पांच-पांच सौ यूनिट बिजली खर्च करने वाले उपभोक्ताओं को थमाया 1 लाख का बिल

अंतागढ़ क्षेत्र एकल बत्ती बिजली उपभोक्ताओं को मीटर रीडिंग में पांच-पांच सौ यूनिट खपत करने पर एक-एक लाख रुपए का बिजली बिल पकड़ाए जाने का मामला सामने आ रहा है।

By: Bhawna Chaudhary

Published: 27 Nov 2019, 10:00 PM IST

कांकेर. अंतागढ़ क्षेत्र एकल बत्ती बिजली उपभोक्ताओं को मीटर रीडिंग में पांच-पांच सौ यूनिट खपत करने पर एक-एक लाख रुपए का बिजली बिल पकड़ाए जाने का मामला सामने आ रहा है। बिजली विभाग में अधिक बिल की शिकायत करने वालों को उल्टे कनेक्शन काटा जा रहा है। नगर पंचायत अंतागढ़ के साथ कलगांव के ग्रामीण बिजली बिल से परेशान हैं।

कलगांव निवासी नरेंद्र नाग ने बताया कि मीटर रीडिंग में मात्र 502 यूनिट बिजली खपत होना दिखाया जा रहा है। जबकि बिजली विभाग की ओर एक लाख 6 हजार 20 रुपए का बिल पकड़ाया गया है। हर माह वह बिजली शुल्क जमा कर रहा फिर भी बकाया बता रहे हैं। नाग ने बताया कि विद्युत विभाग में अधिक बिजली बिल आने की शिकायत किया तो तीन नवंबर 2019 को अधिकारियों ने मेरा कनेक्शन ही काट दिया है। कनेक्शन काटने के बाद सुधार कर विद्युत विभाग की ओर बिल भेजा गया, वह भी 72 हजार से अधिक का है। एक सप्ताह बाद फिर एक लाख ६ हजार रुपए बिजली बिल दे दिया गया।

इसी तरह से राजू पटेल ने बताया कि हर माह घरेलू बिजली कनेक्शन पर दो चार सौ रुपए बिल आ रहा था। हर माह बिजली बिल जमा करने के बाद अब अक्टूबर माह का बिजली बिल 18 हजार रुपए का भेजा गया है। कलगांव निवासी गोपाल शांडिल्य ने बताया कि वह हर माह बिजली बिल जमा कर रहा है। विद्युत विभाग की मनमानी से स्पॉट मीटर रीडिंग में 12 हजार रुपए का बिजली बिल पकड़ाया गया है। ताड़ोकी क्षेत्र रमेश ने बताया कि घरेलू कनेक्शन होने पर वह हर माह बिजली बिल जमा कर रहा है। विद्युत विभाग की ओर से स्पॉट बिलिंग में एक लाख रुपए से अधिक बिल पकड़ाया गया है। विद्युत विभाग में शिकायत करने के बाद भी किसी प्रकार का सुधार नहीं किया जा रहा है। स्पॉट बिजली रीडिंग बिलिंग के नाम पर विद्युत विभाग उपभोक्ताओं के पाकेट पर डाका डाल रहा है।

शिकायत करने वालों का कनेक्शन काटा जा रहा है। इसी तरह से नगर पंचायत अंतागढ़ में दो दर्जन से अधिक लोगों को 52-52 हजार का बिल पकड़ाया गया है। विभाग के अधिकारी इस संबंध में बोलने से कन्नी काट रहे हैं। वहीं मीटर रीङ्क्षडग करने वाले भी चुप्पी साधे हुए हैं। वहीं सब इंजीनियर ने कहा कि कुछ लोगों को स्पॉट बिङ्क्षलग में अधिक बिल आया है, जिसकी जांच चल रही है। रही बात नरेंद्र नाग की तो उनकी बकाया बिल के साथ एक लाख ६ हजार बिल आया है, सुधार किया जा रहा है।

Bhawna Chaudhary
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned