डिजिटल एजुकेशन में बनाई ‘उत्कर्ष’ पहचान

- 1.5 करोड़ से ज्यादा लोग जुडे हैं उत्कर्ष के डिजिटल प्लेटफार्म से

By: Jay Kumar

Published: 13 Sep 2021, 11:01 AM IST

जोधपुर. लॉकडाउन में जब शिक्षा के मंदिर पर सुरक्षा की दृष्टि से ताले लगे थे, तब डिजिटल एजुकेशन के नए सोपान तय कर १.५ करोड़ से ज्यादा का परिवार बन जोधपुर के नामचीन शिक्षण संस्थान उत्कर्ष क्लासेस ने कीर्तिमान रचा। न सिर्फ राजस्थान बल्कि देश के कोने-कोने में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाले बच्चों को संकट के समय में भी शिक्षा से जोड़ा और यह सफर लगातार जारी है।

उत्कर्ष की सोमवार को १९वीं वर्षगांठ है। जिस सोच के साथ इस शिक्षण संस्थान की स्थापना हुई वह समय के साथ साकार होती गई। कोरोनाकाल में तो इस सोच ने नई कहानी गढ़ डाली। उत्कर्ष के यूट्यूब चैनल ने ७० लाख सब्सक्राइबर का आंकड़ा पार किया। डिजिटल शिक्षा के सभी आयामों में आज उत्कर्ष के १.५ करोड़ से ज्यादा रिकार्ड सब्सक्राइबर है।

ऑनलाइन शिक्षा के नए सोपान
उत्कर्ष ने डिजिटल शिक्षा के १३ चैनल बनाए हैं। इसके अलावा उत्कर्ष एप ६० लाख मोबाइल पर इंस्टॉल हो चुके हैं। इन पर राजस्थान के अलावा १० और प्रदेशों के सरकारी विभागों की भर्तियों की तैयारी करवाई जाती है। उत्कर्ष क्लासेस की ऑफलाइन क्षेत्र में भी साख कायम है।

इनका कहना...
जब १९ साल पहले उत्कर्ष क्लासेस की नींव रखी तो एक पवित्र सोच थी। बड़े मेट्रो शहर ही प्रतियोगी परीक्षाओं के गढ़ होते थे, लेकिन धीरे-धीरे फिजा बदली और अब जोधपुर इसका गढ़ बन रहा है। आगे सपना है कि उत्कर्ष डिजिटल एजुकेशन का पयार्य बने। भविष्य में प्रयास करेंगे कि सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के साथ अलग-अलग यूनिवर्सिटी के कोर्सेस की पढ़ाई भी करवाई जाए।
- निर्मल गहलोत, फाउंडर व सीईओ, उत्कर्ष क्लासेस

Jay Kumar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned