न भरने के लिए सीए गौरव को दस्तावेज दिए थे। गौरव पिछले पांच साल से उसके रिटर्न जमा करा रहा था। इस बीच उसने रिटर्न जमा कराने के नाम पर उससे कुछ दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करा लिए। आठ-नौ माह पहले जीएसटी अधिकारियों ने जयप्रकाश से सम्पर्क किया तो पता लगा कि उसके नाम कृष्णा डवलपर्स व जेयूबी मार्बल नाम से दो फर्में संचालित हो रही हैं। जबकि उसकी एक ही फर्म है। जीएसटी अधिकारियों ने गोपनीय जांच का भरोसा दिलाया तो उसने पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई। आठ महीने बाद गौरव माहेश्वरी के घोटाले उजागर होने पर उसे पूरी बात पता लगी।
खुद के स्तर पर जांच करने से पता चला कि गौरव ने उसके दस्तावेजों में हेरा-फेरी कर फर्जी फर्में बना दी और फर्जी बिल बना २.६१ करोड़ से अधिक रुपए के लेन-देन दिखा ३७.१५ लाख रुपए और ५०.०८ लाख रुपए के जीएसटी गबन किया गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned