इस साल किसानों की संख्या में हुई बढ़ोतरी, साथ ही 6 प्रतिशत तक बढ़ा खेती का क्षेत्रफल

मौसम की मार से भले ही किसान परेशान हैं, पर इस साल गत वर्ष की अपेक्षा 12 प्रतिशत किसानों की संख्या में इजाफा हुआ है।

By: Akanksha Agrawal

Updated: 03 Nov 2019, 10:39 AM IST

कांकेर. मौसम की मार से भले ही किसान परेशान हैं, पर इस साल गत वर्ष की अपेक्षा 12 प्रतिशत किसानों की संख्या में इजाफा हुआ है। किसानों की संख्या के साथ करीब 6 प्रतिशत खेती का क्षेत्रफल भी बढ़ा है। यानी इस साल एक लाख 90 हजार 638 हेक्टेयर में 70 हजार 462 किसान विभिन्न धान खरीदी केंद्रों पर विक्रय करेंगे। अच्छी बारिश के चलते इस साल धान का उत्पादन अधिक हुआ है। जबकि धान विक्रय के लिए पंजीयन अंतिम तिथि 31 अक्टूबर थी। वैसे तो जिले में 35 सहकारी समितियों के माध्यम से धान की खरीदी की जानी है।

वर्ष 2018-19 में एक लाख 80 हजार 943 हेक्टयेर में धान विक्रय के लिए 63 हजार 336 किसानों ने पंजीयन कराया था। निर्धारित लक्ष्य से अधिक धान की खरीदी गत साल शासन की ओर से किया गया था। इस साल 7 हजार 126 किसानों की संख्या बढ़ गई है। इन किसानों ने भी धान विक्रय के लिए पंजीयन कराया है। इस साल खेती का क्षेत्रफल भी 9 हजार 694 हेक्टेयर से अधिक बढ़ गए है। यानी इस साल गत वर्ष की अपेक्षा 12 पतिशत किसान तो 6 फीसदी रकबा बढ़ा है।

हर साल की तरह इस साल भी एक एकड़ में 15 क्विंटल से अधिक धान की खरीदी नहीं किया जाएगा। जबकि किसान दाना-दाना खरीदी बेचने के लिए तैयार है। शासन की ओर से किसी प्रकार का दिशा निर्देश नहीं आने पर किसानों के समक्ष चिंता सता रही कि इस साल अच्छी बारिश होने के बाद भी उत्पादन अधिक होगा। प्रति एकड़ धान खरीदी नहीं बढ़ा तो किसानों धान व्यापारियों को बेचने पर मजबूर होना पड़ेगा। इस वर्ष अचानक हुए बारिश ने तो किसानो के लिए मुसिबत और भी बढ़ा दिया है, पक चुके धान खराब होने की स्थिति में है। अंदरुनी क्षेत्र में अभी भी कहीं-कहीं बारिश जारी है, जिसके चलते खेती को खासा नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है।

किसानों का दाना-दान खरीदी करे सरकार
किसान आसाराम नेताम कहा चुनाव के समय कांग्रेस ने किसानों से वादा किया था कि दाना-दाना धान की खरीदी किया जाएगा। अभी तक धान खरीदी प्रति हेक्टेयर 15 क्विंटल लेने की बात किसानों से कही जा रही है। ऐसे में किसानों के साथ धोखा है। प्रदेश सरकार किसानों के दाना-दाना धान खरीदे अन्यथा किसान अब विरोध प्रदर्शन के लिए बाध होंगे।

प्रदेश सरकार से धान खरीदी क्षमता बढ़ाएं
किसान नेता केशरीचंद जैन ने कहा कि इस बार बारिश अच्छी होने के कारण उत्पादन अधिक होने का अनुमान है। ऐसे में किसानों से अगर पहले की तरह इस बार भी प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान खरीदी किया गया तो नुकसान होगा। प्रति एकड़ धान की खरीदी नहीं बढ़ी तो किसानों को शेष धान व्यापारियों के यहां बेचने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

धान खरीदी के नोडल अधिकारी एमडी सिन्हा ने बताया कि गत साल के अपेक्षा इस साल किसानों की संख्या और क्षेत्रफल भी बढ़ा है। इस साल कुल 70 हजार से अधिक किसान धान की विक्रय करेेंगे। खेती का क्षेत्रफल बढकऱ एक लाख 90 हजार हेक्टेयर से अधिक हो गया है।

Show More
Akanksha Agrawal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned