दसवीं की परीक्षा में मन मुताबिक रिजल्ट न आने से छात्रा थी उदास, उठा लिया ये खौफनाक कदम

छात्रा ने दसवीं बोर्ड की परीक्षा में पूरक आने से क्षुब्ध होकर फांसी लगाकर जान दे दी।

By: Deepak Sahu

Updated: 24 Mar 2020, 10:13 AM IST

कांकेर. छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में एक छात्रा को दसवीं बोर्ड की परीक्षा में पूरक आने से फांसी लगाने का मामला सामने आया है। पंखाजूर थाना क्षेत्र के ग्राम दोहगांव में एक छात्रा ने दसवीं बोर्ड की परीक्षा में पूरक आने से क्षुब्ध होकर फांसी लगाकर जान दे दी।

परीक्षा में पूरक आने से लगाई फांसी
जानकारी के मुताबिक छात्रा ने अपने मकान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। दोहगांव निवासी हेमा सागर(18) पिता रामानंद ने कक्षा दसवीं का परीक्षा दी थी रिजल्ट आने पर पूरक आने की जानकारी मिली जिससे वह उदास रहे लगी थी।

पड़ोसियों को दी सूचना
सोमवार सुबह जब घर में कोई नहीं था तब छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। कुछ देर बाद हेमा की मां आई तो दरवाजा अंदर से बंद था। काफी देर तक दरवाजे पर आवाज लगाने के बाद भी हेमा नहीं निकली तो मां ने पड़ोसियों को सूचना दी।

पुलिस को दी जानकारी
पड़ोसियों के आवाज लगाने पर भी जब हेमा बाहर नहीं निकली तो पड़ोसियों ने दरवाजा तोड़ा तो देखा हेमा फांसी के फंदे पर लटकी थी। आनन- फानन में उसे फंदे से उतरा गया लेकिन तब तक हेमा की मौत हो चुकी थी। घरवालों ने पंखाजूर थाना में घटना की जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस को पूछताछ में पता चला की हेमा दसवीं की छात्रा थी। कुछ दिनों पहले ही उसका रिजल्ट आया था जिसमे उसे पूरक आया था। जिससे वह उदास रहने लगी थी।

पुलिस ने आत्महत्या दर्ज कर शव का पंचनामा कर मर्ग कायम कर लिया और शव की पीएम करा आत्महत्या के कारणों की जांच कर रही है। वही हेमा की मौत से परिवार वालो का रो- रोकर बुरा हाल है।

Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned