सलमान खान के खिलाफ गवाही देने नहीं पहुंचे गवाह, फिर टली सुनवाई

सलमान खान के खिलाफ गवाही देने नहीं पहुंचे गवाह, फिर टली सुनवाई
salman khan

सिने स्टार और बॅालीवुड फिल्म अभिनेता सलमान खान के खिलाफ जोधपुर कोर्ट में चल रहे हिरण शिकार केस में इस बार भी गवाह उनके खिलाफ गवाही देने कोर्ट नहीं पहुंचे। एेसा दूसरी बार हुआ है। दो बार गवाह नहीं आने के कारण कोर्ट ने सुनवाई टाल दी है।

बॉलीवुड स्टार सलमान खान के खिलाफ करीब 17 साल पुराने बहुचर्चित कांकाणी हरिण शिकार मामले में लगातार दो बार गवाह के नहीं आने से सुनवाई टाल दी गई है। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (जोधपुर जिला) में शनिवार को तत्कालीन वन अधिकारी ललित बोड़ा के बयान होने थे, लेकिन वे कोर्ट नहीं पहुंचे। गवाह नहीं आने से अब अगली सुनवाई छह अगस्त को होगी। 


गौरतलब है कि वर्ष 1998 में फिल्म 'हम साथ-साथ हैं की शूटिंग के दौरान लूणी थाने के कांकाणी की सरहद पर एक व दो अक्टूबर की आधी रात दो हरिणों का शिकार किया गया था। अभिनेता सलमान खान, सैफ अली खान, अभिनेत्री नीलम, तब्बू और सोनाली बेन्द्रे सहित अन्य पर शिकार करने का आरोप लगा था, जिसकी ट्रायल अभी तक सीजेएम (जोधपुर जिला) में चल रही है। मामले में अभी तक अभियोजन के गवाहों की गवाही भी पूरी नहीं हो पाई है।

उल्लेखनीय है कि जोधपुर की अदालत में चल रहे अवैध हथियारों के मामले में गत दिनों उन्हें राहत मिली थी। सेशन न्यायालय (जोधपुर जिला) के आदेश पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (जोधपुर जिला) दलपतसिंह राजपुरोहित ने सलमान का प्रार्थना पत्र मंजूर करते हुए मामले में अभियोजन स्वीकृति देने वाले तत्कालीन जिला कलक्टर रजत कुमार मिश्र को फिर से कोर्ट में पेश होने को कहा था।

जोधपुर कोर्ट और सलमान

सलमान खान के हिरण शिकार प्रकरण में राजस्थान हाईकोर्ट ने उनकी सजा का फैसला सुरक्षित रखा है। वर्ष 1998 में हिरण शिकार का मामला दर्ज होने पर सलमान खान दो दिन तक सेंट्रल जेल में बंद रहा था।

- 10 अप्रेल 2006 को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने पांच साल की कै द व 25 हजार के जुर्माने की सजा सुनाई।

-10 अप्रेल को सलमान सेंट्रल जेल में बंद हुआ। 13 अप्रेल 2006 को रिहा हो गया। इस दौरान वह सलाखों में रहा।

- 24 अगस्त 2007 को सत्र न्यायालय ने सजा के विरुद्ध अपील खारिज की।

-25 अगस्त को सलमान फिर सेंट्रल जेल की सलाखों में आ गया। -31 अगस्त को रिहा हुआ। सलमान खान अब तक 13 दिन सलाखों में रह चुका है।

बैरक नम्बर-1, कैदी नम्बर 343

सलमान खान को अब तक जेल में बैरक नम्बर एक में ही रखा गया। 25 अगस्त 2007 को जब सलमान ने सेंट्रल जेल में 6 रातें व 7 रातें गुजारी तो जेल में उसकी पहचान कै दी नम्बर 343 के रूप में की जाती थी। 

अपील पर सुनवाई पूरी

भवाद शिकार प्रकरण में सलमान खान को 17 फरवरी 2006 को ट्रायल कोर्ट ने दोषी मानते हुए एक वर्ष की सजा सुनाई गई थी। सलमान ने इस सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दायर कर रखी थी। जिस पर पूर्व में ही बहस पूरी होने के साथ निर्णय सुरक्षित रखा गया था। वहीं घोड़ा फार्म हाउस शिकार प्रकरण में इसी अदालत ने सलमान को 10 अप्रेल 2006 को पांच साल के कारावास और 25 हजार रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई थी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned