video : अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर इस पुरस्कार की घोषणा से खुशी दुगुनी : डॉ. पदमजा शर्मा

MI Zahir | Publish: Mar, 10 2018 04:10:24 PM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

हिन्दी की प्रख्यात कवयित्री डॉ. पदमजा शर्मा साहित्य का एक जाना पहचाना नाम है। राजस्थान साहित्य अकादमी के सुधींद्र पुरस्कार पर पत्रिका की विशेष बातचीत

मर्मस्पर्शी कविताओं की कवयित्री : डॉ॰ पदमजा शर्मा

राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर की ओर से इस वर्ष काव्य का शीर्ष पुरस्कार प्रख्यात कवयित्री डॉ. पदमजा शर्मा को प्रदान करने की घोषणा की गई है। बरसों से जोधपुर में रह रहीं हिन्दी की वरिष्ठ कवयित्री डॉ. पदमजा शर्मा गद्य और पद्य का एक जाना पहचाना नाम है। उन्हें सन 2014 में प्रकाशित काव्य संग्रह ' मैं बोलूंगी के लिए' के लिए सुधीद्र पुरस्कार देने की घोषणा की गई है।

उनके 400 से अधिक शब्दचित्र प्रकाशित

राजस्थान पत्रिका सहित कई समाचार पत्रों में उनके 400 से अधिक शब्दचित्र प्रकाशित होते रहे हैं। राजस्थान साहित्य अकादमी ,उदयपुर की
सरस्वती सभा की 2006 में सदस्य रह चुकी हैं। उनका जन्म 5 मार्च 1962 को झुंझनूं जिले के बिरमी में हुआ। उनकी प्रारंभिक शिक्षा गांव तथा बगड़
राजस्थान में हुई। पेश है उनसे बातचीत :

'' पुरस्कार ,सम्मान प्राप्त कर अच्छा ही लगता है ।मेरी खुशी दुगुनी है क्योंकि इस पुरस्कार की घोषणा अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर हुई है ।आप दुगुने जोश के साथ अपने काम में जुट जाते हैं ।आपसे अपेक्षाएं भी बढ़ जाती हैं । आप पहले से बेहतर की कोशिश करते हैं। हमें कई बार सुनने को मिलता है ' लेखन में क्यों समय खराब कर रही हो । आखिर क्या मिलता है । 'ऐसा कहने वालों को जवाब भी मिल जाता है । ''

प्रकाशन

कविता संग्रह (7) इस जीवन के लिए (2000),सदी के पार (2011),हारूंगी तो नहीं (2013 ),मैं बोलूंगी (2014 ),पहाड़ नदी फूल और
प्रेम (2014 ),खामोशी (2016),जिंदगी को मैंने थामा बहुत (2016) शब्दचित्र संग्रह (5) इस दुनिया के अगल बगल (1999),रमता जोगी बहता पानी(2005),नासिर के तीन सपने (2006),हंसो ना तारा (2016 ), घर से दूर घर के लिए(2017) आलोचना पुस्तकें (3) आचार्य चतुरसेन शास्त्री के उपन्यासों का सांस्कृतिक अध्ययन (1998),पंडित झाबरमल्ल शर्मा (1998),समय से संवाद (2014 ) साक्षात्कार संग्रह (1) रूबरू ( 2011) लघु कथा संग्रह (1) बेटी व अन्य लघु कथाएं (2016)महत्वपूर्ण सम्पादित पुस्तकें (4) जीवन के कितने पाठ -माध्यमिक शिक्षा विभाग राजस्थान , बीकानेर (2008), डॉ. सुशीला गुप्ता : व्यक्तित्व और कृतित्व (2011),श्री नेमिचन्द्र जैन भावुक : एक अखंड ज्योति (2016),अपने समय से बेहद नाराज एक प्रेम कवि : डा॰ रामप्रसाद दाधीच(2016) अनुवाद (1) हारूंगी तो नहीं काव्य संग्रह का सिन्धी भाषा में अनुवाद ।

अनुभव

जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय,जोधपुर से संबद्ध विभिन्न महाविद्यालयों में हिन्दी एवं पत्रकारिता विषयों में (यूजी, पीजी) 15 वर्ष अध्यापन, 1995:2009 महेश महिला महाविध्यालय ,जोधपुर में प्राचार्य 2005:2008,, कुछ समय महेश शिक्षण संस्था जोधपुर में तकनीकी निदेशक।

 

कुछ विशेष

एस आर एम यूनिवर्सिटी तमिलनाडु ,चेनई के फाउंडेशन कोर्स ,हिंदी के पाठ्यक्रम में कविता 'औरत' शामिल। सन 2014 में आठवें विश्व हिन्दी सम्मेलन ,अमरीका में राजस्थान सरकार के प्रतिनिधिमण्डल में शामिल (2007), स्विट्जरलैंड , ऑस्ट्रिया व जापान की शैक्षिक यात्रा(पत्रवाचन )(2012) जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में काव्य पाठ (2015) जोधपुर लिटेरेचर फेस्टिवल में स्त्री विमर्श की वक्ता (2016) स्तम्भ लेखन विभिन्न समाचार पत्रों जैसे राजस्थान पत्रिका ,जलते दीप आदि में ,फुटपाथ पर रहने वाले ,छोटे छोटे काम कर के अपना गुजारा करने वाले लोगों के साथ ही कामकाजी औरतों पर 400 से Óयादा शब्दचित्र प्रकाशित ,1995:2004 साक्षात्कार चार दर्जन से अधिक साहित्यकारों के साक्षात्कार (प्रख्यात साहित्यकार :चित्रा मुद्गल , सूर्यबाला ,नीरज ,सुधा अरोड़ा आदि आदि ) देश की जानी मानी पत्रिकाओं और पत्रों में प्रकाशित। दो दर्जन से अधिक (राष्ट्रीय: अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पत्रवाचन ) एक दर्जन से अधिक पुस्तकों में आलेख ,कविताएं, साक्षात्कार आदि संकलित नेट पर 'कविता कोश' और 'हिन्दी समय' पर रचनाएं।

अन्य उपलब्धियां

जयपुर दूरदर्शन पर काव्य पाठ और आकाशवाणी जोधपुर से कविता , फीचर व शब्दचित्र आदि का पिछले 25 बरस से निरंतर प्रसारण। राजस्थान
साहित्य अकादमी उदयपुर तथा हरियाणा साहित्य अकादमी के अनेक कार्यक्रमों व काव्य गोष्ठियों कवि सम्मेलनों में हिस्सेदारी । महाविद्यालय में एन. एस. एस. अधिकारी। आकाशवाणी के कार्यक्रम 'नारी वाटिका' का संचालन ।

संस्थाओं से जुड़ाव

राजस्थान उ'च न्यायालय ,लोक अदालत ,जोधपुर की मनोनीत सदस्य (2015 ) आकाशवाणी ,जोधपुर महिला सेल (आंतरिक शिकायत समिति)की मनोनीत सदस्य (2015) गांधी शांति प्रतिष्ठान जोधपुर की एग्जीक्यूटिव मेम्बर ,200& से गांधी शांति प्रतिष्ठान की संस्था 'अंतर प्रांतीय कुमार साहित्य परिषद' जोधपुर की महामंत्री, 2010 से राजस्थान साहित्य अकादमी ,उदयपुर की सरस्वती सभा की सदस्य ( 2006 में) नॉर्थ साउथ फाउंडेशन ,अमरीका (स्कॉलरशिप प्रदान करने वाली संस्था )के जोधपुर चैप्टर की सदस्य ,2016:17 से कई कार्यशालाओं में शिरकत।

पुरस्कार व सम्मान

घासीराम वर्मा साहित्य पुरस्कार ,चूरु 2017 वागीश्वरी सृजन कुंज पुरस्कार ,श्रीगंगानगर 2017 पत्रकारिता के लिए 'माणक अलंकरण' प्रशस्ति पत्र से सम्मानित (1995) महाश्वेता देवी सम्मान , कोटा (2017) अखिल भारतीय डॉ कुमुद टिक्कु श्रेष्ठ लघु कथा पुरस्कार, 2014 साहित्य व पत्रकारिता के क्षेत्र में जिला प्रशासन, जोधपुर से प्रशस्ति पत्र 2007 लेखन ,साहित्य ,संस्कृति, महिला शिक्षा व समाज सेवा के लिए वीर 'दुर्गादास राठौड़ सम्मान',मरुगंधा 27अगस्त 2007, जोधपुर। टाइम्स ऑफ इंडिया :वुमन ऑफ सब्स्टांस अवार्ड , 2015 लॉयन्स क्लब जोधपुर मरुधरा से सम्मानित 16:9:2001 जायंट्स गु्रप ऑफ जोधपुर सहेली (जायंट्स इंटरनेशनल) से सम्मानित 8 मार्च 2008 जोधपुर की लगभग एक दर्जन संस्थाओं ,समितियों, क्लबों, समाजों ने सम्मानित किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned