बच्चों ने कहा- सर..पुलिस और डाक्टर बनना चाहते हैं लेकिन पिता करवाते हैं गंदा काम

Chandu Nirmalkar

Publish: Dec, 07 2017 05:39:37 (IST)

Kanker, Chhattisgarh, India
बच्चों ने कहा- सर..पुलिस और डाक्टर बनना चाहते हैं लेकिन पिता करवाते हैं गंदा काम

दोनों बच्चों को बाल कल्याण समिति भेजते ही एक महिला समेत तीन लोग मौके पर पहुंच गए।

कांकेर. अपने ही दो नन्हे बच्चों को भीख के लिए प्रेरित करने वाले माता-पिता समेत पांच लोगों को न्यू बस स्टैण्ड के सामने बाल संरक्षण टीम की सर्तकता पर कोतवाली पुलिस ने बुधवार को धर दबोचा। दोनों बच्चों को बाल कल्याण समिति भेजते ही एक महिला समेत तीन लोग मौके पर पहुंच गए। जहां दोनों बच्चों को अपना बताकर आगे ऐसी गलती नहीं करने की गुहार की। बाल संरक्षण और पुलिस टीम व सिंगारभांट बाल कल्याण समिति ने समझाइश देकर सभी को छोड़ दिया।

पुलिस टीम द्वारा पकड़े गए राजस्थान वारा निवासी महेश और उज्जैन अली आपस में जीजा-साला बता रहे हैं। नगर के बरदेभाटा में कुछ दिनों से डेरा डाले हुए हैं। बुधवार को न्यू बस स्टैण्ड के सामने १३ वर्षीय और ७ वर्षीय दो नाबालिग बच्चे दुकानों में भीख मांग रहे थे। नाबालिग बच्चों से भीख मांगने के बारे में एक व्यक्ति ने जानकारी चाही तो दोनों मासूमों ने पढ़कर एक पुलिस और दूसरा डाक्टर बनना चाह रहे थे। स्कूल जाने पर माता-पिता द्वारा मना करना बता रहे थे। भीख मांगने के लिए सुबह से दोनों बच्चे विभिन्न स्थानों पर जाते हैं।

भीख नहीं मांगने पर पिटाई होने की बात स्वीकार की। इसी बीच बाल संरक्षण विभाग के अफसर एवं पुलिस टीम सूचना पर मौके पर पहुंच गईं। बाल संरक्षण टीम ने दोनों बच्चों से पूछताछ करने के बाद बाल कल्याण स्कूल में रखने के लिए सिंगारभांट भेंज दिया। इसी बीच बच्चों से भीख मांगने के लिए प्रेरित करने वाले उनके माता-पिता और एक व्यक्ति को पुलिस ने पकड़ लिया। बच्चों के माता-पिता के साथ एक अन्य व्यक्ति भी भीख के लिए प्रेरित करने पर पुलिस टीम ने फटकार लगाई। बच्चों को नियमित स्कूल भेजने की समझाइश देकर छोड़ दिया गया। इस दौरान बाल सरंक्षण समिति के शिक्षा विभाग की ओर से संकुल समन्वयक हेमंत साहसी, कमलेश्वर साहू एवं जिला बाल संरक्षण विभाग अधिकारी रीना लारिया के अलावा अन्य पुलिस कर्मचारी उपस्थित थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned