थोड़ी देर में आएगा आसाराम पर फैसला, सजा या बरी होने पर आगे होगा क्या, पढ़े इस रिपोर्ट में...

आसाराम के अधिवक्ता भी रिकॉर्ड लेकर कोर्ट पहुंचे हैं।

By: Harshwardhan bhati

Published: 25 Apr 2018, 08:57 AM IST

जोधपुर . गुरुकुल की नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म के आरोप में चार साल सात माह से जोधपुर जेल में बंद आसाराम व उसके चार अन्य सेवादारों को बुधवार को फैसला सुनाया जाने वाला है। इसके लिए जेल में विशेष कोर्ट बनाया गया है। बैरक नम्बर दो में बने कोर्ट में सुबह न्यायाधीश मधुसूदन शर्मा फैसला सुनाएंगे। आसाराम एवं प्रकाश को छोड़कर तीन अन्य आरोपी अभी जमानत पर हैं। वे सभी फैसले के समय उपस्थित रहेंगे। प्रकाश अभी जोधपुर जेल में ही बंद है। इसके लिए न्यायाधीश कोर्ट पहुंचकर कार्य शुरू कर चुके हैं। वहीं आसाराम के अधिवक्ता भी रिकॉर्ड लेकर कोर्ट पहुंचे हैं। इसके साथ ही पुलिस ने शहर के चप्पे-चप्पे पर नजर रखी हुई है। आसाराम समर्थकों सहित सब की निगाहें इस बात पर टिकी हुई हैं कि यदि आसाराम को आरोपी मान लिया जाता है या बरी कर दिया जाता है तो आगे क्या होगा? आइए पढि़ए इस रिपोर्ट में

 

आसाराम को सजा होने पर आगे क्या?


- केंद्रीय कारागार में विशेष कोर्ट से आसाराम को सजा और फैसले की कॉपी मिलने के तुरंत बाद आसाराम के वकील गुरुवार को राजस्थान उच्च न्यायालय में सजा स्थगन और सजा के खिलाफ अपील पेश कर सकते हैं।

- शुक्रवार को केस डायरी मंगवाई जा सकती है।


- शनिवार को अवकाश रहेगा इसलिए उच्च न्यायालय में आसाराम की ओर से सजा स्थगन और सजा के खिलाफ अपील पेश की जाती है, तो उसकी सुनवाई संभवत: सोमवार को ही होगी।

 

बरी होने पर आगे क्या?

 

- आसाराम को जमानत मुचलके पर इस केस से रिहा कर सकते हैं, लेकिन गुजरात में चल रहे मामले में पुलिस आसाराम को तुरंत न्यायिक हिरासत में ही गुजरात भेज सकती है या गुजरात पुलिस स्वयं बुधवार को आकर आसाराम को गिरफ्तार कर गुजरात ले जा सकती है। आसाराम के खिलाफ गुजरात में भी यौन दुराचार और हत्या जैसे संगीन मामले विचाराधीन है।

- इधर, राजस्थान सरकर की ओर से भी आसाराम के बरी होने के खिलाफ उच्च न्यायालय में अपील पेश की जा सकती है। अपील कब पेश की जाएगी यह सरकार पर निर्भर करेगा।

 

बापू निर्दोष : आसाराम समर्थक

आसाराम समर्थकों का कहना है कि उन्हें झूठे मामले में फंसाया गया है। उन्हें उम्मीद है कि कोर्ट भी उन्हें बरी कर देगा, उन्हें न्याय जरूर मिलेगा। कुछ समर्थक बोले-उन्हें हिंदू संत होने के कारण फंसाया गया है। हम उनके लिए दिन-रात भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं। भगवान इंसाफ करेगा और वे कोर्ट से बरी हो जाएंगे। उत्तर प्रदेश से आए समर्थकों के समूह ने कहा, हम इतने दूर से आए लेकिन पुलिस हमें मिलने नहीं दे रही। तीन दिन से यहां आए हुए हैं। पुलिस ने पहले आश्रम से निकाल दिया और फिर कोर्ट की बजाए जेल में ही फैसला सुना रहे हैं। जेल से रिहा होते देखने के लिए आए हैं।

Show More
Harshwardhan bhati
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned