#sehatsudharosarkar: जोधपुर में नहीं रुक रहा स्वाइन फ्लू से मौतों का सिलसिला, अब 3 साल की मासूम की मौत

Abhishek Bissa

Publish: Sep, 17 2017 03:37:58 (IST)

Jodhpur, Rajasthan, India
#sehatsudharosarkar: जोधपुर में नहीं रुक रहा स्वाइन फ्लू से मौतों का सिलसिला, अब 3 साल की मासूम की मौत

एमडीएम जनाना विंग में 3 वर्षीय मासूम की स्वाइन फ्लू से मौत

 

जोधपुर. चिकित्सा प्रशासन की लापरवाही के कारण जोधपुर में स्वाइन फ्लू से मौतों का सिलसिला थम नहीं रहा है। इस महीने जोधपुर में स्वाइन फ्लू से चौथी मौत हो चुकी है। वहीं शनिवार रात डेढ़ बजे मथुरादास माथुर जनाना विंग में बाड़मेर पचपदरा निवासी 3 वर्षीय मासूम बालिका की मौत हो गई। इस बालिका को स्वाइन फ्लू के साथ-साथ गंभीर रूप से मलेरिया भी था। वहीं जोधपुर में अभी तक स्वाइन फ्लू पॉजीटिव के 66 रोगी सामने आ चुके है। वहीं डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज अब तक स्वाइन फ्लू के नये स्ट्रेन का पता तक नहीं लगा पाया है।

डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज मथुरादास माथुर अस्पताल में स्वाइन फ्लू के 7-8 पॉजिटिव मरीज भर्ती चल रहे हैं। माइक्रोबायोलॉजी विभागाध्यक्ष डॉ. पीके खत्री ने बताया कि सोमवार को पुणे वायरोलॉजिकल लैब के सैम्पल भेजने के लिए वहां के सम्बन्धित चिकित्सक से वार्ता की जाएगी। जबकि जोधपुर में दिनोंदिन स्वाइन फ्लू पॉजीटिव मरीज आने का सिलसिला नहीं थम रहा है। डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने अपना कंट्रोल ऑफिस भी पूरी तरह स्थापित नहीं किया है। जिम्मेदार कह रहे हैं कि अभी यह आंकड़ा इतना गंभीर नहीं है। प्रिंसिपल डॉ. अमिलाल भाट का कहना है कि उन्होंने एक नोडल अधिकारी नियुक्त कर दिया है।

 

वैक्सीन भी नहीं आया बाजार


स्वाइन फ्लू पूरे देश में तांडव मचा रहा है। इस बार कई वैक्सीन निर्माता कंपनियों ने अपने वैक्सीन भी तैयार नहीं किए हैं। इस कारण आइसोलेशन वार्डों में कार्यरत चिकित्सक व नर्सिंग स्टाफ बिना वैक्सीनेशन के सेवाएं दे रहे हैं। यह वैक्सीन लगाने के 15-20 दिन बाद इसका असर होता है। जानकारों के अनुसार फिलहाल स्वाइन फ्लू वार्डों में कार्यरत चिकित्सक और नर्सिंग स्टाफ टेमी फ्लू की गोली खा कर काम चला रहे हैं। स्वाइन फ्लू के लिए अभी तक बच्चे और बुजुर्ग सॉफ्ट टारगेट बने हुए हैं।

 

इधर-डेंगू चिकनगुनिया का कहर

सीएमएचओ की जानकारी के अनुसार शनिवार को एक और चिकनगुनिया रोगी सामने आया है। इसके अलावा एक डेंगू रोगी भी सामने आया है। स्वास्थ्य अधिकारी स्वाइन फ्लू और डेंगू की ताजा जानकारियों से अपडेट भी नहीं है। कई कार्मिकों को अमूमन जानकारी अखबारों के माध्यम से पता लग रही है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned