चोर की करतूत, मंदिर से पार कर दिया कीमती भगवान की मूर्ति

ग्राम बागोडार में भगवान राधा-कृष्ण की मूर्ति चोरी होने के बाद गांव में खलबली मची हुई है, जिसकी शिकायत लेकर ग्रामीणों ने शनिवार को कोतवाली पहुंच कर कार्रवाई की मांग की

By: चंदू निर्मलकर

Published: 03 Apr 2016, 12:10 PM IST

कांकेर. इन दिनों शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में चोरी का मामला बढ़ते ही जा रहा है। ग्राम बागोडार में भगवान राधा-कृष्ण की मूर्ति चोरी होने के बाद गांव में खलबली मची हुई है, जिसकी शिकायत लेकर ग्रामीणों ने शनिवार को कोतवाली पहुंच कर कार्रवाई की मांग की।

ग्रामीणों का कहना था कि गांव में 6 वर्ष पहले मंदिर निर्माण करवा कर स्थापित की गई राधाकृष्ण मूर्ति को होली के एक दिन कोई चुरा ले गया। घटना की जानकारी गांव में सरपंच को दी गई। चोरी के बाद 31 मार्च को पुन: विधि विधान से नई मूर्ति की स्थापना करवाई जा रही थी। इस दौरान गांव के ही विशाल मंडावी व उसके पुत्र अजय मंदिर स्थल में आकर महिलाओं से अभ्रद व्यवहार करने लगे।

उन्हे मना करने पर फिर विवाद करते हुए मूर्ति चोरी स्वयं करने की बात कहकर कहा कि मंदिर स्थल में किसी प्रकार की स्थापना नहीं होगी। मंदिर की जगह अपने नाम होने की बात कहकर ग्रामीणों से गाली गलौज की, जिसके बाद गांव की चुनेश्वरी साहू, जयश्वरी जैन, लक्ष्मी बाई, सरिता निषाद, रेखा साहू, फुलेश्वरी बाई, कुमारी बाई, आहेलिया बाई, निर्मला बाई, परमाबाई, सुरेखा, राधा, ननकी, लीला साहू सहित अन्य ग्रामीण कोतवाली पहुंचे और पुलिस को इसकी शिकायत की।

बुजुर्ग महिला का था घर
ग्रामीणों का कहना था कि मंदिर स्थल पर करीब 25 वर्ष पहले गांव में एक बुजुर्ग फूलोबाई यादव रहती थी, जिसकी कोई संतान नहीं थी। उसके देहांत के बाद पंचायत द्वारा नापजोख करवाई गई। शासकीय भूमि होने पर ग्रामीण महिला मंडल द्वारा सार्वजनिक उपयोग करने हेतु आरक्षित रखते हुए भगवान राधा-कृष्णा की प्राण प्रतिष्ठा की गई। नई मूर्ति चोरी होने के कारण 31 मार्च को प्रतिमा स्थापना के दौरान राम विशाल द्वारा धमकी देने से पूरे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। कोतवाली प्रभारी को ज्ञापन सौपकर उचित कार्रवाई की मांग की गई है।
चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned