300 से अधिक अन्नदाताओं के साथ करोड़ों की धोखाधड़ी, किसान बोला- इस कांड में पुलिस भी है शामिल

Chandu Nirmalkar

Publish: Sep, 17 2017 08:16:49 (IST)

Kanker, Chhattisgarh, India
300 से अधिक अन्नदाताओं के साथ करोड़ों की धोखाधड़ी, किसान बोला- इस कांड में पुलिस भी है शामिल

किसान की ऋण पुस्तिका में कूटरचना कर लाखों की गड़बड़ी उजागर होने पर नाथियानवागांव सोसाइटी में हड़कंप मचा है

कांकेर. किसान की ऋण पुस्तिका में कूटरचना कर लाखों की गड़बड़ी उजागर होने पर नाथियानवागांव सोसाइटी में हड़कंप मचा है। पीडि़त किसान को सफेदपोश शिकायत वापस लेने के लिए दबाव बना रहे हैं। किसान के साथ धोखाधड़ी करने वाले सोसाइटी के कर्मचारियों एवं अधिकारियों को रसूखदारों का सरंक्षण मिल रहा है।

पत्रिका में शुक्रवार के आंचलिक अंक में नाथियानवागांव सोसाइटी में लाखों का घपला, ऋण पुस्तिका में हुई गड़बड़ी शीर्षक से खबर प्रकाशित होने के बाद नाथियानवागांव निवासी पीडि़त किसान देवाराम मंडावी पर दबाव बनाया जा रहा है। शिकायत वापस नहीं लेने पर गलत अंजाम की धमकी दी जा रही है।

पीडि़त किसान ने बताया कि वह अतिरिक्त ऋण के लिए आवेदन ही नहीं किया था, तो ऋण पुस्तिका में 1.50 लाख रुपए अधिक चढ़ाकर पूरी राशि कैसे निकाल लिया गया। किसान के पासबुक को भी अपडेट नहीं किया गया। पड़ताल में जानकारी मिली कि इस सोसाइटी में करीब 300 से अधिक किसानों की ऋण पुस्तिका में कूट रचनाकर करोड़ों रुपए निकाला जा चुका है। सोसाइटी से मिले पासबुक में जानबूझकर एन्ट्री नहीं किया गया है।

 

farmer

सोसाइटी से ऋण लेने वाले किसानों की ऋण पुस्तिका में चुपके से राशि का बढ़ाया गया है। किसानों को ऋण के नाम पर करोड़ों का खेल यहां पांच साल से चल रहा है। पीडि़त किसान ने आरोप लगाया कि शाखा प्रबंधक से बार-बार ऋण पुस्तिका मांगने के बाद भी नहीं दी जा रही थी। पुलिस में शिकायत करने के बाद ऋण पुस्तिका को दिया गया, जिसमें 1.50 लाख रुपए अधिक ऋण दिखाकर राशि निकाल लिया गया है। गांव के दो अन्य किसानों के खाता में 40-40 हजार अधिक दिखाकर निकाल लिया गया है। किसान ने बताया कि पुलिस में शिकायत करने के बाद भी अपराध दर्ज नहीं किया जा रहा है।

चुनिंदा लोगों को ही सदस्यता में स्थान
पीडि़त किसान ने आरोप लगाया कि पांच साल से सोसाइटी में कुछ चुनिंदा लोगों को ही सदस्य में स्थान दिया जा रहा है। चुनाव के समय अन्य लोगों के आवेदन अफसरों की मिलीभगत रद्द करा दिया जाता है। सेटिंग के आधार पर ही सोसाइटी में डाका डाला जा रहा है, किसानों के नाम पर सोसाइटी में खुलेआम अनियमितता हो रही है।

1.50 लाख किसान के खाते से निकला
खेती किसानी के लिए नाथियानवागांव सोसाइटी में 8 जून 2017 को 23 बोरी यूरिया, 29 बोरी सुपरफास्फेट एवं 5 बोरी धान बीज कुल कीमत 18 हजार 888 रुपए का ही किसान देवाराम के नाम पर रसीद कटी। दो माह बाद सोसाइटी से किसान को जानकारी मिली कि वह एक लाख 68 हजार का ऋणी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned